लोड हो रहा है...
फ़ॉन्ट का आकारv: इस लेख के फ़ॉन्ट का आकार बढ़ाएं फ़ॉन्ट का डिफ़ॉल्ट आकार इस लेख के फॉन्ट का साइज घटाएं
लेख टूल पर जाएं

सुन्नत का संरक्षण (4 का भाग 4)

रेटिंग:

विवरण: हदीस के संग्रह, इसके संरक्षण और प्रसारण का परिचय। भाग 4: हदीस के संग्रह का तीसरा और चौथा चरण और इसके संरक्षण के तरीके।

द्वारा Imam Mufti

प्रकाशित हुआ 08 Nov 2022 - अंतिम बार संशोधित 07 Nov 2022

प्रिंट किया गया: 43 - ईमेल भेजा गया: 0 - देखा गया: 1,337 (दैनिक औसत: 3)


शर्त

·हदीस और सुन्नत के लिए शुरुआती मार्गदर्शक

उद्देश्य

·हदीस संग्रह के चार चरणों को जानना।

·सुन्नत के संरक्षण में उमर बिन अब्दुलअज़ीज़ की भूमिका को जानना।

·तीसरी शताब्दी में हदीस संग्रह के पूरा होने और उस समय के प्रमुख कार्यों को जानना।

·हदीस को संरक्षित करने के विभिन्न तरीकों को जानना।

अरबी शब्द

·सुन्नत - अध्ययन के क्षेत्र के आधार पर सुन्नत शब्द के कई अर्थ हैं, हालांकि आम तौर पर इसका अर्थ है जो कुछ भी पैगंबर ने कहा, किया या करने को कहा।

·हिज्राह - एक स्थान से दूसरे स्थान पर प्रवास करना। इस्लाम में, हिज्राह मक्का से मदीना की ओर पलायन करने वाले मुसलमानों को संदर्भित करता है और इस्लामी कैलेंडर की शुरुआत का भी प्रतीक है।

·हदीस - (बहुवचन - हदीसें) यह एक जानकारी या कहानी का एक टुकड़ा है। इस्लाम में यह पैगंबर मुहम्मद और उनके साथियों के कथनों और कार्यों का एक वर्णनात्मक रिकॉर्ड है।

हदीस के संग्रह का तीसरा चरण

पैगंबर को देखने और सुनने वाली पीढ़ी के बाद, हदीस के संग्रह का काम तीसरे चरण में प्रवेश कर गया। चूंकि पैगंबर के साथियों ने इस्लामी दुनिया में बहुत दूर तक यात्रा की थी और अपनी मृत्यु से पहले सुन्नत का ज्ञान अपने छात्रों को दिया था, और पूरी हदीस का संचय अब विभिन्न शिक्षकों की संपत्ति थी जो विभिन्न केंद्रों में पढ़ाते थे। लेकिन दूसरे चरण में, हदीस व्यक्तिगत कब्जे से सार्वजनिक कब्जे में चली गई, और इसलिए पूरी संचित हदीस तीसरे चरण में अलग-अलग लोगों के बजाय अलग-अलग केंद्रों में सीखा जा सकता था।

उमय्यद खलीफा उमर इब्न अब्दुलअज़ीज़, जिसने हिज्राह की पहली शताब्दी के अंत तक शासन किया, वह पहला व्यक्ति था जिसने इस आशय के निश्चित आदेश जारी किए कि हदीस का लिखित संग्रह किया जाना चाहिए। उमर इब्न अब्दुलअज़ीज़ ने अबू बक्र इब्न हज़्म को लिखा:

“पैगंबर के जो भी कथन है उसे ढूंढो और लिख लो, क्योंकि मुझे लगता है कि यह ज्ञान और इसके ज्ञानी विद्वान खो सकते हैं; और पैगंबर की हदीस के अलावा कुछ भी स्वीकार न करो; और ज्ञान को सार्वजनिक करना चाहिए और सबको साथ में बैठना चाहिए ताकि जो नहीं जानता वह जान जाए, क्योंकि लोगों को बताने से ज्ञान गायब नहीं होगा।”[1]

अबू बक्र इब्न हज़म मदीना में ख़लीफ़ा के गवर्नर थे, और इस बात के प्रमाण हैं कि इसी तरह के पत्र अन्य केंद्रों को लिखे गए थे। दूसरी शताब्दी के मध्य से पहले, हदीस के लिखित संग्रह में आम जनता की रूचि देखी गई थी। हदीस के सैकड़ों छात्र अलग-अलग केंद्रों में इसे सीखते थे। हदीस के हर विद्वान ने हदीस की तलाश में यात्रा की । एक प्रसिद्ध शास्त्रीय विद्वान खतीब अल-बगदादी ने एक संपूर्ण लेख, अर-रिहला फी तलब अल-हदीस, या 'हदीस की खोज में यात्रा' लिखा है। मजे की बात यह है कि लेख उन विद्वानों के बारे में बताता है जिन्होंने सिर्फ एक हदीस की तलाश में यात्रा की थी! इस युग का अब तक का सबसे महत्वपूर्ण संग्रह इमाम मलिक का मुवत्ता है जिसका हाल ही में अंग्रेजी में अनुवाद किया गया है।

