लोड हो रहा है...
फ़ॉन्ट का आकारv: इस लेख के फ़ॉन्ट का आकार बढ़ाएं फ़ॉन्ट का डिफ़ॉल्ट आकार इस लेख के फॉन्ट का साइज घटाएं
लेख टूल पर जाएं

एक मुसलमान के जीवन का एक दिन (2 का भाग 1): जागने से लेकर देर सुबह तक

रेटिंग:

विवरण: जानें कि कैसे एक मुस्लिम व्यक्ति की दैनिक आध्यात्मिक दिनचर्या का पालन करके आप अपने दैनिक दिनचर्या की गतिविधियों को उपासना के पुरस्कृत कार्यों में बदल सकते हैं।

द्वारा Imam Mufti

प्रकाशित हुआ 08 Nov 2022 - अंतिम बार संशोधित 07 Nov 2022

प्रिंट किया गया: 18 - ईमेल भेजा गया: 0 - देखा गया: 1,466 (दैनिक औसत: 3)


आवश्यक शर्तें

·नए मुसलमानों के लिए प्रार्थना (2 भाग)

उद्देश्य

·जागने से लेकर देर सुबहतक एक मुसलमान की दैनिक आध्यात्मिक दिनचर्या जानना।

अरबी शब्द

·नमाज - आस्तिक और अल्लाह के बीच सीधे संबंध को दर्शाने के लिए अरबी का एक शब्द। अधिक विशेष रूप से, इस्लाम में यह औपचारिक पाँच दैनिक प्रार्थनाओं को संदर्भित करता है और पूजा का सबसे महत्वपूर्ण रूप है।

·फज्र - सुबह की प्रार्थना।

·ग़ुस्ल - अनुष्ठान स्नान।

·वूदू - वुज़ू।

·जिक्र - (बहुवचन: अज़कार) अल्लाह को याद करना।

·रकात - प्रार्थना की इकाई।

यदि कोई मुसलमान रोज़मर्रा के सामान्य कार्य अल्लाह को प्रसन्न करने के लिए करता है तो ये पूजा के कार्य बन जाते हैं। उनमें से नियमित, और सिलसिलेवार कार्य सर्वोत्तम हैं। अल्लाह के दूत (उन पर अल्लाह की दया और आशीर्वाद हो) ने कहा, "अल्लाह को सबसे ज्यादा पसंद वो कार्य हैं जो नियमित रूप से किए जाते हैं, भले ही वे छोटे हों।[1]ईश्वरीय पुरस्कार प्राप्त करने के लिए हमें अपनी दिनचर्या में कुछ भी असाधारण नहीं करना है, लेकिन हमें कुछ दैनिक दिनचर्या बनानी चाहिए जिसमें न केवल हमारी दैनिक प्रार्थनाएं शामिल हों, बल्कि क़ुरआन पढ़ना, अल्लाह को याद करना (अज़कार), और अन्य सरल अच्छे काम शामिल हों। यह दिल को संतुष्टि देगा, आत्मा को स्वस्थ करेगा और आस्तिक को सीधे रास्ते पर रखेगा।

हम में से कई छात्र हैं या पूर्णकालिक काम करते हैं। हम किशोर हैं, अकेली मां हैं, पूर्णकालिक मां हैं या सेवानिवृत्त हैं। मुसलमान अलग-अलग होते हैं, और इसका मतलब है कि हर किसी का अपना एक अनूठा जीवन और दिनचर्या होती है, लेकिन इस्लाम की सामान्य आध्यात्मिक प्रथाएं हमारे जीवन में सद्भाव और संतुलन लाती हैं। यह लेख एक औसत मुसलमान के दैनिक जीवन में उस आध्यात्मिक पक्ष को बताने का प्रयास करेगा जो संसार को ईश्वर से जोड़ता है।

भोर में

(1) सुबह उठने पर एक मुसलमान जो सबसे पहला काम करता है, वह है इस दुआ को पढ़कर अल्लाह का शुक्रिया अदा करना कि उसने हमें जीवन दिया:

अलहमदुलिल्लाहिल लजी अहयना बाद मा अमताना व इलैहिन- नुशूर।

“सभी प्रशंसा उस अल्लाह के लिए है जिसने हमारा जीवन लेने के बाद हमें जीवन दिया और एक दिन वापस हमें उसी के पास जाना है।”[2]

(2) दूसरी चीज जो मुसलमान करता है वह है वुज़ू करना या फज्र की नमाज़ के लिए ग़ुस्ल (अगर ज़रूरत हो) करना, मासिक धर्म या प्रसव के बाद वाली महिलाओं को छोड़कर जो नमाज नहीं पढ़ती हैं। बाथरूम में जाने से पहले व्यक्ति "बिस-मिल्लाह" कहता है, उसके बाद बाथरूम में जाने की प्रार्थना करता है:

अल्ला हुम्मा इन्नी आउजुबिका मिनल खुबूसी वल खबाइस

“मैं अल्लाह के नाम से शुरू करता हूं। ऐ अल्लाह मे तेरी पनहा चाहता हु शैतानो और खबीस ज़िनों से”[3]

फिर वह बाएं पैर से बाथरूम मे प्रवेश करता है।

(3) स्वयं को साफ करने के लिए बाथरुम में बायें हाथ का प्रयोग करें। आयशा (जिस पर अल्लाह प्रसन्न है) ने कहा कि अल्लाह के दूत अपने दाहिने हाथ का उपयोग वुज़ू और भोजन के लिए करते थे, और शौचालय में अपने बाएं हाथ का उपयोग करते थे।[4]

(4) दातून करना चाहिए[5]. पैगंबर ने कहा:

“अगर मैं अपने अनुयायियों के लिए मुश्किल नहीं पाता, तो मैं उन्हें हर नमाज़ के लिए अपने दांत साफ करने का आदेश देता।”[6]

(5) वुज़ू करने के बाद की प्रार्थना:

अश-हदु अल्लाह इल्लाहा इल्लल्लाहु वह-दहु ला शरी-क लहू व अशदुहु अन्ना मुहम्मदन अब्दुहु व रसूलुहु

“मैं गवाही देता हूं कि अल्लाह के सिवा कोई पूजा के लायक नही है। वो अकेला है और उसका कोई साथी नहीं है, और मैं गवाही देता हूं कि पैगंबर मुहम्मद उनके नेक बंदे और आखिरी दूत हैं।”[7]

(6) बाथरूम से बाहर निकलने पर एक मुसलमान कहता है:

गुफरानक

“(मैं मांगता हूं) आपकी क्षमा।”[8]

(8) काम पर या स्कूल जाने से पहले, मुसलमान अपने दिन की शुरुआत दो रकात सुन्नत (स्वैच्छिक) नमाज़ और उसके बाद अनिवार्य फज्र नमाज से करता है। एक मुसलमान को नमाज का समय शुरू होने के बाद जल्द से जल्द नमाज़ पढ़ने की आदत डालनी चाहिए। पैगंबर (उन पर अल्लाह की दया और आशीर्वाद हो) से पूछा गया कि कौन सा काम अल्लाह को सबसे प्रिय है। उन्होंने कहा:

“वो नमाज जो सही समय पर पढ़ी जाये।”[9]

एक मुसलमान को उचित ध्यान और एकाग्रता के साथ नमाज पढ़नी चाहिए, क्योंकि न्याय के दिन नमाज पहली चीज़ होगी जिसका सवाल पूछा जायेगा। पैगंबर ने कहा:

“जब तुम अपनी नमाज़ के लिए खड़े हो, तो इसे ऐसा समझो जैसे कि यह तुम्हारी आखिरी नमाज़ है; ऐसा कोई शब्द न कहो जिसके लिए आने वाले दिन तुम्हें बहाना बनाना पड़े; और जो कुछ मनुष्यों के हाथ में है उस पर आशा न रखना।”[10]

