लोड हो रहा है...
फ़ॉन्ट का आकारv: इस लेख के फ़ॉन्ट का आकार बढ़ाएं फ़ॉन्ट का डिफ़ॉल्ट आकार इस लेख के फॉन्ट का साइज घटाएं
लेख टूल पर जाएं

अल्लाह पर विश्वास (2 का भाग 2): शिर्क, तौहीद का विपरीत

रेटिंग:

विवरण: तौहीद (एकेश्वरवाद) की अवधारणा आस्था (शहादा) की गवाही के हर भाग मे निहित है। इस दो भाग के पाठ का उद्देश्य आस्तिक को इस अनूठी अवधारणा को समझाना है। भाग दो में तौहीद से जुड़े सबसे बड़े उल्लंघन यानी शिर्क के पहलू पर चर्चा की गई है।

द्वारा Imam Mufti

प्रकाशित हुआ 08 Nov 2022 - अंतिम बार संशोधित 07 Nov 2022

प्रिंट किया गया: 22 - ईमेल भेजा गया: 0 - देखा गया: 1,605 (दैनिक औसत: 3)


आवश्यक शर्तें

·इस्लाम के स्तंभों और आस्था के अनुच्छेदों का परिचय (2 भाग)।

उद्देश्य

·'शिर्क' शब्द का सटीक अर्थ जानना और उसकी गंभीरता को समझना।

·बड़ा और छोटा 'शिर्क' जानना।

·हमारे समाजों में प्रचलित 'शिर्क' के कुछ रूपों को जानना।

अरबी शब्द

·तौहीद - प्रभुत्व, नाम और गुणों के संबंध में और पूजा की जाने के अधिकार में अल्लाह की एकता और विशिष्टता।

·सुन्नत - अध्ययन के क्षेत्र के आधार पर सुन्नत शब्द के कई अर्थ हैं, हालांकि आम तौर पर इसका अर्थ है जो कुछ भी पैगंबर ने कहा, किया या करने को कहा।

·शिर्क - एक ऐसा शब्द जिसका अर्थ है अल्लाह के साथ भागीदारों को जोड़ना, या अल्लाह के अलावा किसी अन्य को दैवीय बताना, या यह विश्वास करना कि अल्लाह के सिवा किसी अन्य में शक्ति है या वो नुकसान या फायदा पहुंचा सकता है।

·दुआ - याचना, प्रार्थना, अल्लाह से कुछ मांगना।

·रिया - यह रआ शब्द से बना है जिसका अर्थ है देखना। इस प्रकार रिया शब्द का अर्थ है दिखावा, पाखंड और ढोंग। इस्लामिक मायने मे रिया का अर्थ है ऐसे कार्य करना जो अल्लाह के अलावा अन्य को प्रसन्न करने के इरादे से किया जाये।

अरबी शब्द शिर्क का अर्थ तौहीद (अल्लाह को एक मानना) के विपरीत है, और बहुदेववाद और मूर्तिपूजा के समान। इसका अर्थ है अल्लाह को अन्य देवताओं के साथ जोड़ना। शिर्क का मतलब है दूसरों को अल्लाह के साथ जोड़ना उस अद्वितीय और विशेष रूप में जिसका उल्लेख क़ुरआन और सुन्नत में किया गया है।

ऐसा कोई मुद्दा नहीं है जिस पर इस्लाम एकेश्वरवाद (तौहीद) जितना सख्त है। ईश्वर के साथ किसी को जोड़ना यानि शिर्क सबसे घातक पाप है, सबसे बड़ा उल्लंघन है जिससे स्वर्ग और पृथ्वी के ईश्वर की अवहेलना होती है। शिर्क की अवस्था में मृत्यु से व्यक्ति ईश्वरीय कृपा से स्थायी रूप से दूर हो जाता है:

“निःसंदेह अल्लाह ये नहीं क्षमा करेगा कि उसका साझी बनाया जाये (अर्थात शिर्क का पाप) और उसके सिवा जिसे चाहे, क्षमा कर देगा।” (क़ुरआन 4:48)

शिर्क के कई रूप हैं, जिनमें से कुछ के बारे में नीचे चर्चा की जाएगी।

बड़े शिर्क

शिर्क की इस श्रेणी के अंतर्गत आने वाले कार्य क्षमा नही किये जाते हैं। जब तक कोई माफ़ी न मांग ले अल्लाह उन्हें माफ नहीं करेगा।

“वास्तव में, अल्लाह शिर्क को माफ नहीं करता है , लेकिन इसके अलावा वह जिसे चाहता है उसे माफ कर देता है”

यह श्रेणी सृष्टि के उद्देश्य के विपरीत है, जैसा कि अल्लाह के कथन में व्यक्त किया गया है:

“और मैंने जिन्न तथा मनुष्य को सिर्फ अपनी पूजा करने के लिए पैदा किया है।” (क़ुरआन 51:56)

शिर्क की इस श्रेणी में अल्लाह के अलावा या उसके साथ अन्य प्राणियों की पूजा की जाती है। इसका उदाहरण अल्लाह ने क़ुरआन में दिया है:

“और जब वे नाव पर सवार होते हैं, तो अल्लाह के लिए धर्म को शुध्द करके उसे पुकारते हैं। फिर जब वह बचा लाता है उन्हें थल तक, तो फिर शिर्क करने लगते हैं।” (क़ुरआन 29:65)

क़ुरआन अपने कई छंदो में जोर देता है कि अल्लाह अपनी शक्तियों को किसी भी साथी के साथ साझा नहीं करता है। यह उन लोगों को चेतावनी है जो मानते हैं कि उनकी मूर्तियां उनका भला करेगी, वो मूर्तियों के साथ न्याय के दिन नरक की आग के ईंधन बनेंगे।

बड़े शिर्क में शामिल है झूठे देवता, पैगंबर, स्वर्गदूत, संत, मूर्ति, या अल्लाह के अलावा किसी की भी पूजा करना। ईसाई लोग अल्लाह के पैगंबर यीशु (उन पर शांति हो) से प्रार्थना करते हैं जिसे वे अल्लाह का साझी मानते हैं। कैथोलिक कुछ पूजाएं संतों, स्वर्गदूतों और मैरी के लिए करते हैं, जिसे वे उनका "सम्मान" मानते हैं। इन सभी चीजों को शिर्क माना जाता है।

पैगंबर मुहम्मद (उन पर अल्लाह की दया और आशीर्वाद हो) से प्रार्थना करना या पवित्र पुरुषों की कब्रों से प्रार्थना करना भी शिर्क माना जाता है।

सरकार या किसी धार्मिक नेता के ऐसे कानून में विश्वास करना जो इस्लाम की स्पष्ट शिक्षाओं के विपरीत हो शिर्क कहलाता है, जैसा कि अल्लाह कहता है:

“उन्होंने अपने विद्वानों और धर्माचारियों (संतों) को अल्लाह के सिवा पूज्य बना लिया” (क़ुरआन 9:31)

उन्होंने उनसे सीधे प्रार्थना नहीं की, बल्कि अल्लाह के धर्म में अल्लाह द्वारा बताये गए वैध को निषिद्ध और निषिद्ध को वैध में बदलने पर उन्हें अल्लाह के अलावा दूसरा प्रभु बना लिया। उन्होंने उन्हें वह अधिकार दिया जो सिर्फ अल्लाह के पास है - ईश्वरीय कानून बनाना।

बड़े शिर्क का एक अन्य रूप किसी भी रचना को अल्लाह के जैसा ईश्वरीय प्रेम करना है।

“कुछ ऐसे लोग भी हैं, जो अल्लाह के सिवा दूसरों को उसका साझी बनाते हैं और उनसे, अल्लाह से प्रेम करने जैसा प्रेम करते हैं तथा जो विश्वासी हैं वे अल्लाह से सर्वाधिक प्रेम करते हैं...” (क़ुरआन 2:165)

छोटे शिर्क

अल्लाह के अलावा किसी और की कसम खाना और सांसारिक लाभ के लिए धार्मिक कार्य करना, जैसे दिखावा करना या किसी के एहसान के लिए कोई कार्य करना, शिर्क के दो छोटे रूप हैं। अल्लाह के दूत ने कहा:

“जिस चीज से मैं आप लोगो के लिए सबसे ज्यादा डरता हूं वह है 'छोटा शिर्क।' साथियों ने पूछा 'ऐ! अल्लाह के दूत, "छोटा शिर्क" क्या है? उन्होंने कहा दिखावा करना, क्योंकि निश्चित रूप से पुनरुत्थान के दिन जब लोगों को अपना पुरस्कार मिल रहा होगा, तब अल्लाह उनसे कहेगा 'उसके पास जा जिसके लिए तू भौतिक दुनिया में दिखावा कर रहा था और देख कि क्या तुझे उनसे कोई पुरुस्कार मिलता है।'’” (अहमद, अत-तबरानी, ​​अल-बैहाकी)

एक बार पैगंबर ने घोषणा की:

“ऐ लोगों, छुपे हुए शिर्क से सावधान! लोगों ने पूछा, 'अल्लाह के दूत, छुपे हुए शिर्क क्या हैं?' उन्होंने उत्तर दिया, 'जब कोई व्यक्ति प्रार्थना करने जाता है और अपनी प्रार्थना को सुशोभित करने का प्रयास करता है क्योंकि लोग उसे देख रहे हैं; यह छिपा हुआ शिर्क है।’” (इब्न खुजैमाह)

