लोड हो रहा है...
फ़ॉन्ट का आकारv: इस लेख के फ़ॉन्ट का आकार बढ़ाएं फ़ॉन्ट का डिफ़ॉल्ट आकार इस लेख के फॉन्ट का साइज घटाएं
लेख टूल पर जाएं

उम्मत: मुस्लिम राष्ट्र

रेटिंग:

विवरण: इस पाठ मे 'उम्मत' यानि साथी भाइयों और बहनों के विस्तारित मुस्लिम "परिवार" की अवधारणा और महत्व पर चर्चा की गई है।

द्वारा Imam Mufti (© 2015 NewMuslims.com)

प्रकाशित हुआ 08 Nov 2022 - अंतिम बार संशोधित 07 Nov 2022

प्रिंट किया गया: 25 - ईमेल भेजा गया: 0 - देखा गया: 1,531 (दैनिक औसत: 3)


उद्देश्य

·यह समझना कि लोग 'हम' और मुस्लिम 'हम' को कैसे परिभाषित करते हैं।

·मुस्लिम एकता के आधार और इसके भीतर समायोजित सांस्कृतिक विविधता को समझना।

·यह जानना कि आप उम्मत को एकजुट करने और मजबूत करने में कैसे योगदान दे सकते हैं।

अरबी शब्द

·अस-सलामु अलैकुम - आप पर शांति और आशीर्वाद बना रहे।

·दावा - कभी-कभी दावाह भी कहा जाता है। इसका अर्थ है दूसरों को इस्लाम में बुलाना या आमंत्रित करना।

·हज - मक्का की तीर्थ यात्रा, जहाँ तीर्थयात्री कुछ अनुष्ठानों पालन करते करते हैं। हज इस्लाम के पांच स्तंभों में से एक है, जिसे हर वयस्क मुसलमान को अपने जीवन में कम से कम एक बार अवश्य करना चाहिए यदि वे इसे वहन कर सकते हैं और शारीरिक रूप से सक्षम हैं।

·काफ़िर - (बहुवचन: कुफ़्फ़ार) अविश्वासी।

·नमाज - आस्तिक और अल्लाह के बीच सीधे संबंध को दर्शाने के लिए अरबी का एक शब्द। अधिक विशेष रूप से, इस्लाम में यह औपचारिक पाँच दैनिक प्रार्थनाओं को संदर्भित करता है और पूजा का सबसे महत्वपूर्ण रूप है।

·शाहदाह - आस्था की गवाही

·उम्मत - मुस्लिम समुदाय चाहे वो किसी भी रंग, जाति, भाषा या राष्ट्रीयता का हो।

Ummah.jpgजो लोग एक विशेष विश्वदृष्टि साझा करते हैं, वे हमेशा खुद को एक साथ रखते हैं और खुद को 'हम' के रूप में परिभाषित करते हैं। मुख्य कारकों में से एक जो उन्हें एक साथ लाता है वह है या तो उनकी त्वचा का रंग या उनकी जाति। नस्लवादियों के लिए, उनके 'हम' का अर्थ सफेद, काला, भारतीय, अरब या चीनी होना है; कुछ के लिए, उनका 'हम' सामाजिक स्थिति, आर्थिक स्थिति, जाति या पेशे पर निर्भर करता है। अन्य लोग वित्तीय स्थिति या भौतिक विकास के अनुसार 'हम' का उपयोग करते हैं चाहे वो किसी भी विकसित, विकासशील, कम विकसित राष्ट्र से संबंधित हो। कुछ मामलों में, लोग अपनी पहचान मुख्य रूप से एक व्यक्ति के प्रति समर्पण से प्राप्त करते हैं। उदाहरण के लिए, यह मसीह के प्रति विश्वास और प्रेम है जो ईसाइयों को एक साथ लाता है।

आमंत्रण वाली उम्मत और जवाब देने वाली उम्मत

उम्मत शब्द का अनुवाद "एक राष्ट्र" या "एक समुदाय" के रूप में किया जा सकता है। यह लोगों की दो श्रेणियों को संदर्भित करता है: "आमंत्रण (दावा) वाली उम्मत" और "जवाब देने वाली उम्मत।

