लोड हो रहा है...
फ़ॉन्ट का आकारv: इस लेख के फ़ॉन्ट का आकार बढ़ाएं फ़ॉन्ट का डिफ़ॉल्ट आकार इस लेख के फॉन्ट का साइज घटाएं
लेख टूल पर जाएं

इब्राहिम (2 का भाग 1)

रेटिंग:

विवरण: इस पाठ मे क़ुरआन और सुन्नत पर आधारित पैगंबर अब्राहम (इब्राहिम) के जीवन की सबसे महत्वपूर्ण घटनाओं का वर्णन है।

द्वारा Imam Mufti

प्रकाशित हुआ 08 Nov 2022 - अंतिम बार संशोधित 07 Nov 2022

प्रिंट किया गया: 20 - ईमेल भेजा गया: 0 - देखा गया: 1,704 (दैनिक औसत: 3)


उद्देश्य

·क़ुरआन और सुन्नत के आधार पर पैगंबर अब्राहम (इब्राहिम) के जीवन की सबसे महत्वपूर्ण घटनाओं को जानना।

अरबी शब्द

·सुन्नत - अध्ययन के क्षेत्र के आधार पर सुन्नत शब्द के कई अर्थ हैं, हालांकि आम तौर पर इसका अर्थ है जो कुछ भी पैगंबर ने कहा, किया या करने को कहा।

पैगंबर अब्राहम, जिन्हें अरबी में इब्राहिम के नाम से जाना जाता है, यीशु से लगभग 2,000 साल पहले बगदाद से 200 मील दूर उर के करीब पैदा हुए थे। युवा इब्राहिम ने अपने आसपास के धर्म पर सवाल उठाया था।

वहां के लोगों की तरह, उनके पिता अजार भी मूर्तिपूजक थे, संभवतः मूर्ति भी बनाते थे; इसलिए इब्राहिम ने सबसे पहले उन्हें ही बोला था। एक बच्चे की ऐसी अविचलित आस्था से पता चला कि दुनिया का एक ईश्वर है, इब्राहिम सहज रूप से जानते थे की वह अल्लाह है।

“तथा आप चर्चा कर दें इस पुस्तक (क़ुरआन) में इब्राहीम की। वास्तव में, वह एक सत्यवादी पैगंबर था।”

इब्राहिम ने अपने पिता की मूर्ति-पूजा पर सवाल उठाना शुरू कर दिया,

“जब उसने कहा अपने पिता सेः हे मेरे प्रिय पिता! क्यों आप उसे पूजते हैं, जो न सुनता है, न देखता है और न आपके कुछ काम आता है? हे मेरे पिता! मेरे पास वह ज्ञान आ गया है, जो आपके पास नहीं आया, अतः आप मेरा अनुसरण करें, मैं आपको सीधी राह दिखा दूँगा। हे मेरे प्रिय पिता! शैतान की पूजा न करें, वास्तव में, शैतान अत्यंत कृपाशील (अल्लाह) का अवज्ञाकारी है। हे मेरे पिता! वास्तव में, मुझे भय हो रहा है कि आपको अत्यंत कृपाशील की कोई यातना आ लगे, तो आप शैतान के मित्र हो जायेंगे।”[1]

“क्या आप मुर्तियों को पूज्य बनाते हो?” (क़ुरआन 6:74)

उनके पिता का उत्तर एक चुनौती की स्वाभाविक अस्वीकृति थी जो न केवल उनसे बहुत छोटे, बल्कि उनकी संतान की तरफ से थी, ये वर्षों की परंपरा और आदर्श के खिलाफ एक चुनौती थी।

“उसने (पिता) कहाः क्या तू हमारे पूज्यों से विमुख हो रहा है? हे इब्राहीम! यदि तू (इससे) नहीं रुका, तो मैं तुझे पत्थरों से मार दूँगा और तू मुझसे विलग हो जा, सदा के लिए।” (क़ुरआन 19:46)

इब्राहिम अड़े रहे कि उनके पिता और आस-पास के लोग गलत चीजों की पूजा करते हैं। मूर्तिपूजा को अस्वीकार कर इब्राहिम ने दुनिया के ईश्वर की तरफ अपनी आध्यात्मिक यात्रा शुरू की। ब्रह्मांड पर चिंतन करने से उनका ध्यान सृष्टि से हटकर सृष्टिकर्ता की ओर हो गया, और इसके साथ ही उन्होंने लोगों को बताना शुरू किया कि एकमात्र ईश्वर जो पूजा के योग्य है, वो सर्वशक्तिमान अल्लाह है। क़ुरआन हमें बताता है:

