भाषाएं

स्तर

श्रेणियाँ

चैट के माध्यम से लाइव सहायता

 

इस साइट के बारे में

न्यू मुस्लिम ई-लर्निंग साइट में आपका स्वागत है। यह नए मुस्लिम धर्मान्तरित लोगों के लिए है जो अपने नए धर्म को आसान और व्यवस्थित तरीके से सीखना चाहते हैं। इसमे पाठों को स्तरों के अंतर्गत संयोजित किए गया है। तो पहले आप स्तर 1 के तहत पाठ 1 पर जाएं। इसका अध्ययन करें और फिर इसकी प्रश्नोत्तरी करें। जब आप इसे पास कर लें तो पाठ 2 वगैरह पर आगे बढ़ें। शुभकामनाएं।

यहां से प्रारंभ करें

आपको पंजीकरण करने की सलाह दी जाती है ताकि आपके प्रश्नोत्तरी ग्रेड और प्रगति को सेव किया जा सकें। इसलिए पहले यहां पंजीकरण करें, फिर स्तर 1 के अंतर्गत पाठ 1 से शुरू करें और वहां से अगले पाठ की ओर बढ़ें। अपनी सुविधा अनुसार पढ़ें। जब भी आप इस साइट पर वापस आएं, तो बस "मैंने जहां तक पढ़ा था मुझे वहां ले चलें" बटन (केवल पंजीकृत उपयोगकर्ताओं के लिए उपलब्ध) पर क्लिक करें।

स्तर 1

पाठ 2: इस्लाम के स्तंभों और आस्था के अनुच्छेदों का परिचय (2 भागो का भाग 1)
विवरण: इस्लाम की आवश्यक शिक्षाएँ पाँच सिद्धांतों पर आधारित हैं, जिन्हें 'इस्लाम के पाँच स्तंभ' कहा जाता है, और छह मूलभूत मान्यताएँ, जिन्हें 'आस्था के छह अनुच्छेद' के रूप में जाना जाता है। भाग 1: 'इस्लाम' का अर्थ और इस्लाम के पांच स्तंभों की व्याख्या। प्रकार: लिखित पाठ - द्वारा Imam Mufti
प्रकाशित हुआ 08 Nov 2022 - अंतिम बार संशोधित 07 Nov 2022
प्रिंट किया गया: 0 - ईमेल भेजा गया: 0 - देखा गया: 248 (दैनिक औसत: 3)

पाठ 3: इस्लाम के स्तंभों और आस्था के अनुच्छेदों का परिचय (2 भागो का भाग 2)
विवरण: इस्लाम की आवश्यक शिक्षाएँ पाँच सिद्धांतों पर आधारित हैं, जिन्हें 'इस्लाम के पाँच स्तंभ' कहा जाता है, और छह मूलभूत मान्यताएँ, जिन्हें 'आस्था के छह अनुच्छेद' के रूप में जाना जाता है। भाग 2: आस्था के छह अनुच्छेद और और इसमें क्या-क्या शामिल है। प्रकार: लिखित पाठ - द्वारा Imam Mufti
प्रकाशित हुआ 08 Nov 2022 - अंतिम बार संशोधित 07 Nov 2022
प्रिंट किया गया: 0 - ईमेल भेजा गया: 0 - देखा गया: 188 (दैनिक औसत: 2)

पाठ 6: स्वर्ग (2 का भाग 1)
विवरण: क़ुरआन और पैगंबर मुहम्मद (उन पर अल्लाह की दया और आशीर्वाद हो) के कथनों के संदर्भ में स्वर्ग की एक झलक बताने वाला दो भागों वाला एक पाठ। भाग 1: खुशी की परिभाषा और प्रकार, और एक मुसलमान के व्यवहार और खुशी की भावना को प्रेरित करने में एक महत्वपूर्ण कारक के रूप में स्वर्ग की इच्छा। प्रकार: लिखित पाठ - द्वारा Imam Mufti
प्रकाशित हुआ 08 Nov 2022 - अंतिम बार संशोधित 07 Nov 2022
प्रिंट किया गया: 0 - ईमेल भेजा गया: 0 - देखा गया: 202 (दैनिक औसत: 2)

पाठ 7: स्वर्ग (2 का भाग 2)
विवरण: क़ुरआन और पैगंबर मुहम्मद (उन पर अल्लाह की दया और आशीर्वाद हो) के कथनों के संदर्भ में स्वर्ग की एक झलक बताने वाला दो भागो वाला पाठ। भाग 2: स्वर्ग में प्रवेश करने वाले विश्वासी कैसे दिखते हैं और स्वर्ग की खुशियां। प्रकार: लिखित पाठ - द्वारा Imam Mufti
प्रकाशित हुआ 08 Nov 2022 - अंतिम बार संशोधित 07 Nov 2022
प्रिंट किया गया: 0 - ईमेल भेजा गया: 0 - देखा गया: 160 (दैनिक औसत: 2)

