लोड हो रहा है...
फ़ॉन्ट का आकारv: इस लेख के फ़ॉन्ट का आकार बढ़ाएं फ़ॉन्ट का डिफ़ॉल्ट आकार इस लेख के फॉन्ट का साइज घटाएं
लेख टूल पर जाएं

पैगंबर आदम: मानवजाति की शुरुआत (2 का भाग 2)

रेटिंग:

विवरण: आदम की रचना और उसके बाद की घटनाओं पर दो भागो का पाठ। भाग 2 उन घटनाओं पर चर्चा करता है जिनके कारण उन्हें स्वर्ग से निकाला गया।

द्वारा Imam Mufti (© 2016 NewMuslims.com)

प्रकाशित हुआ 08 Nov 2022 - अंतिम बार संशोधित 07 Nov 2022

प्रिंट किया गया: 20 - ईमेल भेजा गया: 0 - देखा गया: 1,569 (दैनिक औसत: 3)


उद्देश्य

·आदम की पत्नी और उनके बच्चों के बारे में जानना।

·आदम को सज्दा करने के लिए शैतान को अल्लाह ने जो आदेश दिया उसके बारे मे जानना।

·यह समझना कि आदम और हव्वा को क्षमा कर दिया गया था और कोई भी दूसरे के पाप के लिए जिम्मेदार नही था।

·मानवजाति को पथभ्रष्ट करने के शैतान के संकल्प और इसके प्रति सचेत रहने की आवश्यकता को समझना।

अरबी शब्द

·इब्लीस - शैतान का अरबी नाम।

·जिन्न - अल्लाह की एक रचना जो मानवजाति से पहले धुआं रहित आग से बनाई गई थी। उन्हें कभी-कभी आत्मा, बंशी, पोल्टरजिस्ट, प्रेत आदि के रूप में संदर्भित किया जाता है।

·तक़वा - अल्लाह का खौफ या डर, धर्मपरायणता, ईश्वर-चेतना। यह बताता है कि व्यक्ति जो कुछ भी करता है उसे अल्लाह देख रहा है।

आदम की पत्नी

Prophet_Adam_-_Beginning_of_Humankind_(part_2_of_2)._001.jpgआदम को बनाने के तुरंत बाद, अल्लाह ने उनकी पत्नी हव्वा को बनाया। अल्लाह ने सभी मनुष्यों को उनसे पैदा किया (क़ुरआन 49:13)। हव्वा को आदम की पसली से बनाया गया था। पैगंबर मुहम्मद (उन पर अल्लाह की दया और आशीर्वाद हो) ने कहा, "महिलाओं की अच्छी देखभाल करें, क्योंकि (पहली) महिला एक मुड़ी हुई पसली (आदम की) से बनाई गई थी, और पसली का सबसे घुमावदार भाग उसका ऊपरी सिरा होता है। यदि आप उसे सीधा करने पर जोर दोगे, तो आप उसे तोड़ दोगे और यदि आप उसे छोड़ दोगे, तो यह मुड़ा ही रहेगा। इसलिए महिलाओं का अच्छे से ख्याल रखें।" (बुखारी)

आदम के बच्चे

आदम को पैदा करने के बाद, अल्लाह ने उनके सभी वंशजों को उनकी रीढ़ की हड्डी से बनाया (क़ुरआन 7:172)। पैगंबर मुहम्मद ने कहा, "जब अल्लाह ने आदम को बनाया, तो उसने उसकी पीठ पोंछ दी, उसमें से पुनरुत्थान के दिन तक आदम की संतान के प्रत्येक व्यक्ति को पैदा किया।”[1]

अल्लाह ने स्वर्गदूतो को आदम को सजदा करने का आदेश दिया

आदम में प्राण फूंकने के बाद अल्लाह ने स्वर्गदूतो को आदम का सजदा करने का आदेश दिया। अल्लाह ने उनसे कहा,

“तो जब मैं उसे पूरा बना लूं और उसमें अपनी आत्मा फूंक दूं, तो उसके लिए सज्दे में गिर जाना।” (क़ुरआन 15:29, 38:72)

आदम को जीवन देने के बाद, अल्लाह ने स्वर्गदूतों को आदम के सामने सजदा करने का आदेश दिया,

“और जब हमने स्वर्गदूतो से कहाः आदम को सज्दा करो’” (क़ुरआन 2:34, 17:61, 18:50, 20:116)