हदीस के संग्रह का चौथा चरण

हदीस के संग्रह का काम हिज्राह की तीसरी शताब्दी में पूरा किया गया था। इस युग की हदीस की सावधानीपूर्वक संकलित पुस्तकें अपने पूर्ण रूप में हम तक पहुंची है। यह वो समय था जब हदीस के तीन प्रकार के संग्रह किए गए थे: मुसनद , जामी', और सुनन । मुसनद पहला प्रकार था और जामी बाद का। हदीस के संग्रह मुसनद को हदीस की विषय-वस्तु के अनुसार नहीं बल्कि उस साथी के नाम से व्यवस्थित किया गया था जिसके अंतिम अधिकार पर हदीस निर्भर था। इस वर्ग के कार्यों में सबसे महत्वपूर्ण इमाम अहमद हंबल की मुसनद है जिसमें लगभग तीस हजार कथन हैं। अहमद का जन्म 164 एएच में हुआ था और मृत्यु 241 एएच में हुई थी, और ये इस्लाम के इतिहास में सबसे महान विद्वानों में से एक हैं। हालांकि, उनके संग्रह में सभी प्रकार के कथन हैं। जामी' में न केवल विषय के अनुसार कथन की व्यवस्था है, बल्कि अधिक महत्वपूर्ण भी है। इस शीर्षक के तहत आम तौर पर छह पुस्तकों को मान्यता दी जाती है, जो मुहम्मद इब्न इस्माइल द्वारा किए गए संग्रह हैं, जिन्हें आमतौर पर अल-बुखारी (मृत्यु 256 एएच), मुस्लिम (मृत्यु 261 एएच), अबू दाऊद (मृत्यु 275 एएच), अल-तिर्मिज़ी (मृत्यु 279 एएच), इब्न माजा (मृत्यु 283 एएच) और अल-नसाई (मृत्यु 303 एएच) के रूप में जाना जाता है। इन किताबों के कथन को विषय वस्तु के अनुसार वर्गीकृत किया गया है, जिससे इस्लाम के विद्वानों के लिए हदीस को संदर्भित करना आसान हो गया है। ये सभी पुस्तकें उनके मूल लेखकों द्वारा लिखित रूप में हम तक पहुंची है। कुछ प्रमुख कृतियों का अंग्रेजी में अनुवाद किया गया है।

हदीस को संरक्षित करने के तरीके

हदीस संग्रह के सभी चरणों के दौरान, हदीस को संरक्षित करने के लिए आठ विधियों का उपयोग किया गया था। केवल पहले और दूसरे पर संक्षेप में नीचे चर्चा की जाएगी:

(1)समा': अर्थात शिक्षक द्वारा विद्यार्थियों को पढ़ के सुनाना।

(2) अर्द: छात्रों द्वारा शिक्षकों को पढ़ के सुनाना।

(3)इजाज़ा: विद्वान के अधिकार पर पढ़े बिना किसी को हदीस या किताब प्रसारित करने की अनुमति देना।

(4)मुनावलाः किसी को लिखित सामग्री प्रेषित करने के लिए सौंपना।

(5)किताबह: किसी के लिए हदीस लिखना।

(6)इलम: किसी को सूचित करना कि बताने वाले के पास कुछ सामग्री प्रसारित करने की अनुमति है।

(7)वसियह: किसी को अपनी पुस्तकें सौंपना।

(8)वजादह: किसी के द्वारा लिखी गई कुछ किताबों या हदीस को मृत सागर स्क्रॉल की ईसाई खोज या टिसचेंडोर्फ द्वारा माउंट सिनाई में कुछ भिक्षुओं के साथ नए नियम की सबसे पुरानी पांडुलिपि की खोज। किसी भी स्तर पर मुस्लिम विद्वानों ने इसे संचरण का एक विश्वसनीय तरीका नहीं माना।

पैगंबर के साथियों के समय में केवल पहली विधि का इस्तेमाल किया गया था। छात्र अपने शिक्षकों के साथ रहते थे, उनकी सेवा करते थे और उनसे सीखते थे। इसके कुछ समय बाद, सबसे आम तरीके पहले और दूसरे थे। चूंकि वजादह को विद्वानों ने मान्यता नहीं दी थी, इसलिए ऊपर सूचीबद्ध सात के अलावा किसी भी विधि को स्वीकार नहीं किया गया था।

