लोड हो रहा है...
फ़ॉन्ट का आकारv: इस लेख के फ़ॉन्ट का आकार बढ़ाएं फ़ॉन्ट का डिफ़ॉल्ट आकार इस लेख के फॉन्ट का साइज घटाएं
लेख टूल पर जाएं

मुस्लिम समुदाय के साथ तालमेल बिठाना

रेटिंग:

विवरण: इस्लाम मानने वाले व्यक्ति को आस्तिक समुदाय के साम्प्रदायिक पूजा में भाग लेने की आवश्यकता होती है। यह पाठ मुस्लिम समुदाय का हिस्सा बनने की प्रक्रिया में मदद करता है और मार्गदर्शन करता है।

द्वारा Imam Mufti

प्रकाशित हुआ 08 Nov 2022 - अंतिम बार संशोधित 07 Nov 2022

प्रिंट किया गया: 23 - ईमेल भेजा गया: 0 - देखा गया: 1,451 (दैनिक औसत: 3)


उद्देश्य

·मुस्लिम समुदाय से तालमेल बैठाने, उसमे भाग लेने और उसका हिस्सा बनने से संबंधित सात महत्वपूर्ण बिंदुओं और उनसे जुड़े कुछ सुझावों और नुकसानों को समझना।

अरबी शब्द

·सुन्नत - अध्ययन के क्षेत्र के आधार पर सुन्नत शब्द के कई अर्थ हैं, हालांकि आम तौर पर इसका अर्थ है जो कुछ भी पैगंबर ने कहा, किया या करने को कहा।

·हराम - वर्जित या निषिद्ध।

इस्लाम मानने का एक हिस्सा आस्तिक समुदाय के साम्प्रदायिक पूजा में भाग लेना है। किसी भी धर्म समुदाय की तरह, इसकी कुछ विशेषताएं हैं, कुछ अच्छी और कुछ बुरी। इस पाठ का उद्देश्य मुस्लिम समुदाय से तालमेल बैठाने और उसका हिस्सा बनने की प्रक्रिया में आपकी सहायता करना है।

पहला और सबसे महत्वपूर्ण, मुसलमानों से मिलने से पहले आपको यह ध्यान रखना चाहिए कि इस्लाम सही है, जबकि मुसलमान नहीं। आखिर वे भी इंसान ही हैं। आपको कुछ ऐसे मुसलमान मिलेंगे, जिनके साथ मिलना आसान होगा और वे अच्छे दोस्त बन जायेंगे, जबकि आप दूसरों से भी मिलेंगे जो आपको असंवेदनशील या आक्रामक लग सकते हैं। आपको हर मुसलमान के साथ मित्रता करने की ज़रूरत नहीं है , भले ही वे धर्मी हों। मुसलमान अपनी शिक्षा, ज्ञान और इस्लाम के अभ्यास, सांस्कृतिक संवेदनशीलता और सामाजिक पूर्वाग्रह में भिन्न हैं। इनमें संत और अपराधी, बेघर और करोड़पति, डॉक्टर और कैब ड्राइवर, नस्लवादी और नशा करने वाले शामिल हैं। आप बहुत सी ऐसी चीजें सीखेंगे जो इस्लाम करने का आदेश देता है, लेकिन आप अपने साथी मुसलमानों को इसके विपरीत करते हुए देखेंगे। सारे मुसलमान एक जैसे नहीं होते। वे अपूर्ण हैं। यह ध्यान में रखने योग्य एक साधारण बात है। मित्रों के रूप में उन मुसलमानों को चुनें जो धर्मपरायण हैं, सक्रिय रूप से धर्म के सिद्धांतों का पालन करते हैं, और साथ ही साथ जिनसे मिलना भी आसान हो।

