लोड हो रहा है...
फ़ॉन्ट का आकारv: इस लेख के फ़ॉन्ट का आकार बढ़ाएं फ़ॉन्ट का डिफ़ॉल्ट आकार इस लेख के फॉन्ट का साइज घटाएं
लेख टूल पर जाएं

सही मार्गदर्शित खलीफा: अबू बक्र (2 का भाग 2)

रेटिंग:

विवरण: पैगंबर मुहम्मद के साथी, दोस्त और ससुर, अबू बक्र की संक्षिप्त जीवनी का दूसरा भाग।

द्वारा Aisha Stacey (© 2013 NewMuslims.com)

प्रकाशित हुआ 08 Nov 2022 - अंतिम बार संशोधित 07 Nov 2022

प्रिंट किया गया: 20 - ईमेल भेजा गया: 0 - देखा गया: 1,581 (दैनिक औसत: 3)


उद्देश्य:

·इस्लाम के इतिहास में अबू बक्र की भूमिका के महत्व को समझना।

·पैगंबर मुहम्मद और अबू बक्र के बीच विशेष संबंध को पहचानना।

अरबी शब्द:

·काबा - मक्का शहर में स्थित घन के आकार की एक संरचना। यह एक केंद्र बिंदु है जिसकी ओर सभी मुसलमान प्रार्थना करते समय अपना रुख करते हैं।

·सुन्नत - अध्ययन के क्षेत्र के आधार पर सुन्नत शब्द के कई अर्थ हैं, हालांकि आम तौर पर इसका अर्थ है जो कुछ भी पैगंबर ने कहा, किया या करने को कहा।

·ज़कात - अनिवार्य दान।

·उम्मत - मुस्लिम समुदाय चाहे वो किसी भी रंग, जाति, भाषा या राष्ट्रीयता का हो।

रक्षक अबू बक्र। (जारी है)

·RightlyGuidedCaliphsAbuBakr2.jpgदो दोस्त अबू बक्र और पैगंबर मुहम्मद (उन पर अल्लाह की दया और आशीर्वाद हो) हर दिन एक-दूसरे से मिलते थे और हर दिन उनकी दोस्ती बढ़ती गई। अबू बक्र ने महसूस किया कि पैगंबर मुहम्मद की रक्षा करना उनका कर्तव्य है। एक दिन काबा में नमाज़ पढ़ने के दौरान पैगंबर मुहम्मद पर हमला हुआ। ताने-बाने के रूप में शुरू हुआ एक विवाद तेजी से शारीरिक शोषण में बदल गया। जब अबू बक्र को सुचना मिली तो वह काबा की ओर दौड़े और खुद लड़ाई के बीच में पद गए और चिल्लाते हुए कहा, "क्या तुम एक आदमी को यह कहने के लिए मार दोगे कि अल्लाह उसका ईश्वर है।”[1] मक्कावासी क्षण भर के लिए स्तब्ध रह गए, लेकिन फिर अबू बक्र को इतनी बुरी तरह से पीटा की वो गिर पड़े और उनके सर से खून बहने लगा। हालांकि उन्हें तब तक पीटा गया जब तक कि वह बेहोश न हो गए, सुन्नत से हमें पता चलता है कि होश मे आने के बाद अबू बक्र के पहले शब्द पैगंबर मुहम्मद (उन पर अल्लाह की दया और आशीर्वाद हो) की स्थिति के बारे में तत्काल पूछताछ करने के लिए थे।

·एक अन्य अवसर पर जब पैगंबर मुहम्मद काबा में प्रार्थना कर रहे थे , तो मक्का के नेताओं में से एक ने उनके गले में कपड़े का एक टुकड़ा फसा के उनका गला घोंटना शुरू कर दिया। बहुत से लोग देख रहे थे लेकिन अबू बक्र को छोड़कर इसे रोकने के लिए कोई भी आगे नहीं आया, वे दौड़कर अपने प्यारे दोस्त पर हमला करने वाले व्यक्ति से भिड़ गए।

पलायन करने वाले अबू बक्र।

·एक दिन दोपहर की धूप में, पैगंबर मुहम्मद अबू बक्र के घर गए। उन्होंने अपने दोस्त को बताया कि अल्लाह ने उन्हें मक्का छोड़ने की अनुमति दे दी है। आयशा बताती है कि उनके पिता रोने लगे जब उन्होंने सुना कि उन्हें यात्रा पर पैगंबर मुहम्मद का साथी बनना है। वह डर से नहीं बल्कि खुशी से रोये थे। अबू बक्र इस भावना से अभिभूत थे कि वह अल्लाह के दूत का साथ देने और उनकी रक्षा करने वाले हैं।

उसी रात पैगंबर और अबू बक्र रात के अंधेरे मे रेगिस्तान के रास्ते चल दिए, और अल्लाह ने उन दोनों को छल के जाल से बचा लिया। अबू बक्र और पैगंबर मुहम्मद याथ्रिब (जिसे बाद में मदीना नाम दिया गया) के लिए जा रहे थे, लेकिन जानते थे कि मक्का के लोग उग्र हो जायेंगे और उन्हें हर जगह ढूंढेगे, इसलिए वे मक्का के दक्षिण में एक गुफा में तीन रात तक छिपे रहे। ढूंढने वाले लोग इतने करीब आ गए थे कि अबू बक्र को उनके जूतों का टॉप सुनाई दे रही थी। वे लोग गुफा के बाहर खड़े थे, लेकिन प्रवेश नहीं कर सके क्योंकि अल्लाह ने उन्हें प्रवेश द्वार देखने से अंधा कर दिया था।