(9) सुबह का शांत समय उन लोगों के लिए क़ुरआन पढ़ने का एक अच्छा अवसर है जो पढ़ सकते हैं। यह व्यक्ति के लिए पूरी तरह से ध्यान केंद्रित करने और सबसे अधिक आध्यात्मिक लाभ प्राप्त करने का समय है। पैगंबर ने कहा:

‘सुबह के समय क़ुरआन पढ़ना हमेशा देखा जाता है - रात के स्वर्गदूत और दिन के स्वर्गदूत इसकी गवाही देते हैं।”[11]

फज्र की नमाज़ के बाद अगर कोई फिर से सोना चाहता है तो सो सकता है, इसमें कोई निषेध नहीं है।

मध्य और देर सुबह

(1) अल्लाह जानता है कि उसकी रचना के लिए सबसे अच्छा क्या है और उसने हमें हमारे स्वास्थ्य के लिए प्राकृतिक स्वस्थ भोजन प्रदान किया है। पैगंबर के पास जो उपलब्ध स्वस्थ खाद्य पदार्थ होता था वो उसे खाते थे, जैसे कि खजूर, जैतून, जैतून का तेल, शहद, रोटी, मांस और दूध। प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थों से बचना और यदि उपलब्ध हो तो प्राकृतिक खाद्य पदार्थ खाना सबसे अच्छा है। अल्लाह को खुश करने के इरादे से पैगंबर का अनुसरण करने की कोशिश करना स्वाभाविक रूप से पूजा के कार्य के रूप में पुरस्कृत किया जाएगा। इस बात को ध्यान में रखते हुए मुस्लिम माता-पिता को चाहिए कि वे अपने बच्चों की पोषण संबंधी जरूरतों को पूरा करें। साफ-सफाई पर भी ध्यान देना चाहिए, जिसका सभी मामलों में पालन किया जाना चाहिए, विशेष रूप से भोजन बनाने और परोसने में।

(2) एक मुसलमान खाने की शुरुआत अल्लाह के नाम से करता है, "बिस्मिल्लाह हिर-रहमान निर-रहीम," फिर अपने दाहिने हाथ से खाना-पीना। पैगंबर ने एक लड़के को खाने-पीने की शिक्षा दी जो उनके साथ भोजन कर रहा था:

“... अल्लाह का नाम लो, और अपने दाहिने हाथ से खाओ और जो खाना तुम्हारे नजदीक है उसे खाओ।”[12]

(3) खाना खत्म करने के बाद, एक मुसलमान यह प्रार्थना कहकर अल्लाह को धन्यवाद देता है:

अलहम्दु लिल्ला हिल्लजी अत अमनी हाज़ा व रजकनीही मिन ग़ैरी हौलिन मिन्नी वला क़ुव्वह।

“सभी प्रशंसा अल्लाह के लिए है जिसने मुझे यह खाना खिलाया और मुझे किसी ताकत और कुव्वत के बिना प्रदान किया।”[13]

अधिक खाना सेहत के लिए हानिकारक होता है। अल्लाह के दूत ने कहा:

“आदम के पुत्र अपने पेट से ज्यादा अल्लाह को नापसंद करने वाला कोई बर्तन नहीं भरता। ताकत बनाए रखने के लिए कुछ निवाले हि पर्याप्त होते हैं। यदि उसे भरना ही है, तो उसे अपने भोजन के लिए एक तिहाई, पानी के लिए एक तिहाई और आसान सांस लेने के लिए एक तिहाई जगह खाली छोड़ देना चाहिए।”[14]