“तो जब उसपर रात छा गयी, तो उसने एक तारा देखा। कहाः ये मेरा पालनहार है। फिर जब वह डूब गया, तो कहाः मैं डूबने वालों से प्रेम नहीं करता।’” (क़ुरआन 6:76)

इब्राहिम ने उन लोगों के सामने सितारों का उदाहरण दिया, जो उनके लिए इतना समझ से बाहर था कि उसे विभिन्न शक्तियों के गुणों वाले मनुष्य की तुलना में कुछ बड़ा माना जाता था। लेकिन इब्राहिम ने देखा की सितारे अपनी मर्जी से नहीं दिख सकते, वो सिर्फ रात में ही आते हैं।

इससे भी बड़ी चीज़ का एक और उदाहरण एक मानव शरीर है जो अधिक सुंदर और बड़ा है, जो दिन में भी दिखाई देता है! हालांकि, क्षितिज ने इस बड़ाई को खत्म कर दिया:

“फिर जब उसने चाँद को चमकते देखा, तो कहाः ये मेरा पालनहार है। फिर जब वह डूब गया, तो कहाः यदि मुझे मेरे पालनहार ने मार्गदर्शन नहीं दिया, तो मैं अवश्य कुपथों में से हो जाऊँगा।’” (क़ुरआन 6:77)

फिर अपना चरम उदाहरण के लिए, उन्होंने कुछ और भी बड़ा सोचा, सृष्टि की सबसे शक्तिशाली वस्तुओं में से एक को सामने लाये, जिसके बिना जीवन स्वयं असंभव था।

फिर जब (प्रातः) सूर्य को चमकते देखा, तो कहाः ये मेरा पालनहार है। ये सबसे बड़ा है। फिर जब वह भी डूब गया, तो उसने कहाः हे मेरी जाति के लोगो! निःसंदेह मैं उससे विरक्त हूँ, जिसे तुम (अल्लाह का) साझी बनाते हो। मैंने तो अपना मुख एकाग्र होकर, उसकी ओर कर लिया है, जिसने आकाशों तथा धरती की रचना की है और मैं मुश्रिकों में से नहीं हूँ।” (क़ुरआन 6:78)

इस प्रकार इब्राहिम ने अपनी संतुष्टि और अपने साथियों की घबराहट को साबित कर दिया कि दुनिया के ईश्वर को मूर्तियों जैसी रचनाओं में नहीं खोजना चाहिए, बल्कि, अल्लाह वो है जिसने उन्हें बनाया और वह सब कुछ जिसे वे देख और अनुभव कर सकते हैं; कि पूजा करने के लिए ईश्वर को देखने की आवश्यकता नहीं है। वह एक सर्वशक्तिमान ईश्वर है, जो इस दुनिया में पाई जाने वाली कृतियों की तरह सीमाओं में बंधा नहीं है।

“और हमने प्रदान की थी इब्राहीम को, उसकी चेतना इससे पहले ”[2]

हालांकि, इन सबूतों के बावजूद उन लोगों ने उसके साथ बहस की।[3] उन्होंने कहा:

“बल्कि हमने अपने पूर्वोजों को ऐसा ही करते हुए पाया है।”[4]

इब्राहिम ने इस बात से इनकार किया कि जरुरी नहीं कि किसी के पूर्वज सही हों, या हमें यह कहकर उनके रीति-रिवाजों का पालन करना चाहिए:

“निश्चय ही तुम और तुम्हारे पूरवजों ने सीधी गलती की थी।”

इब्राहिम का संदेश सरल था:

“पूजा (वंदना) करो अल्लाह की तथा उससे डरो, ये तुम्हारे लिए उत्तम है, यदि तुम जोनो। तुम तो अल्लाह के सिवा बस उनकी वंदना कर रहे हो, जो मूर्तियाँ हैं तथा तुम झूठ घड़ रहे हो, वास्तव में, जिन्हें तुम पूज रहे हो अल्लाह के सिवा, वे नहीं अधिकार रखते हैं तुम्हारे लिए जीविका देने का। अतः, खोज करो अल्लाह के पास जीविका की तथा पूजा (वंदना) करो उसकी और कृतज्ञ बनो उसके, उसी की ओर तुम फेरे जाओगे।”[5]

