लोड हो रहा है...
फ़ॉन्ट का आकारv: इस लेख के फ़ॉन्ट का आकार बढ़ाएं फ़ॉन्ट का डिफ़ॉल्ट आकार इस लेख के फॉन्ट का साइज घटाएं
लेख टूल पर जाएं

क़ुरआन के लिए शुरुआती मार्गदर्शक (3 का भाग 3)

रेटिंग:

विवरण: क़ुरआन सीखने की शुरुआत करने वाले लोगों के लिए इसके बुनियादी मुद्दों पर आधारित तीन-भाग का पाठ। भाग 3: क़ुरआन सीखने की विधि से संबंधित।

द्वारा Imam Mufti

प्रकाशित हुआ 08 Nov 2022 - अंतिम बार संशोधित 07 Nov 2022

प्रिंट किया गया: 65 - ईमेल भेजा गया: 0 - देखा गया: 1,986 (दैनिक औसत: 3)


उद्देश्य

·यह समझना कि क़ुरआन को कैसे सीखा जाए कि यह मार्गदर्शन का स्रोत बन जाए।

अरबी शब्द

·तफ़सीर - व्याख्या, विशेष रूप से क़ुरआन की समीक्षा।

हर मुसलमान को नियमित रूप से क़ुरआन पढ़ने की आदत डालनी चाहिए, जैसा की पैगंबर (उन पर अल्लाह की दया और आशीर्वाद हो) ने कहा:

“क़ुरआन पढ़ो, क्योंकि यह पुनरुत्थान के दिन अपने पढ़ने वाले के लिए एक समर्थक के रूप में आएगा।” (सहीह मुस्लिम)

एक नए मुसलमान को आस्था में दृढ़ रखने, आध्यात्मिक रूप से विकसित होने और क़ुरआन से मार्गदर्शन लेने के लिए क़ुरआन का एक अच्छा अनुवाद पढ़ना विशेष रूप से महत्वपूर्ण है। यह नही सोचना चाहिए कि अनुवाद को जल्द से जल्द खत्म कर दें, बल्कि इसके अर्थ को समझना और उस पर विचार करना चाहिए। जितना हो सके उतना पढ़ें, भले ही थोड़ा पढ़ें लेकिन इसे नियमित रूप से पढ़ें।

मुझे क़ुरआन कैसे सीखना चाहिए?

(1) क़ुरआन को उचित इरादे से पढ़ें

एक मुसलमान को क़ुरआन सिर्फ अल्लाह की खुशी के लिए पढ़ना चाहिए ताकि इससे मार्गदर्शन मिल सके और इनाम मिल सके। सबसे पहले, इसे लोगों की प्रशंसा हासिल करने के लिए नहीं पढ़ना चाहिए। दूसरा, सत्य को खोजने और उसका पालन करने के लिए इसे ईमानदारी से पढ़ना चाहिए,

(2) अच्छा समय और स्थान चुनें, ध्यान से पढ़ें, और विचार करें

क़ुरआन को स्पष्ट मन से और उचित तरीके से पढ़ना चाहिए। क़ुरआन पढ़ने के लिए सबसे अच्छा समय चुनें जो चिंतन के अनुकूल हो। क़ुरआन में अल्लाह कहता है:

“वास्तव में, इसमें निश्चय शिक्षा है उसके लिए, जिसके दिल हों अथवा कान धरे और वह उपस्थित हो।” (क़ुरआन 50:37)

सबसे पहले, व्यक्ति के पास संदेश को ग्रहण करने के लिए पात्र होना चाहिए - 'हृदय'। यदि यह पात्र संदेश ग्रहण नहीं कर सकता है, तो सिर्फ पढ़ने से कुछ भी 'प्राप्त' नहीं होगा। दूसरा, 'कान दो' का अर्थ है जो ध्यान से सुने, जो कहा जा रहा है उसे समझने की कोशिश करे। तीसरा, 'सतर्क' का अर्थ है कि उसका हृदय मौजूद हो और जो कहा जा रहा है उसके अनुरूप हो। यदि ये सभी शर्तें मौजूद हैं, तो व्यक्ति को क़ुरआन से लाभ होगा और यह उसका मार्गदर्शन करेगा। यह ध्यान में रखना चाहिए कि विचार करना अपने आप में लक्ष्य नहीं है; यह क़ुरआन की शिक्षाओं को अपने जीवन में लागू करने का एक साधन है।

(3) क़ुरआन को सही और गलत का फैसला करने दें

क़ुरआन को आपका मार्गदर्शन करने दें। इसे आपको सीधा रास्ता दिखाने दें। इसे खुले दिमाग से पढ़ें। यदि किसी व्यक्ति ने पहले से ही अपना मन बना लिया है, तो वे अपने विचारों के समर्थन के लिए क़ुरआन पढ़ेगा, और ऐसे मे क़ुरआन कभी उनका मार्गदर्शन नहीं करेगा, क्योंकि इसे ऐसा करने का अवसर नहीं दिया गया। एक नए मुसलमान को क़ुरआन के अनुसार अपने विचारों और दृष्टिकोणों को बदलने की जरूरत है, न कि किसी की पूर्वकल्पित धारणाओं के अनुरूप इसकी व्याख्या करने की। विनम्रता के साथ पढ़ना, आपने जो कुछ भी संस्कृति और परंपराओं से सीखा है उसे अलग रखना, नए पाठ को कुछ भिन्न और नए के रूप में लेना। इसे आप का नेतृत्व करने दें, बजाय इसके कि आप इसे अपने पहले से सीखे गए विश्वास में ढालने का प्रयास करें।