दूसरा, अधिकांश मस्जिदें और समुदाय सामाजिक और नस्लीय रूप से एकीकृत हैं, लेकिन कुछ अन्य ऐसे स्थान हैं जहां एक निश्चित जातीय समूह बहुसंख्यक हैं, चाहे वह अफ्रीकी, भारतीय, पाकिस्तानी, बंगाली, बोस्नियाई या अरब हो। हो सकता है दूसरों को एक निश्चित जातीय समुदाय की जरूरतों को पूरा करने के लिए बनाया गया हो, या अन्य कारण जो धार्मिक से अधिक सांस्कृतिक हो सकते हैं। कॉलेज और विश्वविद्यालय की मस्जिदें अधिक एकीकृत होती हैं। विभिन्न जातीय समूहों के बीच बातचीत की कमी के कारण, आप देख सकते हैं कि विभिन्न जातियों के सदस्यों, जैसे कि गोरे, अरब, अश्वेत, एशियाई या लैटिनो के बीच कुछ रूढ़ियां बन सकती हैं। इनमें से कई रूढ़िवादी राय विभिन्न कारणों से बनती हैं, जिनमें टीवी, फिल्में शामिल हैं। इसके अलावा, अप्रवासी मुसलमान अलग-अलग संस्कृतियों से आते हैं और अन्य देशों के मुसलमानों को पूरी तरह नहीं समझ पाते हैं, विशेषकर नए मुसलमान।

तीसरा, नए मुसलमानों की कुछ उचित और कुछ अनुचित अपेक्षाएं हो सकती हैं। कुछ लोग सामाजिक अलगाव, या जिन्होंने हाल ही में धर्म को अपनाया है उनके लिए गुणवत्तापूर्ण शैक्षिक कार्यक्रमों की कमी की शिकायत करते हैं। कुछ लोग वित्तीय समस्या की वजह से मुस्लिम समुदाय से तत्काल आर्थिक मदद की उम्मीद करते हैं, ये एक ऐसी मांग है जिसे पूरा करना आमतौर पर मुश्किल होता है। यह एक अच्छा विचार है कि एक ऐसा परिवार खोजा जाए जो नए मुसलमान को "गोद ले" और उन्हें सामाजिक रिश्तों को बनाने में मदद करे। विभिन्न सामाजिक गतिविधियों में शामिल होने का प्रयास करें, निमंत्रण स्वीकार करें और दूसरों को आमंत्रित करें। सामाजिक समारोहों में, अपने धर्मांतरण की कहानी को दोहराने के लिए अक्सर तैयार रहें! यदि आपसे कोई अनुचित प्रश्न पूछता है, तो बस यह कहें कि आप इस पर चर्चा करने में सहज महसूस नहीं करते हैं। कई मुसलमानों को नए मुसलमानों के साथ व्यवहार करने का अनुभव नहीं है, और इसलिए वे कुछ मुद्दों या प्रश्नों के प्रति संवेदनशील नहीं हो सकते हैं।

चौथा, कई बार आपको इस्लामी आस्था और व्यवहार पर सलाह दी जाएगी, चाहे वह सलाह इस्लामी रूप से सही हो या गलत.. आपको यह पता होना चाहिए कि हर मुसलमान इस्लामी कानून या पंथ का विशेषज्ञ नहीं है। सिर्फ अरब का होने से ही किसी व्यक्ति को क़ुरआन की व्याख्या करनी नही आ सकती। अधिकांश मुसलमानों ने कोई औपचारिक अध्ययन नहीं किया होता है और अपने परिवार के बुजुर्गों द्वारा उन्हें जो सिखाया जाता है वो उसके अनुसार ही इस्लाम का अभ्यास करते हैं। कई मुस्लिम प्रथाएं समय के साथ संस्कृति से प्रभावित हुई हैं, और कई बार वे वास्तव में धर्म के सच्चे सिद्धांतों के साथ मेल नही खाती। कुछ मुसलमान अनजाने में विधर्मी माने जाने वाले कुछ संप्रदायों से प्रभावित हो सकते हैं या इससे भी बदतर, कुछ वास्तव में उन्हें विशेष मान सकते हैं। आप मिलने वाली कई रायों से भ्रमित हो सकते हैं। कुछ समय बाद और कुछ ज्ञान होने के बाद, आप दोनों के बीच के अंतर को समझने में सक्षम होंगे। यदि आप किसी ऐसे व्यक्ति की सलाह को कुछ समय के लिए अनदेखा कर देते हैं जो कोई सबूत देने में विफल रहता है, तो आप अपने जीवन को आसान बना सकते हैं। इस्लाम की सभी मान्यताएं और प्रथाओं को क़ुरआन या पैगंबर (उन पर अल्लाह की दया और आशीर्वाद हो) की एक निश्चित सुन्नत से लिया जाना चाहिए। इसके अलावा, कुछ प्रसिद्ध वेबसाइटों और ज्ञान के प्रतिष्ठित लोगों से ज्ञान लेने का प्रयास करें। पढ़ने, बातचीत करने और प्रार्थना करने से आपको सीखने, बढ़ने और परिपक्व होने में मदद मिलेगी। संक्षेप में, अच्छे इरादों लेकिन कम ज्ञान वाले लोगों से सावधान रहें।