फिर वह समय आया जब धर्मोपदेश के साथ-साथ कुछ करना भी था। इब्राहिम ने मूर्तिपूजा पर एक साहसिक और निर्णायक प्रहार की योजना बनाई, ऐसी योजना जिसमें उनकी मूर्तियों भी शामिल थी,

“तथा अल्लाह की शपथ! मैं अवश्य चाल चलूंगा तुम्हारी मूर्तियों के साथ, इसके पश्चात् कि तुम चले जाओ।” (क़ुरआन 21:57)

यह एक धार्मिक उत्सव का समय था, जिसके लिए वे शहर से बाहर जाने वाले थे, और इब्राहिम को भी चलने के लिए कहा। इसलिए जब उस ने तारों की ओर दृष्टि की और जाने के लिए यह कहकर मना किया;

“तथा उनसे कहाः मैं रोगी हूं।” (क़ुरआन 37:89)

उसके साथी उसे छोड़ कर चले गए। और जैसे-जैसे मंदिर वीरान होता गया, यह उसके लिए अवसर बन गया। वह वहां जाने लगा, सोने की मूर्तियों के पास, पंडितों ने वहां बहुत सा भोजन मूर्तियों के सामने रखा था। अविश्वास में पंडितों का मजाक उड़ाया:

“फिर वह जा पहुंचा, उनके उपास्यों (पूज्यों) की ओर। कहा कि (वे प्रसाद) क्यों नहीं खाते? तुम्हें क्या हुआ है कि बोलते नहीं?’” (क़ुरआन 37:91-92 )

आखिर मनुष्य को अपने ही द्वारा बनाये हुए देवताओं की पूजा करने के लिए क्या बहका सकता है?

“फिर हमला किया उनपर, दायें हाथ से।” (क़ुरआन 37:93)

क़ुरआन हमें बताता है,

“फिर उसने कर दिया उन्हें खण्ड-खण्ड, उनके बड़े के सिवा” (क़ुरआन 21:58)

जब मंदिर के पुजारी लौटे तो मंदिर का अपमान, तोड़फोड़ को देखकर हैरान रह गए। वे सोच रहे थे कि उनकी मूर्तियों के साथ ऐसा कौन कर सकता है, तभी किसी ने इब्राहिम का नाम लिया, यह बताते हुए कि वह उनके बारे में बुरा बोलता था। जब उन्होंने इब्राहिम को अपने सामने बुलाया, तो इब्राहिम का काम था कि वह उन्हें उनकी मूर्खता दिखाए:,

“इब्राहिम ने कहाः क्या तुम पूजा (वंदना) करते हो उसकी जिसे, पत्थरों से तराश्ते हो? जबकि अल्लाह ने पैदा किया है तुम्हें तथा जो तुम करते हो।” (क़ुरआन 37:95)

उनका गुस्सा बढ़ रहा था; वो धर्मोपदेश नही सुनना चाहते थे, वे सीधे मुद्दे पर पहुंच गए:

“क्या तूने ही ये किया है, हमारे पूज्यों के साथ, ऐ इब्राहीम?” (क़ुरआन 21:62)

लेकिन इब्राहिम ने सबसे बड़ी मूर्ति को किसी कारण से छोड़ दिया था:

“उसने कहाः बल्कि इसे इनके इस बड़े ने किया है, तो इन्हीं से पूछ लो, यदि ये बोलते हों?’”(क़ुरआन 21:63)

जब इब्राहिम ने उन्हें इतनी चुनौती दी, तो वे असमंजस में पड़ गए। उन्होंने एक-दूसरे पर मूर्तियों की रखवाली न करने का आरोप लगाया और नजरो को चुराते हुए कहा:

“तू जानता है कि ये बोलते नहीं हैं।!”(क़ुरआन 21:65)

तो इब्राहिम ने अपनी बात पर जोर दिया।

“इब्राहीम ने कहाः तो क्या तुम पूजा (वंदना) अल्लाह के सिवा उसकी करते हो, जो न तुम्हें कुछ लाभ पहुंचा सकते हैं और न तुम्हें हानि पहुंचा सकते हैं? धिक्कार है तुमपर और उसपर जिसकी तुम पूजा (वंदना) करते हो अल्लाह को छोड़कर। तो क्या तुम समझ नहीं रखते हो?’”(क़ुरआन 21:67)

