लोड हो रहा है...
फ़ॉन्ट का आकारv: इस लेख के फ़ॉन्ट का आकार बढ़ाएं फ़ॉन्ट का डिफ़ॉल्ट आकार इस लेख के फॉन्ट का साइज घटाएं
लेख टूल पर जाएं

अपने चरित्र को सुधारना

रेटिंग:

विवरण: अच्छे नैतिक चरित्र के विकास के महत्व पर एक परिचयात्मक पाठ।

द्वारा Imam Mufti (© 2012 IslamReligion.com)

प्रकाशित हुआ 08 Nov 2022 - अंतिम बार संशोधित 07 Nov 2022

प्रिंट किया गया: 23 - ईमेल भेजा गया: 0 - देखा गया: 1,815 (दैनिक औसत: 3)


उद्देश्य

·समझना कि चरित्र निर्माण आस्था से संबंधित है, और नारों पर आधारित नही है।

·अल्लाह के पैगंबरो और अच्छे चरित्र के बीच संबंध को समझना।

·अच्छे चरित्र पर पैगंबर मुहम्मद की कुछ हदीसों का अर्थ जानना।

·अच्छे चरित्र के तीन मूल सिद्धांतों को पहचानना।

नई शर्तें

·खुलुक - चरित्र या आंतरिक प्राकृतिक स्वभाव

PerfectingOurCharacter.jpgहम ऐसे युग में रहते हैं जहां चरित्र मर चुका है, जहां नैतिकता अच्छे या बुरे के बिना मौजूद है। आधुनिक समाज ने नैतिकता को ज्यादातर सिर्फ कहावतों तक सीमित कर दिया है: "शांत रहो, नियमों का पालन करो," "बस ना कहो," "बस कर दो," "सही काम करो।”

चरित्र का निर्माण दृढ़ विश्वासों (मजबूत विश्वासों) और मुसीबत के समय उन दृढ़ विश्वासों के साथ खड़े होने की क्षमता से होता है। इस्लाम यही सिखाता है: आस्तिक पर दबाव डाल के, सीमित कर के, बाध्य कर के, और मजबूर करके व्यक्तिगत चरित्र में सुधार के लिए स्पष्ट दिशानिर्देश। यह स्थायी नैतिक मूल्य देता है जो व्यक्ति और इस प्रकार समाज के चरित्र में सुधार करता है। यहां तक ​​​​कि अरबी शब्द "खुलुक" किसी व्यक्ति के चरित्र या उसके आंतरिक, प्राकृतिक स्वभाव को बताता है। अगर इस्लाम का उचित मार्गदर्शन के साथ पालन किया जाये, तो ये व्यक्ति के मूल (खुलुक) में सुधार करता है।

इस्लाम अच्छे चरित्र को अल्लाह के पैगंबरो का एक गुण मानता है जिसका कोई भी मुसलमान अपने दैनिक जीवन में अनुकरण करना चाहेगा। अल्लाह ने पैगंबर मुहम्मद की उनके सुंदर नैतिक चरित्र के लिए प्रशंसा की। महान अल्लाह कहता है,

“तथा निश्चय ही आप बड़े सुशील हैं।” (क़ुरआन 68:4)

पैगंबर मुहम्मद ने कहा, "विश्वासियों में सबसे उत्कृष्ट विश्वासी वे हैं जिनका नैतिक चरित्र अच्छा है। (तबरानी)

इस्लाम की मूलभूत शिक्षाओं में से एक यह है कि यह जीवन समाप्त हो जाएगा और इसके बाद एक और जीवन होगा जो शाश्वत होगा। लोगों का न्याय किया जाएगा और उन्हें नर्क या स्वर्ग में भेजा जाएगा। उनका न्याय करने का एक तरीका होगा उनके कर्मों या इस जीवन में उनके द्वारा किए गए कार्यों का वजन करना। उस वास्तविकता के बारे में बताते हुए पैगंबर मुहम्मद ने कहा, "न्याय के दिन आस्तिक के तराजू पर रखी जाने वाली सबसे बड़ी चीज अच्छा चरित्र होगा, और अल्लाह उस व्यक्ति से नफरत करता है जो अपमानजनक और अश्लील भाषा का उपयोग करता है।" (तिर्मिज़ी)

एक मुसलमान जिसने अल्लाह के सामने समर्पण किया है, उसे क्या प्रेरित करता है? एक विश्वासी जिसने "आस्था" को स्वीकार कर लिया है, उसे क्या बात प्रेरित करती है? स्वाभाविक रूप से, यह वही है जो व्यक्ति विश्वास करने का दावा करता है। एक मुसलमान अल्लाह और आखिरी दिन पर विश्वास करने का दावा करता है, जिस दिन लोगों के कर्मों को तौला जायेगा। मुसलमानों को उनकी नैतिकता और चरित्र पर ध्यान देने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए सबसे शक्तिशाली प्रेरणा का उपयोग करते हुए, पैगंबर मुहम्मद ने कहा, "जो अल्लाह और अंतिम दिन पर विश्वास करता है, उसे या तो अच्छा बोलना चाहिए या चुप रहना चाहिए; और जो अल्लाह और अंतिम दिन पर विश्वास रखता है उसे अपने पड़ोसी के प्रति उदार होना चाहिए; और जो अल्लाह और अंतिम दिन पर विश्वास रखता है, उसे अपने अतिथि के प्रति उदार होना चाहिए।" (मुस्लिम)