(4) बच्चों की परवरिश एक महिला के लिए एक महत्वपूर्ण और सम्मानजनक कार्य है। एक मुस्लिम मां को अपने बच्चों के साथ अच्छा समय बिताना चाहिए। खासकर बच्चों को मां की अतिरिक्त देखभाल की जरूरत होती है। बच्चों के साथ अच्छा समय बिताने के लिए इसे व्यस्त दैनिक कार्यक्रम में शामिल करना जरूरी है। अच्छे समय में किताबें पढ़ना, बुनियादी तौर-तरीके और नैतिकता सिखाना, साथ में क़ुरआन पढ़ना, खेल खेलना, पार्क और लाइब्रेरी जाना, और बहुत कुछ शामिल हो सकते हैं। बच्चों के आध्यात्मिक, बौद्धिक, भावनात्मक और शारीरिक विकास पर जोर दिया जाना चाहिए। ऐसा दिन की शुरुआत में करने से बच्चे को बाद में खेलने के लिए और अन्य गतिविधियों के लिए समय मिलेगा।

पिता को भी अपने बच्चों के साथ समय बिताना चाहिए क्योंकि उन्हें पालने में उनकी अहम भूमिका होती है। एक मुस्लिम पिता को चाहिए कि वह शाम या सप्ताहांत में उनके साथ समय बिताएं, उनकी चिंताओं को सुनें और अपने बच्चों के साथ स्वस्थ गतिविधियां करके उनके साथ अच्छे संबंध बनाएं। हालांकि, आवश्यक बात यह है कि अपने बच्चों को समय सिर्फ उनके लिए या अपने लिए नहीं दे, बल्कि ऐसा अल्लाह से इनाम पाने के लिए करें।

(5) एक मुसलमान अल्लाह पर भरोसा करके अपने घर से बाहर निकलता है और यह प्रार्थना करता है:

बिस्मिल्लाही तवक्कलतु ‘अलल्लाही ला हवला वला क़ूव्वता इल्ला बिल्लाह।

“मैं अल्लाह के नाम से शुरू करता हूं, मैं अल्लाह पर निर्भर हूं, अल्लाह के अलावा कोई ताकत और क़ुव्वत नहीं है”[15]

अल्लाह के दूत ने कहा:

“जब कोई आदमी यह कहकर घर से निकलता है, 'मैं अल्लाह के नाम से शुरू करता हूं, मैं अल्लाह पर निर्भर हूं, अल्लाह के अलावा कोई ताकत और क़ुव्वत नहीं है,' उस समय उससे कहा जाता है, 'आप निर्देशित हैं, आपकी देखभाल की जाती है, आप सुरक्षित हैं।' शैतान उससे दूर हो जायेगा, और दूसरा शैतान कहेगा, 'आप उस व्यक्ति को कैसे नुकसान पहुंचा सकते हैं जो पहले से ही निर्देशित और संरक्षित है?'’”[16]



फुटनोट:

[1] सहीह अल-बुखारी, सहीह मुस्लिम

[2] सहीह अल-बुखारी

[3] अबू दाऊद

[4] अबू दाऊद

[5] सबसे अच्छा है कि पीलू की जड़ का उपयोग करें, जिसे आमतौर पर "मिस्वाक" कहा जाता है और दुनिया भर में कई इस्लामिक दुकानों में बेचा जाता है।

[6] सहीह अल-बुखारी, मुस्लिम

[7] तिर्मिज़ी

[8] अबू दाऊद

[9] सहीह अल-बुखारी

[10] अहमद

[11] तिर्मिज़ी

[12] सहीह अल-बुखारी

[13] तिर्मिज़ी

[14] इबिद

[15] अबू दाऊद

[16] इबिद

पाठ उपकरण
बेकार श्रेष्ठ
असफल! बाद में पुन: प्रयास। आपकी रेटिंग के लिए धन्यवाद।
हमें प्रतिक्रिया दे या कोई प्रश्न पूछें

इस पाठ पर टिप्पणी करें: एक मुसलमान के जीवन का एक दिन (2 का भाग 1): जागने से लेकर देर सुबह तक

तारांकित (*) फील्ड आवश्यक हैं।'

उपलब्ध लाइव चैट के माध्यम से भी पूछ सकते हैं। यहाँ.
अन्य पाठ स्तर 3