लोड हो रहा है...
फ़ॉन्ट का आकारv: इस लेख के फ़ॉन्ट का आकार बढ़ाएं फ़ॉन्ट का डिफ़ॉल्ट आकार इस लेख के फॉन्ट का साइज घटाएं
लेख टूल पर जाएं

स्वर्गदूतों में विश्वास

रेटिंग:

विवरण: स्वर्गदूतों में विश्वास, उनके अस्तित्व, विशेषताओं, कार्यों, संख्याओं, नामों और क्षमताओं के बारे में इस्लामी दृष्टिकोण पर एक पाठ।

द्वारा Imam Mufti

प्रकाशित हुआ 08 Nov 2022 - अंतिम बार संशोधित 07 Nov 2022

प्रिंट किया गया: 21 - ईमेल भेजा गया: 0 - देखा गया: 1,835 (दैनिक औसत: 3)


आवश्यक शर्तें

·इस्लाम के स्तंभों और आस्था के अनुच्छेदों का परिचय (2 भाग)।

उद्देश्य

·यह जानना कि स्वर्गदूतों में इस्लामी विश्वास क्या है।

·इस्लाम में वर्णित स्वर्गदूतों की वास्तविकता से खुद को परिचित करना।

·स्वर्गदूतों की संख्या, नाम, योग्यता और कार्यों के बारे में जानना।

·यह जानना की स्वर्गदूतों पर विश्वास करने का मतलब यह नहीं है कि अल्लाह को उनकी ज़रूरत है।

अरबी शब्द

·ईमान - आस्था, विश्वास या दृढ़ विश्वास।

·काबा - मक्का शहर में स्थित घन के आकार की एक संरचना। यह एक केंद्र बिंदु है जिसकी ओर सभी मुसलमान प्रार्थना करते समय अपना रुख करते हैं।

स्वर्गदूतों में विश्वास करना इस्लाम में विश्वास के छह स्तंभों में से एक है, इसे ईमान भी कहते हैं। इसका अर्थ है:

(i) स्वर्गदूतों की वास्तविकता में विश्वास

(ii) स्वर्गदूतों के नाम हैं

(iii) स्वर्ग और पृथ्वी में स्वर्गदूतों के कार्य और क्षमताएं।

स्वर्गदूतों की वास्तविकता

स्वर्गदूत 'प्रकृति की अच्छी ताकतें', होलोग्राम चित्र या भ्रम नहीं हैं। न तो स्वर्गदूत एक मोटे बच्चे की तरह हैं जिसके सिर पर एक प्रभामंडल है जैसा कि अक्सर ईसाई दृष्टांतों में दर्शाया गया है। वे वास्तविक हैं, बनाए गए हैं लेकिन आम तौर पर हमारे आंखो से छिपे हुए हैं। उनके पास कोई दिव्य गुण नहीं हैं और वे ब्रह्मांड को चलाने वाले ईश्वर के सहयोगी नहीं हैं। इसके अलावा, वे पूजा या प्रार्थना के लायक नहीं हैं क्योंकि वे हमारे अनुरोध पर हमारी मदद नहीं करते हैं, न ही वे हमारी प्रार्थनाओं को ईश्वर तक पहुंचाते हैं। वे सभी ईश्वर के अधीन रहते हैं और उसकी आज्ञाओं का पालन करते हैं। वे उतरे हुए स्वर्गदूत नहीं हैं; वे 'अच्छे' और 'बुरे' स्वर्गदूतों में विभाजित नहीं हैं। इंसान मरने के बाद स्वर्गदूत नहीं बनता है।

स्वर्गदूतों को मनुष्यों से पहले प्रकाश से बनाया गया था। स्वर्गदूत क़ुरआन में वर्णित पंखों वाले सुंदर प्राणी हैं।

स्वर्गदूत अलग-अलग पद और कार्य के लिए हैं इसलिए वे अलग-अलग आकार, स्थिति और योग्यता के हैं। सबसे अच्छे वे थे जो बद्र की लड़ाई में उपस्थित थे और पैगंबर और मक्का के बुतपरस्तों के बीच लड़े थे।

वे बड़े आकार के हैं। उनमें से सबसे बड़े जिब्राईल हैं। हमारे पैगंबर ने वास्तव में उन्हें उनके मूल रूप में देखा था। उसके छह सौ पंख थे और उसने क्षितिज को अवरुद्ध कर दिया था। उसके पंखों से जवाहरात, मोती और माणिक ऐसे रूप में गिरे जिसके बारे में केवल अल्लाह ही जानता है। इसके अलावा, ईश्वर के सिंहासन के सेवक सबसे महान स्वर्गदूतों में से हैं। वे आस्तिकों से प्यार करते हैं और अल्लाह से उनके पापों को माफ करने की याचना करते हैं। वे अल्लाह के सिंहासन को थामे हैं, जिसके बारे में पैगंबर ने कहा:

“मुझे अल्लाह के सिंहासन को थामने वाले दूतों में से एक के बारे में बोलने की अनुमति दी गई है। उसके कानों और कंधों के बीच की दूरी सात सौ साल की यात्रा के बराबर है।” (अबू दाऊद)

वे खाते-पीते नहीं हैं। जब इब्राहीम ने एक बछड़े को स्वर्गदूतों (मेहमान) के सामने रखा जो उसके लिए एक बेटे की खुशखबरी लेकर आए थे, तो उन्होंने खाने से इनकार कर दिया:

“फिर चुपके से अपने परिजनों की ओर गया और एक मोटा (भुना हुआ) बछड़ा लाया। फिर रख दिया उनके पास, उसने कहाः तुम क्यों नहीं खाते हो? फिर अपने दिल में उनसे कुछ डरा, उन्होंने कहाः डरो नहीं और उसे शुभ सूचना दी एक ज्ञानी पुत्र की।” (क़ुरआन 51:26-28)

स्वर्गदूत अल्लाह को याद करने और उसकी पूजा करने से न तो ऊबते हैं और न थकते हैं:

“वे रात और दिन उसकी पवित्रता का गान करते हैं तथा आलस्य नहीं करते।” (क़ुरआन 21:20)

स्वर्गदूतों की संख्या

स्वर्गदूत कितने हैं? सिर्फ अल्लाह ही जानता है। अल-बेत अल-मामूर, जोकाबा के ऊपर स्वर्ग में एक पवित्र घर है,। हर दिन सत्तर हजार स्वर्गदूत वहां जाते हैं और चले आते हैं, फिर कभी दोबारा वहां नहीं जाते, उनके बाद एक दूसरा समूह जाता है।[1]

अल्लाह के दूत ने कहा:

“उस दिन सत्तर हजार रस्सियों के द्वारा नर्क निकाला जाएगा, और प्रत्येक रस्सी को सत्तर हजार स्वर्गदूत खींचेंगे।” (सहीह मुस्लिम)

स्वर्गदूतों के नाम

हमें उन स्वर्गदूतों के नामों पर विश्वास करना चाहिए जिनका उल्लेख क़ुरआन और सुन्नत में किया गया है। जिसमे शामिल हैं:

गेब्रियल (अरबी में जिब्रील), माइकल (मिका'ईल), इसराफील, मलिक (नर्क के द्वारपाल), मुनकर और नकीर, और हारुत और मारुत और अन्य।

राफेल और अजराइल नाम इस्लामी ग्रंथों में नहीं दिए गए हैं। उपरोक्त में से बाइबिल में केवल गेब्रियल और माइकल का उल्लेख किया गया है।

स्वर्गदूतों की क्षमताएं

स्वर्गदूतों के पास अल्लाह की ओर से दी गई बड़ी शक्तियां हैं।

उनमें अपने से अलग रूप धारण करने की क्षमता होती है। यीशु के गर्भाधान के समय, अल्लाह ने एक आदमी के रूप में मैरी के पास गेब्रियल को भेजा, जैसा कि अल्लाह क़ुरआन में कहता है:

“…फिर हमने उसके पास अपना स्वर्गदूत भेजा, और वह उसके सामने एक आदमी के रूप में प्रकट हुआ।” (क़ुरआन 19:17)

इब्राहीम के पास भी स्वर्गदूत मानव रूप में आए, और जब तक उन्होंने उसे ऐसा नहीं बताया, तब तक वह नहीं जानता था कि वे स्वर्गदूत हैं। उसी तरह, स्वर्गदूत लूत के पास ख़ूबसूरत चेहरों वाले नौजवानों के रूप में उसे मुसीबत से बचाने आए। जिब्रील पैगंबर मुहम्मद (उन पर अल्लाह की दया और आशीर्वाद हो) के पास अलग-अलग रूपों में आते थे। कभी वे पैगंबर के सुन्दर शिष्यों में से एक के रूप में प्रकट होते थे, तो कभी एक खानाबदोश के रूप में।

स्वर्गदूतों के पास कुछ परिस्थितियों में मानव रूप धारण करने की क्षमता होती है, जैसे कि वे उस आदमी के पास आए जिसने सौ लोगों को मार डाला और जो अंधे, गंजे और कोढ़ी के पास आए।

आज मनुष्य को ज्ञात सबसे बड़ी गति प्रकाश की गति है; स्वर्गदूत इससे कहीं ज़्यादा तेज़ी से यात्रा करने में सक्षम हैं। किसी जिज्ञासु के पैगंबर से सवाल पूछने से पहले ही जिब्रील अल्लाह की तरफ से जवाब ले आते थे।

जिब्रील मानवजाति के लिए ईश्वर के दूत हैं। उन्होंने अल्लाह की तरफ से अल्लाह के दूतों को रहस्योद्घाटन पहुंचाया। अल्लाह कहता है:

“कह दो कि जो व्यक्ति जिब्रील का शत्रु है, (तो रहे)। उसने तो अल्लाह की अनुमति से इस संदेश (क़ुरआन) को आपके दिल पर उतारा है, जो इससे पूर्व की सभी पुस्तकों का प्रमाणकारी तथा आस्तिकों के लिए मार्गदर्शन एवं (सफलता) का शुभ समाचार है।’” (क़ुरआन 2:97)

स्वर्गदूत के कार्य

कुछ स्वर्गदूतों को भौतिक संसार में ईश्वर के कानून को क्रियान्वित करने का जिम्मा सौंपा गया है। मिका'ईल बारिश के लिए है, अल्लाह जहां चाहता है उन्हें निर्देशित करता है। मिका'ईल के सहायक हैं, जो अल्लाह की आज्ञा से वही करते हैं जो मिका'ईल उनसे कहता है; वे हवाओं और बादलों को निर्देशित करते हैं, जैसा अल्लाह चाहता है। इस्राफील को तुरही फूंकने का काम दिया है, जिसे न्याय के दिन की शुरुआत में फूंका जाएगा। मृत्यु के समय आत्माओं को शरीर से बाहर निकालने के लिए अन्य स्वर्गदूत हैं: ये मृत्यु के दूत और उनके सहायक हैं। अल्लाह कहता है:

“आप कह दें कि तुम्हारा प्राण निकाल लेगा मौत का स्वर्गदूत, जो तुमपर नियुक्त किया गया है, फिर अपने पालनहार की ओर फेर दिये जाओगे।’” (क़ुरआन 32:11)

मुनष्य के संरक्षक स्वर्गदूत भी होते हैं, जो जीवन भर आस्तिक की रक्षा करते हैं, जब वह घर पर रहता है या यात्रा करता है, जब वह सो रहा होता है या जागता है। ये "रखवाले फ़रिश्ते" हैं जिनके बारे में अल्लाह कहता है:

“प्रत्येक (व्यक्ति) के लिए रखवाले (स्वर्गदूत) हैं। उसके आगे तथा पीछे, जो अल्लाह के आदेश से, उसकी रक्षा कर रहे हैं।” (क़ुरआन 13:10-11)

मनुष्य के अच्छे और बुरे कर्मों को रिकॉर्ड रखने के लिए अन्य स्वर्गदूत हैं। ये "माननीय लेखक" (किरामन कातिबीन) हैं।

कब्र में लोगों का परीक्षण करने के लिए मुनकर और नकीर स्वर्गदूत हैं।

इनमें स्वर्ग के रखवाले और नर्क के उन्नीस 'पहरेदार' हैं जिनके लीडर 'मलिक' है।

भ्रूण में आत्मा को सांस लेने और उसके प्रावधानों, जीवन-काल, कार्यों, उसकी ख़ुशी और दुःख को लिखने के लिए के लिए अन्य स्वर्गदूत हैं।

कुछ देवदूत भ्रमण करने वाले होते हैं, दुनिया भर में उन सभाओं की तलाश में यात्रा करते हैं जहां ईश्वर को याद किया जाता है। ईश्वर की स्वर्गीय सेना का गठन करने वाले स्वर्गदूत भी हैं, जो पंक्तियों में खड़े होते हैं, जो कभी थकते या बैठते नहीं हैं, और अन्य जो अल्लाह के सामने झुकते हैं और कभी अपना सिर नहीं उठाते हैं, हमेशा अल्लाह की पूजा करते हैं।

जैसा कि हम ऊपर से सीखते हैं, स्वर्गदूत ईश्वर की एक भव्य रचना हैं, जो संख्या, भूमिकाओं और क्षमताओं में भिन्न हैं। ईश्वर को इन प्राणियों की कोई आवश्यकता नहीं है, लेकिन उनका ज्ञान और उन पर विश्वास होने से ईश्वर के प्रति विस्मय में वृद्धि होती है, ईश्वर अपनी इच्छानुसार सृजन करने में सक्षम है, क्योंकि वास्तव में उसकी रचना की भव्यता सृष्टिकर्ता की भव्यता का प्रमाण है।



Footnotes:

[1]सहीह अल-बुखारी

प्रश्नोत्तरी और त्वरित नेविगेशन
पाठ उपकरण
बेकार श्रेष्ठ
असफल! बाद में पुन: प्रयास। आपकी रेटिंग के लिए धन्यवाद।
हमें प्रतिक्रिया दे या कोई प्रश्न पूछें

इस पाठ पर टिप्पणी करें: स्वर्गदूतों में विश्वास

तारांकित (*) फील्ड आवश्यक हैं।'

उपलब्ध लाइव चैट के माध्यम से भी पूछ सकते हैं। यहाँ.
अन्य पाठ स्तर 1