आमंत्रण वाली उम्मत में पूरी मानवता, मुस्लिम और गैर-मुस्लिम शामिल हैं। वे सभी सत्य सुनने और उसके लिए आमंत्रण प्राप्त करने के योग्य हैं।

जवाब देने वाली उम्मत में केवल मुसलमान शामिल हैं।[1]

अल्लाह ने अपने पैगंबर मुहम्मद को पहले अर्थ के अनुसार उम्मत के पास भेजा, लेकिन अल्लाह केवल दूसरे अर्थ के अनुसार उम्मत को पुरस्कृत करेगा - जिन्होंने पैगंबर मुहम्मद की पुकार को स्वीकार किया।

‘हम मुसलमान’

मुसलमान लोग कौन हैं? ये ऐसे लोग हैं जो अल्लाह के सामने आत्मसमर्पण करने के लिए संघर्ष करते हैं। उनकी असली पहचान अल्लाह में उनके आस्था पर आधारित है। आस्था का यह बंधन लोगों को एक साथ जोड़ने और उच्चतम महत्त्व प्राप्त करने के लिए सबसे महत्वपूर्ण आधार है जिसके लिए मनुष्य को बनाया गया था।

मुसलमानों के लिए उनका 'हम' किसी नस्ल, वर्ग, क्षेत्रीय, आर्थिक या भाषाई पहचान से बंधा नहीं है। इसका कारण यह है कि इस तरह की पहचान ऐसा कोई मार्गदर्शन नहीं करती कि क्या अच्छा है और क्या सच है और दूसरी तरफ क्या गलत और क्या भ्रामक है।

क़ुरआन घोषणा करता है कि "वास्तव में, सब विश्वासी भाई-भाई हैं" (क़ुरआन 49:10)। क़ुरआन में, विश्वासियों के इस समुदाय को उम्मत कहा जाता है , वह शब्द जो "राष्ट्र" के अरबी मूल शब्द से आया है। इस्लाम के अनुयायियों की पहचान अरब, तुर्क, फारसी, सेमाइट्स, बर्बर, कुर्द, उइगर, गरीब, अमीर, उत्पीड़ित, गोरे, अश्वेत, एशियाई, पूर्वी या पश्चिमी के रूप में नहीं की जाती है। इनमें से कोई भी वास्तव में उन मुसलमानों के 'हम' को परिभाषित नहीं कर सकता है जो उम्मत या 1.6 अरब विश्वासियों के सार्वभौमिक समुदाय से संबंधित हैं जो अपने 'विस्तारित' परिवार के सदस्यों को आस्था मे अपने भाइ और बहन मानते हैं।

मुस्लिम समुदाय में आपसी बंधन बहुत मजबूत है, जिससे एक 'राष्ट्र' बनता है जिसे हमारे पैगंबर मुहम्मद ने 'एक शरीर' के रूप में वर्णित किया है। यदि शरीर का एक अंग बीमार हो जाता है, तो बाकी को भी पीड़ा होती है। एक अन्य स्थान पर, उन्होंने समुदाय को एक इमारत के निर्माण खंड के रूप में वर्णित किया, एक दूसरे का साथ देते हुए जब वे एक सामान्य लक्ष्य की दिशा में एक साथ मिलकर काम करते हैं।

उम्मत किसी ऐसे व्यक्ति को अपना नहीं मान सकता जो इस्लाम की बुनियादी शिक्षाओं के खिलाफ जाने वाले विश्वास को मानता हो। हालांकि, आपको किसी को काफिर या अविश्वासी बोलने और उन्हें इस्लाम के दायरे से बाहर रखने में बहुत सावधानी बरतने की आवश्यकता है। आप उस मुसलमान को अविश्वासी नही बोल सकते जो शाहदाह को मानता है, उसके अनुसार कार्य करता है, और इस्लाम के अनिवार्य कर्तव्यों का पालन करता है।

उम्मत को एकजुट करने वाले वैचारिक बंधनों ने अतीत और वर्तमान में कई बौद्धिक और सैन्य चुनौतियों के बावजूद मुस्लिम इतिहास को सही दिशा में रखने का काम किया है। इन तत्वों ने मुस्लिम सभ्यता और संस्कृति को एकता और स्थिरता भी दी है।