लोगों की प्रशंसा पाने के लिए विभिन्न प्रकार की पूजा के कार्य करना दिखावा (अरबी में रिया) है। लोगों को प्रभावित करने के लिए धार्मिक कार्य करने से धार्मिक कार्यों के आध्यात्मिक लाभ नष्ट हो जाते हैं और व्यक्ति पर पाप लगता है। कभी-कभी सबसे पवित्र व्यक्ति भी इससे नहीं बचते हैं क्योंकि यह बहुत छिपा हुआ है और इसके पीछे अंतर्निहित प्रेरक शक्ति है। इससे बचने के लिए इस तथ्य पर ध्यान केंद्रित करो कि आप केवल अल्लाह की खुशी के लिए पूजा कर रहे हैं, न कि लोगों की खुशी के लिए।

एक मुसलमान को यह बहुत सावधानी से सुनिश्चित करना चाहिए कि उसके इरादे शुद्ध हों और जब भी अच्छा काम कर रहा हो तो उसका इरादा शुद्ध रहे। इसे सुनिश्चित करने के लिए इस्लाम में सभी महत्वपूर्ण कार्यों से पहले अल्लाह का नाम लेना बताया जाता है। पैगंबर ने सभी प्राकृतिक आदतों को पूजा के कृत्यों में बदलने और अल्लाह के बारे में जागरूक बनाने के लिए अनौपचारिक प्रार्थनाएं भी निर्धारित की हैं।

प्रतिदिन होने वाले शिर्क के उदाहरण

ज्योतिष और राशिफल

किसी व्यक्ति के जन्म के वर्ष के साथ सितारों और नक्षत्रों की स्थिति की तुलना करके भविष्य की भविष्यवाणी करना एक प्रकार का शिर्क है। केवल अल्लाह ही भविष्य जानता है, इसलिए सितारों का अध्ययन करके भविष्य की घटनाओं की भविष्यवाणी करना असंभव है। यह शिर्क का एक रूप है क्योंकि ज्योतिष में विश्वास ज्योतिषियों को भविष्य के ज्ञान का श्रेय देता है, इसके अलावा वे सितारों के लिए कुछ शक्तियों का वर्णन करते हैं जिन्हें न तो अल्लाह ने दिया है और न ही विज्ञान मानता है।

भविष्यवाणी

हथेलियां पढ़ना, क्रिस्टल बॉल को देखना और भविष्य की भविष्यवाणी करने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले अन्य रूप ऊपर दिए गए समान कारणों से शिर्क के रूप हैं।

संख्या 13

शिर्क का एक सामान्य उदाहरण यह विश्वास करना है कि तेरह एक अशुभ संख्या है, विशेष रूप से पश्चिम में, जहां ऊंची इमारतों में तेरहवीं मंजिल नहीं होना असामान्य नहीं है। यह शिर्क है क्योंकि यह केवल एक संख्या को दुर्भाग्य लाने की क्षमता प्रदान करता है!

शुभ या अशुभ जीव

दुनिया के कई हिस्सों में कई सदियों से कुछ जानवरों या वस्तुओं को अच्छे या बुरे भाग्य से जोड़ा जाना एक आम रिवाज रहा है। उदाहरण के लिए, काली बिल्लियां, मैगपाई (पक्षी), खरगोश के पैर और घोड़े की नाल को सौभाग्य लाने वाला माना जाता है। ये सभी उदाहरण शिर्क हैं क्योंकि इसमें अच्छी या बुरी किस्मत लाने की क्षमता अल्लाह की रचना को दी जाती है।

सभी मुसलमानों को सभी प्रकार के शिर्क से बचना चाहिए, और ऐसा करने का एकमात्र तरीका यह है कि वे इसके विभिन्न रूपों के बारे मे जानें और तौहीद की अवधारणा को अच्छी तरह से समझें। इस्लाम में शिर्क सबसे गंभीर पाप है, जो हत्या और व्यभिचार जैसे अन्य गंभीर पापों से अधिक गंभीर है, क्योंकि यह सिर्फ अल्लाह की पूजा करने के तथ्य के विपरीत है। इसलिए यह सही होगा कि मुसलमान शिर्क से बचने की पूरी कोशिश करें और स्वर्ग के बागों में प्रवेश करने के योग्य बने।

पाठ उपकरण
बेकार श्रेष्ठ
असफल! बाद में पुन: प्रयास। आपकी रेटिंग के लिए धन्यवाद।
हमें प्रतिक्रिया दे या कोई प्रश्न पूछें

इस पाठ पर टिप्पणी करें: अल्लाह पर विश्वास (2 का भाग 2): शिर्क, तौहीद का विपरीत

तारांकित (*) फील्ड आवश्यक हैं।'

उपलब्ध लाइव चैट के माध्यम से भी पूछ सकते हैं। यहाँ.
अन्य पाठ स्तर 1