आरोप लगाने वाले आरोपी बन गए थे। उन पर तार्किक असंगति का आरोप लगाया गया था, और इसलिए इब्राहिम के सवाल का उनके पास कोई जवाब नहीं था। क्योंकि इब्राहिम का तर्क अचूक था, उनकी प्रतिक्रिया क्रोध और रोष की थी, और उन्होंने इब्राहिम को जिंदा जलाने की बात कही,

“इसके लिए एक (अग्निशाला का) निर्माण करो और उसे झोंक दो दहकती अग्नि में।” (क़ुरआन 37:97)

शहरवासियों ने आग के लिए लकड़ी इकट्ठा करने में मदद की, जब तक कि यह आग तब तक की सबसे बड़ी आग न बन गई। युवा इब्राहिम ने दुनिया के ईश्वर द्वारा उसके लिए चुने गए भाग्य को स्वीकार किया। उसने विश्वास नहीं खोया, बल्कि परीक्षण ने उसे मजबूत बना दिया। इस छोटी सी उम्र में भी इब्राहिम एक ज्वलंत मौत के सामने नहीं झुके; बल्कि उसमे प्रवेश करने से पहले उनके अंतिम शब्द थे,

“ईश्वर मेरे लिए पर्याप्त है और वह मामलों का सबसे अच्छा निपटानकर्ता है।” (सहीह अल-बुखारी)

यह एक और उदाहरण जहां इब्राहिम अपनी परीक्षाओं में सफल हुए थे। यहां सच्चे ईश्वर में उनके विश्वास की परीक्षा हुई थी, और उन्होंने यह साबित कर दिया कि वह अपने ईश्वर के लिए आत्मसमर्पण करने को तैयार थे। उनके इस विश्वास का प्रमाण उनके कार्य थे।

ईश्वर नही चाहता था कि यह इब्राहिम का भाग्य हो, क्योंकि इब्राहिम के लिए एक महान मिशन था। इस प्रकार अल्लाह ने इब्राहीम को उसके और उसके लोगों के लिए एक निशानी के रूप में बचाया।

“अल्लाह ने कहाः हे अग्नि! तू शीतल तथा शान्ति बन जा, इब्राहीम पर। और उन्होंने उसके साथ बुराई चाही, तो अल्लाह ने उन्हीं को क्षतिग्रस्त कर दिया।”

इब्राहिम आग से सही सलामत बच गए।

सालों तक ज़ुल्म सहने के बाद, इब्राहिम और उसका परिवार सच्चाई का प्रचार जारी रखने के लिए दक्षिण-पूर्वी तुर्की के हारान चले गए। हारान में रहते हुए, इब्राहिम ने अपने पिता को उपदेश देना जारी रखा, लेकिन उनके पिता भी इनकार करने में समान रूप से दृढ़ थे। अंत में उन्होंने कहा,

“यदि तू (इससे) नहीं रुका, तो मैं तुझे पत्थरों से मार दूंगा और तू मुझसे विलग हो जा, सदा के लिए।”

अपने पिता द्वारा निर्वासित होने पर, इब्राहिम अच्छे शब्दों के साथ चले गए,

“(इब्राहीम) ने कहाः सलाम है आपको! मैं क्षमा की प्रार्थना करता रहूंगा आपके लिए अपने पालनहार से, मेरा पालनहार मेरे प्रति बड़ा करुणामय है। तथा मैं तुम सभीको छोड़ता हूं और जिसे तुम पुकारते हो अल्लाह के सिवा और प्रार्थना करता रहूंगा अपने पालनहार से। मुझे विश्वास है कि मैं अपने पालनहार से प्रार्थना करके असफल नहीं हूंगा।”



फुटनोट:

[1] क़ुरआन 19:41-50

[2] क़ुरआन 21:51

[3] क़ुरआन 6:80

[4] क़ुरआन 26:69-76

[5] क़ुरआन 29:16-19

प्रश्नोत्तरी और त्वरित नेविगेशन
पाठ उपकरण
बेकार श्रेष्ठ
असफल! बाद में पुन: प्रयास। आपकी रेटिंग के लिए धन्यवाद।
हमें प्रतिक्रिया दे या कोई प्रश्न पूछें

इस पाठ पर टिप्पणी करें: इब्राहिम (2 का भाग 1)

तारांकित (*) फील्ड आवश्यक हैं।'

उपलब्ध लाइव चैट के माध्यम से भी पूछ सकते हैं। यहाँ.
अन्य पाठ स्तर 2