लोड हो रहा है...
फ़ॉन्ट का आकारv: इस लेख के फ़ॉन्ट का आकार बढ़ाएं फ़ॉन्ट का डिफ़ॉल्ट आकार इस लेख के फॉन्ट का साइज घटाएं
लेख टूल पर जाएं

भूलने का सजदा

रेटिंग:

विवरण: यह पाठ समझाएगा कि जब आप नमाज़ पढ़ते समय गलती करते हो तो विभिन्न स्थितियों मे क्या करना चाहिए।

द्वारा Imam Mufti (© 2016 NewMuslims.com)

प्रकाशित हुआ 08 Nov 2022 - अंतिम बार संशोधित 07 Nov 2022

प्रिंट किया गया: 24 - ईमेल भेजा गया: 0 - देखा गया: 1,619 (दैनिक औसत: 3)


आवश्यक शर्तें

·नमाज़ - उन्नत

उद्देश्य

·'सजदा अस-सौह' का अर्थ जानना।

·उन स्थितियों को जानना जब यह किया जाता है।

·यह जानना कि अगर रुक्न, वाजिब, या नमाज़ का अनुशंसित कार्य छूट जाये तो क्या करना चाहिए ।

·सजदा अस-सौह करने की दो विधियां सीखना।

·कुछ सामान्य उदाहरणों को समझना कि सजदा अस-सौह कब करना है।

अरबी शब्द

·इमाम - नमाज़ पढ़ाने वाला।

·रकात - नमाज़ की इकाई।

·रुक्न - (बहुवचन: अर्कान) आवश्यक घटक; वह स्तंभ जिसके बिना कुछ भी खड़ा नहीं हो सकता।

·सजदा - साष्टांग प्रणाम।

·सजदा अस-सौह - भूलने का सजदा।

·नमाज - आस्तिक और अल्लाह के बीच सीधे संबंध को दर्शाने के लिए अरबी का एक शब्द। अधिक विशेष रूप से, इस्लाम में यह औपचारिक पाँच दैनिक प्रार्थनाओं को संदर्भित करता है और पूजा का सबसे महत्वपूर्ण रूप है।

·तकबीरतुल-एहराम - 'अल्लाहु अकबर' कहना जिससे नमाज़ शुरू होती है।

·तशह्हुद - नमाज़ मे बैठने की स्थिति मे "अत-तहियातु लिल्लाहि… मुहम्मदन अब्दुहु व रसूलुह" कहना।

·तसलीम - शांति का वह सलाम जिससे नमाज़ पूरी होती है।

·वाजिब - (बहुवचन: वाजिबात) अनिवार्य।

अर्थ

Prostration_of_Forgetfulness._001.jpgसाष्टांग प्रणाम का अरबी शब्द 'सजदा' है। इसका अर्थ है सिर, हाथ, घुटने और पैर की उंगलियों को जमीन पर रखना। नमाज़ मे की गई बड़ी गलतियों के लिए नमाज़ के अंत में किए गए दो सजदों को अरबी मे 'भूलने का सजदा' या सजदा अस-सौह कहा जाता है।

महत्त्व

हम इंसान स्वभाव से भुलक्कड़ होते हैं और जब हम अल्लाह से प्रार्थना कर रहे होते हैं तब भी भूल जाते हैं। हमारा निर्माता इस तथ्य को अच्छी तरह जानता है और उसने अपने पैगंबर (उन पर अल्लाह की दया और आशीर्वाद हो) को नमाज़ मे कुछ अवसरों पर भुलवा दिया। इस तरह पैगंबर ने हमें दिखाया कि नमाज़ मे अपनी गलतियों को कैसे सुधारा जाए। नमाज़ मे हमारी गलतियों के लिए अल्लाह की ओर से एक बड़ी दया है क्योंकि वह हमें हर गलती के लिए फिर से नमाज़ पढ़ने का आदेश दे सकता था, लेकिन उसने ऐसा नहीं किया।

भूलने के सजदे की आवश्यकता कब होती है?

वे दो अवसर हैं जब इनकी आवश्यकता होती है:

I.जब आप सलाहा के कृत्यों मे कुछ जोड़ते या घटाते हैं।

जोड़ने के उदाहरण:

आपने 4 की जगह 5 रकात नमाज़ पढ़ ली।

आपने दो के बजाय तीन सजदे कर लिए।

आपने पहली रकात के अंत में तशह्हुद पढ़ ली।

घटाने का उदाहरण:

आपने 4 की जगह 3 रकात नमाज़ पढ़ ली।

आपने दो की जगह एक सजदा किया।

आप पहली तशह्हुद पढ़े बिना तीसरी रकात के लिए खड़े हो गए।

II.जब आप रकातो की संख्या भूल जाते हैं और संदेह में होते हैं, (उदाहरण के लिए) आपने चार रकात पढ़ी है या तीन।

रुक्न भूलना (नमाज़ का आवश्यक घटक या स्तंभ)

यदि आप तक्बीरतुल-एहराम छोड़ देते हैं, तो आपकी नमाज़ नही होगी, चाहे आपने इसे जानबूझकर छोड़ा हो या भूल गए हो, क्योंकि इसका अर्थ है आपने नमाज़ शुरू ही नहीं की।

यदि आप तक्बीरतुल-एहराम के अलावा किसी रुक्न को जानबूझकर छोड़ देते हैं, तो आपकी नमाज़ मान्य नही होगी।

अगर भूलने की वजह से आपने एक रुक्न छोड़ दिया और अगली रकात पर पहुंच गए, तो जिस रकात मे आपने रुक्न छोड़ा है वह अमान्य है और इसकी जगह अगली रकात ले लेगी।