पांचवां, उन मुसलमानों से निराश न हों जो आपको सिखाने के लिए बहुत जल्दी करें। कुछ लोग जो वे जानते हैं, आपको एक घंटे में वह सब कुछ सिखाने की कोशिश कर सकते हैं। किसी तरह उन्हें लगता है कि यह उनका कर्तव्य है कि वे आपको बताएं कि सबसे महत्वपूर्ण 'हराम' (एक निषिद्ध कार्य) क्या है जिसे आपको अपने जीवन से हटा देना चाहिए। उनके पास बुद्धि, धैर्य और शायद ज्ञान की कमी है। घबराएं नहीं। एक ऐसा 'शिक्षक' खोजें जिसके साथ आप सहज हों।

छठा, कई नई अविवाहित मुस्लिम बहनें शादी करने के लिए अत्यधिक दबाव महसूस कर सकती हैं। इसमें कोई संदेह नहीं है कि शादी इस्लामी जीवन का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है, लेकिन अपने आप को नई आस्था से तालमेल बैठाने के लिए कुछ समय दें, और इस्लामी जीवन और विवाह के उचित शिष्टाचार सीखें। एक अनुकूल, इस्लाम का पालन करने वाला जीवनसाथी खोजने से इस्लाम सीखने और इसका पालन करने में मदद मिल सकती है, लेकिन शादी करने में जल्दबाजी करने की कोई आवश्यकता नहीं है!

सातवां, इंटरनेट के बारे में एक शब्द: इसमें कुछ अच्छी साइटें हैं, कुछ साइटें हैं जो आपके लिए उपयोगी हैं, लेकिन कई साइटें जो आपको नैतिक, आर्थिक और वैचारिक रूप से नुकसान पहुंचाती हैं। आपको इस्लाम सीखने के लिए ऑनलाइन उत्कृष्ट साधन मिल सकते हैं, लेकिन गलत जानकारी से गुमराह होना उतना ही आसान है। इंटरनेट पर बहुत सारे गलत जानकारी देने वाले विशेषज्ञ हैं। कई ईमेल समूह और चैट रूम अच्छी और बुरी दोनों जानकारी देते हैं। कई नए मुसलमान जीवनसाथी खोजने के लिए साइबर डेटिंग में शामिल हो सकते हैं। खराब ऑनलाइन अनुभव होने पर लोग गुस्सा और हताश हो जाते हैं। एक नए मुसलमान के लिए सबसे बड़ी समस्या विश्वसनीय साइटों की पहचान करना है। इंटरनेट के बारे में आपके लिए सबसे अच्छी सलाह यह है कि आप जाने की आप किससे जानकारी प्राप्त कर रहे हैं और इंटरनेट का उपयोग सावधानी से करें।

प्रश्नोत्तरी और त्वरित नेविगेशन
पाठ उपकरण
बेकार श्रेष्ठ
असफल! बाद में पुन: प्रयास। आपकी रेटिंग के लिए धन्यवाद।
हमें प्रतिक्रिया दे या कोई प्रश्न पूछें

इस पाठ पर टिप्पणी करें: मुस्लिम समुदाय के साथ तालमेल बिठाना

तारांकित (*) फील्ड आवश्यक हैं।'

उपलब्ध लाइव चैट के माध्यम से भी पूछ सकते हैं। यहाँ.
अन्य पाठ स्तर 1