पाठ 11: परिवार को बताना (2 का भाग 1)
विवरण: इस्लाम अपनाने वाले नए लोगों के लिए अपने मित्रों और परिवार को अपनी नई आस्था के बारे मे बताने के लिए व्यावहारिक सलाह वाला एक दो-भाग वाला पाठ। भाग 1: इस पाठ का उद्देश्य है चिंता को दूर करना और अपने प्रियजनों का सामना करने के लिए आत्मविश्वास बढ़ाना। प्रकार: लिखित पाठ - द्वारा NewMuslims.com
प्रकाशित हुआ 08 Nov 2022 - अंतिम बार संशोधित 07 Nov 2022
प्रिंट किया गया: 0 - ईमेल भेजा गया: 0 - देखा गया: 188 (दैनिक औसत: 2)

पाठ 12: परिवार को बताना (2 का भाग 2)
विवरण: इस्लाम अपनाने वाले नए लोगों के लिए अपने मित्रों और परिवार को अपनी नई आस्था के बारे मे बताने के लिए व्यावहारिक सलाह वाला एक दो-भाग वाला पाठ। भाग 2: यह पाठ इस बात पर बहुत जोर देता है कि माता-पिता के साथ कैसे व्यवहार किया जाए और उन्हें बताते हुए उनका सम्मान कैसे बनाए रखा जाए। प्रकार: लिखित पाठ - द्वारा NewMuslims.com
प्रकाशित हुआ 08 Nov 2022 - अंतिम बार संशोधित 07 Nov 2022
प्रिंट किया गया: 0 - ईमेल भेजा गया: 0 - देखा गया: 205 (दैनिक औसत: 2)

पाठ 15: अल्लाह पर विश्वास (2 का भाग 1): तौहीद की श्रेणियां
विवरण: तौहीद (एकेश्वरवाद) की अवधारणा आस्था (शहादा) की गवाही के हर भाग मे निहित है। इस दो भाग के पाठ का उद्देश्य आस्तिक को इस अनूठी अवधारणा को समझाना है। भाग एक मे तौहीद की श्रेणियों पर चर्चा है। प्रकार: लिखित पाठ - द्वारा Imam Mufti
प्रकाशित हुआ 08 Nov 2022 - अंतिम बार संशोधित 07 Nov 2022
प्रिंट किया गया: 0 - ईमेल भेजा गया: 0 - देखा गया: 183 (दैनिक औसत: 2)

पाठ 16: अल्लाह पर विश्वास (2 का भाग 2): शिर्क, तौहीद का विपरीत
विवरण: तौहीद (एकेश्वरवाद) की अवधारणा आस्था (शहादा) की गवाही के हर भाग मे निहित है। इस दो भाग के पाठ का उद्देश्य आस्तिक को इस अनूठी अवधारणा को समझाना है। भाग दो में तौहीद से जुड़े सबसे बड़े उल्लंघन यानी शिर्क के पहलू पर चर्चा की गई है। प्रकार: लिखित पाठ - द्वारा Imam Mufti
प्रकाशित हुआ 08 Nov 2022 - अंतिम बार संशोधित 07 Nov 2022
प्रिंट किया गया: 0 - ईमेल भेजा गया: 0 - देखा गया: 181 (दैनिक औसत: 2)

पाठ 21: ईश्वरीय पूर्वनियति में विश्वास (2 का भाग 1)
विवरण: यदि सब कुछ ईश्वर ने पहले से ही निर्धारित कर दिया है, तो लोगो की इच्छा की स्वतंत्रता कैसे हुई? इसका उत्तर इस दो भाग वाले पाठ में है। प्रकार: लिखित पाठ - द्वारा Imam Mufti
प्रकाशित हुआ 08 Nov 2022 - अंतिम बार संशोधित 07 Nov 2022
प्रिंट किया गया: 0 - ईमेल भेजा गया: 0 - देखा गया: 181 (दैनिक औसत: 2)

पाठ 22: ईश्वरीय पूर्वनियति में विश्वास (2 का भाग 2)
विवरण: यदि सब कुछ ईश्वर ने पहले से ही निर्धारित कर दिया है, तो लोगो की इच्छा की स्वतंत्रता कैसे हुई? इसका उत्तर इस दो भाग वाले पाठ में है। प्रकार: लिखित पाठ - द्वारा Imam Mufti
प्रकाशित हुआ 08 Nov 2022 - अंतिम बार संशोधित 07 Nov 2022
प्रिंट किया गया: 0 - ईमेल भेजा गया: 0 - देखा गया: 155 (दैनिक औसत: 2)