एकता और विविधता

इसके साथ ही, मुस्लिम संस्कृतियों में एक असाधारण समृद्धि और विविधता इस तथ्य के कारण है कि इस्लाम की नैतिक और कानूनी संहिता यह मानती है कि हर चीज की अनुमति है जब तक कि वह निषिद्ध न हो, और उस चीज़ की अनुमति नही है जो निषिद्ध है। स्थानीय रीति-रिवाज जो इस्लाम के किसी भी सिद्धांत या कानून का खंडन नहीं करते हैं, उन्हें मुस्लिम लोगों की संस्कृतियों में आसानी से शामिल किया गया है।

इस तरह, इस्लाम ने अस्वीकार्य चीज़ों को करने से मना किया है और बहु-जातीय संस्कृतियों के अच्छे पहलुओं को संरक्षित किया है। इसने पूर्ण और नीरस एकरूपता थोपने का प्रयास नहीं किया है। हालांकि इसने सलाह जैसे इस्लामी संस्थानों की स्थापना की और अरबी के उपयोग को बढ़ावा दिया, लेकिन इसने स्थानीय भाषाओं, पोशाक, व्यंजन, कलात्मक अभिव्यक्ति या वास्तुकला को मिटाने की कोशिश नहीं की।

इस्लाम की संस्थाएं विश्वासियों के बीच समानता और भाईचारे की भावना को मजबूत करने का काम करती हैं। मस्जिद मे दैनिक नमाज़ और हज यात्रा सभी सार्वभौमिक इस्लामी समुदाय या उम्मत को प्रदर्शित करते हैं।

इस साधारण एकता के कारण है एक मुसलमान मुस्लिम दुनिया के दूसरे हिस्से की यात्रा कर सकता है और स्थानीय मुसलमानों के बीच पोशाक, भाषा, व्यंजन और आर्थिक स्थितियों में अंतर के बावजूद घर जैसा महसूस कर सकता है। वह शांति के समान अभिवादन (अस-सलामु अलैकुम) कर सकता है, वह आसानी से समूह मे नमाज़ पढ़ सकता है, और आस्था में एक साथी भाई होने के नाते उसका गर्मजोशी से स्वागत किया जाएगा। एक मुसलमान होने के नाते आप अल्लाह में अपनी आस्था और शाहदाह के आधार पर इस उम्मत के हैं।

हर मुसलमान का कर्तव्य

मुस्लिम उम्मत की एकता और ताकत के लिए काम करना हर मुसलमान का कर्तव्य है। अकेले व्यक्ति के रूप में आप उम्मत की ताकत और एकता के लिए काम कर सकते हैं:

·इस्लाम के ज्ञान को प्राप्त करना और उसका प्रचार करना।

·एक स्वस्थ शरीर, एक अच्छा चरित्र, एक ईमानदार आजीविका, और अपने समय और संसाधनों के संगठित उपयोग करने के लिए अपने आप को सुधारना।

·दूसरों की परवाह करना और उनकी त्वचा के रंग, उनकी भाषा या उनके लहजे के आधार पर उनके साथ भेदभाव नहीं करना।

·मुसलमानों और मानवता के हितों को बढ़ावा देने वाले समूहों के साथ काम करना।



फुटनोट:

[1] ऊपर 'अरबी शब्दों' के भाग के तहत परिभाषित उम्मत शब्द इसी अर्थ पर आधारित है। और जब भी इस शब्द का प्रयोग किया जाता है तो यह आमतौर पर इसे ही संदर्भित करता है।

पाठ उपकरण
बेकार श्रेष्ठ
असफल! बाद में पुन: प्रयास। आपकी रेटिंग के लिए धन्यवाद।
हमें प्रतिक्रिया दे या कोई प्रश्न पूछें

इस पाठ पर टिप्पणी करें: उम्मत: मुस्लिम राष्ट्र

तारांकित (*) फील्ड आवश्यक हैं।'

उपलब्ध लाइव चैट के माध्यम से भी पूछ सकते हैं। यहाँ.
अन्य पाठ स्तर 8