यदि आप अगली रकात तक नहीं पहुंचे हैं, तो आपको उस रुक्न पर लौटना चाहिए जिसे आपने छोड़ दिया है और उसे करना चाहिए और नमाज़ मे उसके बाद जो आता है वो करना चाहिए।

उपरोक्त दोनों स्थितियों में, आप "भूलने का सजदा" करेंगे।

वाजिब (नमाज़ का अनिवार्य कार्य) भूलना

यदि आप भूल से कोई वाजिब छोड़ देते हैं, जैसे पहली तशह्हुद या सजदा, तो आप नमाज़ के अंत में बस सजदा अस-सौह करें। हालांकि, अगर इसे जानबूझकर छोड़ दिया जाये, तो नमाज़ मान्य नही होगी।

नमाज़ मे एक अनुशंसित कार्य भूलना

यदि आप प्रार्थना के अनुशंसित कार्यों में से कोई एक करना भूल जाते हैं, तो आपको "भूलने का सजदा" करने की आवश्यकता नहीं है।

सजदा अस-सौह की विधि

आपके पास इसे करने की दो विधियां है:

1. नमाज़ के अंत में तसलीम से ठीक पहले

तसलीम से नमाज़ पूरी करने से पहले, आप अल्लाहु अकबर कहें, और फिर पहला सजदा करें।

सजदे मे तीन बार कहें, सुभा-ना रब्बियल अला। फिर आप अल्लाहु अकबर कहें और बैठ जाएं।

फिर दोबारा अल्लाहु अकबर कहें और दूसरा सजदा करें और वही शब्द पढ़ें जो आपने पहले सजदे मे पढ़े थे।

आप फिर आखिरी बार अल्लाहु अकबर कहें, बैठ जाएं, और हर बार "अस-सलामु अलैकुम व रहमतुल्लाह" कहते हुए अपने सिर को दाईं ओर और फिर बाईं ओर घुमाएं।

2. इसे तसलीम के बाद करना।

दूसरा तरीका यह है कि अपनी नमाज़ जारी रखें और इसे तसलीम के साथ पूरी करें जैसा कि आप सामान्य रूप से करते हैं।

इसके बाद आप अल्लाहु अकबर कहें और पहला सजदा करें, और तीन बार सुभा-ना रब्बियल अला पढ़ें। फिर आप अल्लाहु अकबर कहें और बैठ जाएं।

फिर आप दोबारा अल्लाहु अकबर कहें और अपना दूसरा सजदा करें और तीन बार सुभा-ना रब्बियल अला पढ़ें।

अंत में, आप आखिरी बार अल्लाहु अकबर कहें और बैठ जाएं, और फिर अपना चेहरा दाईं ओर घुमाते हुए "अस-सलामु अलैकुम व रहमतुल्लाह" कहें।

अधिक नोट्स/उदाहरण

1. यदि आपको तसलीम करने से पहले ध्यान आता है कि आपने नमाज़ में कुछ जोड़ा है, उदाहरण के लिए एक अतिरिक्त रकात, तो आप तसलीम से पहले या बाद में सजदा अस-सौह कर सकते हैं।

2. यदि आपने एक या एक से अधिक रकात नही पढ़ी है तो खड़े होकर उन्हें पूरा करना चाहिए, फिर नमाज़ के अंत में सजदा अस-सौह करें।

3. यदि आप सजदा अस-सौह करना भूल गए हैं, लेकिन कुछ देर बाद याद आए तो याद आते ही कर लेना चाहिए। हालांकि, यदि अधिक समय बीत चुका है, तो आपको कुछ भी करने की आवश्यकता नहीं है और आपकी नमाज़ मान्य होगी।

4. यदि इमाम सजदा अस-सौह करता है, तो उसके पीछे बाकी सभी लोग भी करेंगे, भले ही किसी व्यक्ति ने गलती न की हो।

5. यदि आप किसी इमाम के पीछे गलती करते हैं, तो आपको अपना सजदा अस-सौह नहीं करना चाहिए क्योंकि पैगंबर ने कहा है, "वास्तव में, इमाम को लोगो द्वारा अनुसरण करने के लिए बनाया गया है।”[1]

6. यदि आप इस बारे में अनिश्चित हो कि आपने कितनी रकात नमाज़ पढ़ी है, तो आप क्या करोगे? आप जिस संख्या के बारे में अधिक निश्चित हो उसे मान लो। उदाहरण के लिए, चार रकात की नमाज़ में, आपको लगता है कि आपने तीन रकात पढ़ी है, तो आपको एक और रकात पढ़ना चाहिए और सजदा अस-सौह करना चाहिए। अगर आपको लगता है कि आपने चार रकात पढ़ी है, तो आपको बस इतना करना है कि अंत मे सज्दा अस-सौह करना है। यदि आप यह तय करने में असमर्थ हैं कि दोनों में से कौन अधिक संभावित है, यह तीन रकात भी हो सकती है या चार भी, तो आप कम संख्या माने, यानी तीन रकात माने। आप एक और रकात पढ़ें और फिर सजदा अस-सौह करें।



फुटनोट:

[1] सहीह अल-बुखारी

प्रश्नोत्तरी और त्वरित नेविगेशन
पाठ उपकरण
बेकार श्रेष्ठ
असफल! बाद में पुन: प्रयास। आपकी रेटिंग के लिए धन्यवाद।
हमें प्रतिक्रिया दे या कोई प्रश्न पूछें

इस पाठ पर टिप्पणी करें: भूलने का सजदा

तारांकित (*) फील्ड आवश्यक हैं।'

उपलब्ध लाइव चैट के माध्यम से भी पूछ सकते हैं। यहाँ.
अन्य पाठ स्तर 10