लोड हो रहा है...
फ़ॉन्ट का आकारv: इस लेख के फ़ॉन्ट का आकार बढ़ाएं फ़ॉन्ट का डिफ़ॉल्ट आकार इस लेख के फॉन्ट का साइज घटाएं
लेख टूल पर जाएं

एक अच्छा दोस्त कौन है? (भाग 2 का 2)

रेटिंग:

विवरण: अच्छे, करीबी मुस्लिम मित्र पर दो भागो वाला पाठ। भाग 2 अच्छे मुस्लिम मित्र खोजने और बनाने के बारे में सुझाव देता है।

द्वारा Imam Mufti (© 2015 NewMuslims.com)

प्रकाशित हुआ 08 Nov 2022 - अंतिम बार संशोधित 07 Nov 2022

प्रिंट किया गया: 22 - ईमेल भेजा गया: 0 - देखा गया: 1,661 (दैनिक औसत: 3)


उद्देश्य

·उन जगहों के बारे में जानना जहां कोई व्यक्ति दोस्त बनाने के लिए मुसलमानों से मिल सकता है।

·बातचीत में शामिल होने के कुछ सुझावों को समझना।

·एक अच्छा दोस्त कैसे बनें?

अरबी शब्द

·अस-सलामु अलैकुम - आप पर शांति और आशीर्वाद बना रहे।

·ईद - त्योहार या उत्सव। मुसलमान दो प्रमुख धार्मिक छुट्टियां मनाते हैं, जिन्हें ईद-उल-फितर (जो रमजान के बाद आता है) और ईद-उल-अज़हा (जो हज के समय होता है) कहा जाता है।

·हिजाब - हिजाब शब्द के कई अलग-अलग अर्थ हैं, जिनमें छुपाना, छुपना और पर्दा शामिल हैं। यह आमतौर पर एक महिला के हेडस्कार्फ़ को संदर्भित करता है और व्यापक रूप से मामूली कपड़ों और व्यवहार को संदर्भित करता है।

·रमजान - इस्लामी चंद्र कैलेंडर का नौवां महीना। यह वह महीना है जिसमें अनिवार्य उपवास निर्धारित किया गया है।

·सलाम - इस्लामी अभिवादन जैसे ' अस-सलामु अलैकुम।'

सुझाव 1. मुसलमानों से कहां मिलें?

Who Is a Good Friend21.jpgघनिष्ठ संबंध रातोंरात नहीं बनते, लेकिन अन्य मुसलमानों से मिलने और उनसे दोस्ती करने के लिए आप कुछ कदम उठा सकते हैं।

साप्ताहिक आधार पर शुक्रवार की नमाज़ और कुछ अन्य नमाज़ों में भाग लें। भले ही यह पूजा का समय होता है, समाजीकरण का नहीं, आप उन साथी मुसलमानों को जान पाएंगे जो नियमित रूप से मस्जिद में आते हैं और आप उनके साथ एक विशेष आध्यात्मिक बंधन विकसित कर पाएंगे।

अपने स्थानीय मस्जिद या इस्लामी केंद्र में नए मुसलमानों के लिए सामान्य लगाव वाले अन्य लोगों से मिलने के समारोह मे जाएं। www.facebook.com और www.twitter.com जैसी वेबसाइटें स्थानीय समूहों को खोजने या अपना खुद का समूह शुरू करने और समान रुचियों वाले अन्य लोगों से जुड़ने में आपकी सहायता कर सकती हैं।

नए मुसलमानों से मिलने के साथ-साथ दूसरों की मदद करने के लिए स्वयंसेवा एक शानदार तरीका हो सकता है। इस्लामिक केंद्र हमेशा ईद के करीब और साल के दौरान रमजान या अन्य प्रमुख कार्यक्रमों में स्वयंसेवकों की तलाश करते हैं। यह अन्य मुसलमानों के साथ जुड़ने का एक उत्कृष्ट अवसर होता है।