योद्धा अबू बक्र।

·नए मुस्लिम राष्ट्र की पहली लड़ाई बद्र की लड़ाई थी; लोगों ने पैगंबर मुहम्मद को आगे की पंक्तियों में रहने से मना कर दिया और उनके लिए सैनिकों के पीछे एक आश्रय बनाया। यह अबू बक्र ही थे जिन्होंने स्वेच्छा से अपने पैगंबर की रक्षा की थी। कोई और ऐसा करने को तैयार नहीं था, शायद इसलिए कि वे युद्ध के बीच में रहना चाहते थे; हालांकि अबू बक्र समझ गए थे कि पैगंबर मुहम्मद का जीवन सबसे महत्वपूर्ण है। जब पैगंबर मुहम्मद आश्रय में थे, तो अबू बक्र आगे-पीछे चलते रहते थे, और उनकी नंगी तलवार अपने साथी की रक्षा के लिए तैयार थी। बाद में लड़ाई में, पैगंबर मुहम्मद ने केंद्र बटालियन का नेतृत्व किया और अबू बक्र ने दाहिने हिस्से का नेतृत्व किया।

·630 सीई में पैगंबर मुहम्मद ने सीरियाई सीमा पर तबुक के लिए एक अभियान का नेतृत्व करने का फैसला किया। अभियान के लिए बहुत अधिक पशुधन और उपकरणों की आवश्यकता थी इसलिए पैगंबर मुहम्मद ने अपने अनुयायियों से योगदान और दान देने के लिए कहा। सुन्नत में बताया गया है कि अबू बक्र ने इस लड़ाई को पूरा करने के लिए अपना सारा धन दे दिया था। जब पैगंबर मोहम्मद ने उनसे पूछा कि उन्होंने कितना दान दिया है, तो अबू बक्र ने कहा, "मेरे पास जो कुछ था वह मैं ले आया हूं। मैंने खुद को और अपने परिवार को अल्लाह और उसके पैगंबर पर छोड़ दिया है।”[2]

खलीफा अबू बक्र।

·अबू बक्र ने सबसे गंभीर और कठिन समय के दौरान मुसलमानों का नेतृत्व किया था। पैगंबर मुहम्मद का निधन हो चुका था और कई जनजातियों ने ज़कात देने से इनकार करके विद्रोह कर दिया था। उसी समय कई धोखेबाज थे जिन्होंने पैगंबरी का दावा किया और विद्रोह करना शुरू कर दिया। इन परिस्थितियों में, कई लोगों ने अबू बक्र को रियायतें देने की सलाह दी, लेकिन उन्होंने इंकार कर दिया और कहा कि इस्लाम के किसी भी स्तंभ में कोई अंतर नहीं है, और ज़कात की तुलना नमाज़ से की। उन्होंने जोर देकर कहा कि कोई भी समझौता इस्लाम की नींव को नष्ट कर देगा। विद्रोही कबीलों ने हमला किया, हालांकि मुसलमान तैयार थे और उनकी रक्षा का नेतृत्व खलीफा अबू बक्र ने खुद सफलतापूर्वक किया था। अबू बक्र ने झूठे पैगंबरी के दावेदारों को अपने दावों को वापस लेने के लिए मजबूर किया और उनमें से अधिकांश ने अल्लाह की इच्छा के आगे सर झुकाया और उम्मत में फिर से शामिल हो गए।

अबू बक्र का निधन अगस्त 634 में तिरेसठ साल की उम्र में हो गया। उन्हें उनके प्रिय मित्र और नेता, पैगंबर मुहम्मद के बगल में दफनाया गया था। सत्ताईस महीने की अपनी संक्षिप्त ख़िलाफ़त में उन्होंने मुस्लिम उम्मत को उन खतरों से मजबूत किया था जिससे इसके अस्तित्व को खतरा था।

पैगंबर मुहम्मद के प्रति अबू बक्र के प्रेम और भक्ति को उनकी मृत्यु के बाद भी याद किया जाता था। चौथे सही मार्गदर्शित खलीफा, अली इब्न अबी तालिब ने अबू बक्र के अंतिम संस्कार में बात की और शोक मनाने वालों को उनकी बहादुरी की कहानियों से रोमांचित किया। "आपने उनका (पैगंबर मुहम्मद का) समर्थन तब किया जब दूसरों ने उनका साथ छोड़ दिया था, और आप बुरे समय में उनकी मदद करने में दृढ़ रहे जब दूसरों ने अपना समर्थन वापस ले लिया था। आपकी आवाज सबसे धीमी थी लेकिन विशिष्टता उच्चतम थी। आपकी बातचीत सबसे अनुकरणीय थी और आपका तर्क सबसे न्यायसंगत था; आपकी चुप्पी सबसे लंबी थी, और आपका भाषण सबसे वाक्पटु था। पुरुषों में सबसे बहादुर, और मामलों के बारे में अच्छे जानकार, आपका कार्य सम्मानजनक था।”



फुटनोट:

[1] सहीह अल-बुखारी

[2] अबू दाऊद

पाठ उपकरण
बेकार श्रेष्ठ
असफल! बाद में पुन: प्रयास। आपकी रेटिंग के लिए धन्यवाद।
हमें प्रतिक्रिया दे या कोई प्रश्न पूछें

इस पाठ पर टिप्पणी करें: सही मार्गदर्शित खलीफा: अबू बक्र (2 का भाग 2)

तारांकित (*) फील्ड आवश्यक हैं।'

उपलब्ध लाइव चैट के माध्यम से भी पूछ सकते हैं। यहाँ.
अन्य पाठ स्तर 7