पैगंबर मुहम्मद के प्रति प्यार आस्था की एक मूलभूत आवश्यकता है। पैगंबर मुहम्मद से प्यार किए बिना कोई व्यक्ति मुसलमान नहीं हो सकता। पैगंबर के बारे में अधिक जानने से व्यक्ति उनसे और अधिक प्यार करता है और सराहना करता है जिन्होंने हमारे लिए इतना बलिदान दिया। उस प्यार का एक स्वाभाविक परिणाम ये है कि एक मुसलमान आने वाले जीवन और अंतिम दिन पैगंबर से मिलें और उन्हें देखें। एक व्यक्ति जो पैगंबर को जानने और उनके जीवन के बारे में पढ़ने में अधिक समय व्यतीत करता है, वह वास्तव में उस दिन पैगंबर के साथ रहना चाहेगा! एक सच्चे आस्तिक की उनसे मिलने और उनके साथ रहने की गहरी इच्छा को संबोधित करते हुए, पैगंबर मुहम्मद ने कहा, "न्याय के दिन मेरे लिए सबसे प्रिय और मेरे सबसे करीबी वे होंगे जिनका नैतिक चरित्र अच्छा होगा।" (तिर्मिज़ी)

चरित्र में सम्मान, जिम्मेदारी, करुणा, ईमानदारी और नागरिक भागीदारी के अलावा भी कुछ है। तो, वास्तव में अच्छा चरित्र क्या है? कई विद्वान अच्छे चरित्र के तीन पहलू मानते हैं:

1.हंसमुख चेहरा रखना

स्वाभाविक रूप से, इसका प्रभाव लोगों पर तेवर के साथ मिलने से बिल्कुल विपरीत होता है। हंसमुख, मुस्कुराते हुए चेहरे से लोगों का अभिवादन करना उन्हें खुश कर देता है, आपसी प्यार लाता है और दूसरे व्यक्ति को सहज महसूस कराता है।

2.उदार होना

इसमें पैसा खर्च करने में उदार होने के अलावा और भी बहुत कुछ है। इसमें दूसरों की मदद करने के लिए अपना समय निकालना, अपने पद या कौशल, या यहां तक ​​कि किसी विशिष्ट क्षेत्र में अपने ज्ञान और विशेषज्ञता का उपयोग करना शामिल है।

3.किसी को नुकसान न पहुंचाना

यह कहना आसान है कि अपने शब्दों या कार्यों से दूसरों को नुकसान न पहुंचाएं, लेकिन फिर भी अपने व्यवहार से हम ऐसा ही करते हैं - अक्सर इसके बारे में ज्यादा सोचे बिना हम दूसरों को अपने शब्दों और कार्यों से चोट पहुंचाते हैं। बस याद रखें कि एक आहत करने वाले व्यक्ति का चरित्र खराब होता है, याद रखें, "इससे पहले कि हम दूसरों को देखें, हमे खुद को देखना चाहिए!" इस बारे में सोचें कि लोगों के लिए कार्यालय में सहकर्मियों के बारे में बाते करना, रिश्तेदारों को अन्य रिश्तेदारों की चुगली करना जिन्हें वे पसंद नहीं करते हैं कितना आम है, और यहां तक ​​​​कि माता-पिता और भाई-बहन भी एक-दूसरे की पीठ पीछे बुराई करते हैं। पाप के संदर्भ में सभी बातें एक समान नहीं हैं। माता-पिता को चोट पहुंचाना सबसे बुरा है, उसके बाद अन्य करीबी रिश्तेदार और पड़ोसी आते हैं।

हालांकि अपने चरित्र में सुधार करने के लिए प्रयास, दृढ़ संकल्प और आत्म-अनुशासन की आवश्यकता होती है। याद रखें कि हमारा चरित्र पैगंबर के प्यार, अल्लाह और अंतिम दिन में विश्वास, उस दिन हमारे अच्छे कामों का "वजन" बढ़ाने की इच्छा, और बस एक उत्कृष्ट आस्तिक बनने से प्रेरित है।

प्रश्नोत्तरी और त्वरित नेविगेशन
पाठ उपकरण
बेकार श्रेष्ठ
असफल! बाद में पुन: प्रयास। आपकी रेटिंग के लिए धन्यवाद।
हमें प्रतिक्रिया दे या कोई प्रश्न पूछें

इस पाठ पर टिप्पणी करें: अपने चरित्र को सुधारना

तारांकित (*) फील्ड आवश्यक हैं।'

उपलब्ध लाइव चैट के माध्यम से भी पूछ सकते हैं। यहाँ.
अन्य पाठ स्तर 4