समा में मौखिक पाठ, पुस्तकों से पढ़ना, प्रश्न और उत्तर और श्रुतलेख शामिल थे। शिक्षक द्वारा हदीस के मौखिक पाठ की प्रथा दूसरी शताब्दी के उत्तरार्ध से कम होने लगी, हालांकि यह लंबे समय तक बनी रही। छात्र लंबे समय तक एक विद्वान से जुड़े रहते थे, जब तक कि उन्हें अपने शिक्षक की हदीस पर अधिकारी नहीं माना जाता था। एक पाठ में केवल कुछ हदीस, लगभग चार या पांच पर चर्चा की जाती थी। शिक्षकों का अपनी पुस्तकों से पढ़ना पसंद किया जाता था। शिक्षकों ने छात्र की पुस्तक से भी पढ़ा था। यह शिक्षकों के परीक्षण का एक तरीका था यह देखने के लिए कि क्या उन्होंने अपनी हदीस को ठीक से याद किया है। वे हदीस को अपने शिक्षक से सीखी गई हदीस में डाल देते थे, और किताब को पढ़ने के लिए शिक्षक दे देते थे, ताकि यह पता लगाया जा सके कि उनकी सामग्री पर उनकी पकड़ है या नहीं।

दूसरी शताब्दी की शुरुआत से अर्द सबसे आम प्रथा थी। या तो शिक्षकों ने प्रतियां दीं, या छात्रों ने मूल से प्रतियां बनाई। वो हर हदीस के बाद एक गोलाकार निशान बनाते थे। जब भी छात्र हदीस को अपने शिक्षक को सुनाता, तो वह गोलाकार में एक निशान बनाता, इसका मतलब यह था कि इस हदीस को शिक्षक को सुना दिया गया है। यह आवश्यक था क्योंकि भले ही छात्र हदीस को किताबों के माध्यम से जानता था, उसे इसे दूसरों को पढ़ाने में या अपने स्वयं के संकलन के लिए तब तक उपयोग करने की अनुमति नहीं थी जब तक कि वह इसे उचित माध्यम से प्राप्त न कर ले। अन्यथा, उसे हदीस चुराने वाला या सारिक अल-हदीस कहा जाता था।

एक नियमित रिकॉर्ड रखा जाता था और पूरी किताब पढ़ने के बाद, शिक्षक या कक्षाओं में भाग लेने वाले प्रसिद्ध विद्वानों में से एक द्वारा एक नोट लिखा जाता था। इनमें उपस्थिति का विवरण होता था, जैसे कि किसने पूरी पुस्तक को सुना, कौन आंशिक रूप से शामिल हुआ, उन्होंने कौन सा भाग पढ़ा, और किस भाग को याद किया, तारीखें और स्थान के साथ। पुस्तक में आमतौर पर शिक्षक या एक प्रसिद्ध उपस्थित विद्वान द्वारा हस्ताक्षर किए जाते थे, यह इंगित करने के लिए कि पुस्तक में और कुछ जोड़ा नहीं जा सकता है।

निष्कर्ष

प्रारंभिक मुसलमानों के जबरदस्त और सावधानीपूर्वक प्रयासों के परिणामस्वरूप पैगंबर की सुन्नत और हदीस को हमारे लिए सटीक और विश्वसनीय रूप से संरक्षित किया गया है। चूंकि पैगंबर मुहम्मद (उन पर अल्लाह की दया और आशीर्वाद हो) अल्लाह द्वारा मानवता के लिए भेजा गए अंतिम पैगंबर है, यह समझ में आता है कि उनकी शिक्षाओं को पूरी तरह से संरक्षित किया जाए। यदि उनकी शिक्षाओं को संरक्षित नहीं किया गया होता, तो यह पता लगाने के लिए एक और पैगंबर की आवश्यकता होती कि अल्लाह का धर्म क्या है और अल्लाह के आदेशों का पालन कैसे करना है। पैगंबर मुहम्मद की शिक्षाओं को न्याय के दिन तक संरक्षित रखा जाएगा और इसलिए कोई और पैगंबर नहीं आएगा। इस्लाम को सीखना और इसका अभ्यास करना हम पर है क्योंकि पैगंबर मुहम्मद ने मोक्ष पाने के तरीके को सही ढंग से और पूरी तरह से सिखाया था।

टिप्पणी



फुटनोट:

[1] सहीह अल-बुखारी

पाठ उपकरण
बेकार श्रेष्ठ
असफल! बाद में पुन: प्रयास। आपकी रेटिंग के लिए धन्यवाद।
हमें प्रतिक्रिया दे या कोई प्रश्न पूछें

इस पाठ पर टिप्पणी करें: सुन्नत का संरक्षण (4 का भाग 4)

तारांकित (*) फील्ड आवश्यक हैं।'

उपलब्ध लाइव चैट के माध्यम से भी पूछ सकते हैं। यहाँ.
अन्य पाठ स्तर 3