अपनी मस्जिद में सामुदायिक रात्रिभोज में भाग लें जो आम तौर पर हर महीने किया जाता है। यहां तक ​​​​कि अगर आप पारंपरिक भोजन के अभ्यस्त नहीं हैं या ये आपको मसालेदार लगता है, तो आप सामाजिक रूप से आराम के माहौल में नए मुसलमानों से मिल पाएंगे।

अपने इलाके में या पड़ोसी शहरों या राज्यों में मुस्लिम समुदाय के कार्यक्रमों, सम्मेलनों और व्याख्यानों में भाग लें जहां आप समान रुचियों वाले लोगों से मिल सकते हैं। आप नए लोगों से मिलेंगे, नए खाद्य पदार्थ खाएंगे, और आपको कपड़े और किताबें खरीदने का मौका मिलेगा।

सुझाव 2. बातचीत में शामिल होना सीखें

कुछ लोग सहज रूप से किसी भी स्थान पर किसी के साथ बातचीत शुरू करना जानते हैं। यदि आप ऐसे नहीं हैं, तो यहां किसी नए व्यक्ति के साथ बातचीत शुरू करने के कुछ आसान तरीके दिए गए हैं:

इस्लामी अभिवादन का अभ्यास करें और आत्मविश्वास से हाथ मिलाएं। बहुत से लोग 'अस-सलामु अलैकुम' कहने में संघर्ष करते हैं । आपको इसका अभ्यास करना होगा ताकि सामाजिक समारोहों में यह आपकी आदत बन जाए। याद रखें, पैगंबर ने कहा, "जब दो मुसलमान मिलते हैं (सलाम करते हैं), और हाथ मिलाते हैं, तो उनके (एक दूसरे के साथ) अलग होने से पहले उनके पापों को क्षमा कर दिया जाता है।" (अबू दाऊद)

मस्जिद और अपने आसपास के मुसलमानों या किसी अवसर पर टिप्पणी करें। आप कुछ सकारात्मक टिप्पणी कर सकते हैं, जैसे: "मुझे मस्जिद पसंद है," या "खाना बहुत अच्छा है। क्या आपने चिकन खाने की कोशिश की है?”

ऐसे सवाल पूछें जिसका उत्तर हां या ना से अधिक हो। ऐसे प्रश्न पूछें जिसमे कौन, कहां, कब, क्या, क्यों, या कैसे आता है है। उदाहरण के लिए,

·“यहां तुम्हारे जानने वाले कौन लोग हैं?”

·“आप आमतौर पर शुक्रवार की नमाज़ के लिए कहां जाते हैं?”

·“आप यहां कब स्थानांतरित हुए थे?”

·“खाना कैसा है?”

अधिकांश लोगों को अपने बारे में बात करने में मज़ा आता है इसलिए प्रश्न पूछना बातचीत शुरू करने का एक अच्छा तरीका है।

तारीफ करें। उदाहरण के लिए, "मुझे आपका हिजाब बहुत पसंद है, क्या मैं पूछ सकता हूं कि आपको यह कहां से मिला?" या "लगता है कि आपने पहले भी ऐसा किया है, क्या आप मुझे दिखा सकते हैं?”

प्रभावी ढंग से सुनें। लोगों ने देखा कि जब वे पैगंबर मुहम्मद से बात करते थे तो ऐसा लगता था कि पैगंबर सिर्फ उनकी सुनने में रुचि रखते थे, वह पूरी तरह से ध्यान केंद्रित रखते थे। प्रभावी संचार की कुंजियों में से एक है बोलने वाले पर पूरी तरह से ध्यान केंद्रित करना और जो कहा जा रहा है उसमें रुचि दिखाना। कभी-कभी सिर हिलाएं और उस व्यक्ति पर मुस्कुराएं। पैगंबर ने कहा, "अपने भाइयों को देखकर मुस्कुराना दान का कार्य है" (तिर्मिज़ी)। बोलने वाले को "हां" या "हुंह" जैसे छोटे मौखिक संकेतों के साथ जारी रखने के लिए प्रोत्साहित करें और बीच में न टोकें।