(4) एहसास करें कि क़ुरआन में सब कुछ सच है

“अल्लाह से अधिक सच्चा कौन हो सकता है?” (क़ुरआन 4:87)

विषय जो भी हो, अल्लाह सच कहता है। चाहे वह अनदेखी दुनिया, मृत्यु के बाद का जीवन, इतिहास, प्राकृतिक कानून, समाजशास्त्र, या किसी अन्य से संबंधित हो, यह सब हमारे ईश्वर की ओर से आता है। कभी-कभी कोई व्यक्ति कुछ पढ़ सकता है और महसूस कर सकता है कि यह उसके विपरीत है जो उसके आसपास होता है। ऐसे मामले में, शुरुआत करने वाले को यह महसूस करना चाहिए कि या तो उन्होंने गलत समझा कि क़ुरआन क्या कह रहा है और उन्हें बेहतर समझ की तलाश करनी चाहिए, या यह कि वे जो पढ़ रहे हैं उसकी धारणा उनके पालन-पोषण से सलग है। एक नए आस्तिक के लिए यह आवश्यक है कि वह अपनी समझ की कमी के कारण किसी छंद पर संदेह न करे, और अपने धर्म और उसकी सच्चाई के प्रति आश्वस्त रहे। क़ुरआन पढ़ते रहें, अच्छे इस्लामी विद्वानों और सीखे हुए पुरुषों और महिलाओं से स्पष्टीकरण लें, और मान्यता प्राप्त समीक्षकों (तफ़सीर) से परामर्श लें जैसे कि इब्न कथीर।

(5) क़ुरआन आपको संबोधित करता है

महसूस करें कि क़ुरआन आपके लिए अवतरित हुआ है। अल्लाह आपसे सीधे बात कर रहा है। क़ुरआन न केवल पैगंबर मुहम्मद (उन पर अल्लाह की दया और आशीर्वाद हो) और उनके साथियों के लिए, बल्कि न्याय के दिन तक हर व्यक्ति के लिए प्रकट किया गया था। यह हमेशा रहने वाले ईश्वर का वचन है, जो हमेशा के लिए मान्य है, और सभी समय के लोगों को संबोधित करता है। जब अल्लाह आदेश देता है, तो वह आपको संबोधित करता है। यह आपका व्यक्तिगत मार्गदर्शक है, आपकी आत्मा के रोगों का उपचार है। हर एक अंश में आपके लिए एक संदेश है। अल्लाह का हर गुण आपको एक समान संबंध बनाने के लिए कहता है। मृत्यु के बाद के जीवन का हर विवरण आपको इसकी तैयारी करने के लिए कहता है। स्वर्ग का हर विवरण आपको इसके लिए प्रेरित करने के लिए प्रोत्साहित करता है, नर्क का हर विवरण आपको इससे सुरक्षा पाने के लिए प्रेरित करता है। प्रत्येक चरित्र या तो अनुकरण करने या बचने के लिए एक मॉडल है। हर संवाद में आप शामिल हैं। प्रत्येक कानूनी निषेधाज्ञा, भले ही यह आपकी स्थिति पर लागू न हो, आपके लिए कुछ संदेश देती है। यह अहसास आपके दिल को जगाए रखेगा। प्रसिद्ध साथी अब्दुल्ला बिन मसूद ने कहा:

“जब क़ुरआन कहता है, 'ऐ विश्वास करने वालो...,' तब आपको ध्यान से सुनना चाहिए, क्योंकि यह या तो आपको आदेश दे रहा है कि आपके लिए क्या अच्छा है या आपके लिए क्या बुरा है।”

(6) पाठ को समय और स्थान की बाधाओं से मुक्त करें

क़ुरआन आधुनिक जीवन की प्रासंगिकता का एक जीवित पाठ है। निस्संदेह क़ुरआन के कई छंदो का एक ऐतिहासिक संदर्भ है; वे कुछ लोगों या एक विशिष्ट घटना का उल्लेख करते हैं। कुछ छंदों को सही ढंग से समझने के लिए ऐतिहासिक संदर्भ महत्वपूर्ण है। लेकिन उदाहरण और नैतिक सबक हमारे जीवन के लिए प्रासंगिक हैं और हमारे अपने समय और संदर्भ के लिए मार्गदर्शन देते हैं। महसूस करने से व्यक्ति को यह एहसास होगा कि भले ही क़ुरआन एक प्राचीन राष्ट्र के बारे में बता रहा है, लेकिन इसके नैतिक सबक वर्तमान घटनाओं पर लागू होते हैं।

पाठ उपकरण
बेकार श्रेष्ठ
असफल! बाद में पुन: प्रयास। आपकी रेटिंग के लिए धन्यवाद।
हमें प्रतिक्रिया दे या कोई प्रश्न पूछें

इस पाठ पर टिप्पणी करें: क़ुरआन के लिए शुरुआती मार्गदर्शक (3 का भाग 3)

तारांकित (*) फील्ड आवश्यक हैं।'

उपलब्ध लाइव चैट के माध्यम से भी पूछ सकते हैं। यहाँ.
अन्य पाठ स्तर 3