सुझाव 3. एक अच्छा दोस्त कैसे बनें

क़ुरआन में अल्लाह कहता है, "हे मनुष्यो! हमने तुम्हें पैदा किया एक नर तथा नारी से तथा बना दी हैं तुम्हारी जातियां तथा प्रजातियां, ताकि एक-दूसरे को पहचानो" (क़ुरआन 49:13)। सिर्फ 'उनको' हमें जानने की जरूरत नहीं है, हमें भी 'उन्हें' जानने की जरूरत है। हमें अपने आराम क्षेत्र से बाहर निकलने की जरूरत है।

याद रखें कि एक दोस्त बनाना एक रिश्ते की शुरुआत है जिसे गहरा होने में समय लगेगा। दोस्त बनना एक ऐसी प्रक्रिया है जिसके लिए समय, प्रयास और दूसरे व्यक्ति में वास्तविक रुचि की आवश्यकता होती है। कुछ सरल चरणों का पालन करें:

·वैसा दोस्त बनें जैसा दोस्त आप अपने लिए चाहते हैं। अपने मित्र के साथ वैसा ही व्यवहार करें जैसा आप चाहते हैं कि वे आपसे व्यवहार करें। पैगंबर ने सलाह दी, "आप मे से किसी की भी आस्था तब तक नही है जब तक कि आप अपने भाई के लिए वह न चुने जो आप अपने लिए चुनते हैं।" (सहीह अल-बुखारी, सहीह मुस्लिम)

·एक अच्छा श्रोता बनें। किसी के साथ एक ठोस दोस्ती विकसित करने के लिए, उनकी बात सुनने और उनका समर्थन करने के लिए तैयार रहें, जैसा आप उनसे उम्मीद करते हैं।

·दोस्ती में निवेश करें। नियमित ध्यान के बिना कोई दोस्ती नहीं पनपेगी। अपने नए मुस्लिम मित्र को रात के खाने के लिए आमंत्रित करें और उनके साथ गतिविधियों की योजना बनाएं।

·अपने दोस्त को स्पेस दें। बहुत ज्यादा जरूरतमंद न बनें और सुनिश्चित करें कि अपने मित्र की उदारता का दुरुपयोग न करें।

·क्षमाशील बनें। कोई भी व्यक्ति पूर्ण नहीं होता है और प्रत्येक मित्र गलतियां करेगा। माफ करना सीखिए, इससे आप दोनों के बीच दोस्ती का रिश्ता और गहरा होगा। अल्लाह ने पवित्र क़ुरआन में विश्वास करने वालों का वर्णन उन लोगों के रूप में किया है जो लगातार ईर्षा, घृणा और द्वेष से मुक्त दिलों को साफ करने का प्रयास करते हैं। वे इसे प्राप्त करने के लिए अल्लाह की मदद के लिए प्रार्थना करते हैं, "ऐ हमारे पालनहार! हमें क्षमा कर दे तथा हमारे उन भाईयों को, जो हमसे पहले ईमान लाये और न रख हमारे दिलों में कोई बैर उनके लिए, जो ईमान लाये। ऐ हमारे पालनहार! तू अति करुणामय, दयावान् है।” (क़ुरआन 59:10)

प्रश्नोत्तरी और त्वरित नेविगेशन
पाठ उपकरण
बेकार श्रेष्ठ
असफल! बाद में पुन: प्रयास। आपकी रेटिंग के लिए धन्यवाद।
हमें प्रतिक्रिया दे या कोई प्रश्न पूछें

इस पाठ पर टिप्पणी करें: एक अच्छा दोस्त कौन है? (भाग 2 का 2)

तारांकित (*) फील्ड आवश्यक हैं।'

उपलब्ध लाइव चैट के माध्यम से भी पूछ सकते हैं। यहाँ.
अन्य पाठ स्तर 8