जब अल्लाह ने स्वर्गदूतों को आदम का सजदा करने का आदेश दिया, तो उनमे शैतान (या अरबी में इबलीस ) भी था। स्वर्गदूतों ने तुरंत सजदा किया, लेकिन इबलीस ने इनकार कर दिया (क़ुरआन 2:34, 20:116, 15:30-31)। उसका पहला पाप अल्लाह के सज्दे के आदेश की अवज्ञा करना था। इबलीस कभी स्वर्गदूत नहीं था (क़ुरआन 18:50); वह एक जिन्न था जो स्वर्गदूतों के बीच रहता था। उसने अपने व्यवहार के लिए पछतावा और पश्चाताप नही किया। अल्लाह कहता है,

“तो इब्लीस के सिवा सबने सज्दा किया, उसने इन्कार तथा अभिमान किया और काफ़िरों में से हो गया।” (क़ुरआन 2:34)

अल्लाह ने उसे पश्चाताप करने का मौका दिया; हालांकि, इब्लीस अवज्ञा और विद्रोह में डूब गया था। अपने अहंकार को सही ठहराने के लिए, शैतान ने कहा कि वह आदम से बेहतर है क्योंकि आग मिट्टी से बेहतर होती है।

अल्लाह ने इबलीस को सज़ा के तौर पर स्वर्ग से निकाल दिया।

इब्लीस ने माना कि वह अपने पूर्ण अविश्वास और अवज्ञा के लिए तत्काल दंड का पात्र है, लेकिन उसने अनुरोध किया कि उसकी सजा को न्याय के दिन तक स्थगित कर दिया जाए। अल्लाह ने अपने महान ज्ञान से उसके अनुरोध को स्वीकार कर लिया।

इब्लीस ने मनुष्यो को गुमराह करने की अपनी दुष्ट योजना की घोषणा की। उसने अल्लाह के सामने घमंड से घोषणा की,

“(उसने (इब्लीस ने) कहाः तो जिस प्रकार तूने मुझे कुपथ किया है, मै भी तेरी सीधी राह पर इनकी घात में लगा रहूंगा। फिर उनके पास उनके आगे और पीछे तथा दायें और बायें से आऊंगा और तू उनमें से अधिक्तर को (अपना) कृतज्ञ नहीं पायेगा।’” (क़ुरआन 7:16-17)

इबलीस ने अपने दुर्भाग्य के लिए अल्लाह को दोषी ठहराया, भले ही अल्लाह ने उसकी पसंद की स्वतंत्रता को नहीं छीना था। अल्लाह की बुद्धि ने तय किया कि इबलीस इंसानों के लिए परीक्षण हो और उसे इंसानों पर असाधारण अधिकार दिए, लेकिन इसकी सीमा यह है कि वह अल्लाह के सच्चे सेवकों को वश में नहीं कर पाएगा।

अल्लाह ने इब्लीस को अपनी योजना पर अमल करने की अनुमति दी। जब वह अपनी दुष्ट योजना पूरी कर लेगा, तो वह अपने जिन्न और मनुष्य अनुयायियों के साथ नर्क में रहेगा। (क़ुरआन 7:18)।

आदम और हव्वा स्वर्ग में

अल्लाह ने आदम और हव्वा को स्वर्ग में रहने दिया, जो सबसे अच्छा निवास है। अल्लाह ने उन्हें बिना किसी रोक-टोक के इसके इनामों का आनंद लेने की अनुमति दी। हालांकि, अल्लाह ने उन्हें एक विशिष्ट फल खाने से मना किया,

“और हमने कहाः हे आदम! तुम और तुम्हारी पत्नी स्वर्ग में रहो तथा इसमें से जिस स्थान से चाहो, मनमानी खाओ और इस वृक्ष के समीप न जाना, अन्यथा अत्याचारियों में से हो जाओगे।’” (क़ुरआन 2:35)

जैसे ही आदम और हव्वा ने स्वर्ग मे रहना शुरू किया, शैतान ने उन पर अपनी चालाकी से छल किया। दोनों मासूम थे और झूठ और धोखे के बारे में नहीं जानते थे। शैतान ने अल्लाह की झूठी शपथ ली और उनकी मासूमियत का इस्तेमाल अपने फायदे के लिए किया। शैतान ने उन्हें सुझाव दिया कि वे स्वर्गदूतों की तरह हो सकते हैं या हमेशा के लिए स्वर्ग मे रह सकते हैं। आदम और हव्वा अपनी इच्छा के आगे झुक गए और शैतान की चाल में पड़ गए और निषिद्ध पेड़ से खा लिया। जैसे ही उन्होंने खाया, उनके निजी अंग उजागर हो गए (क़ुरआन 2:36)। अवज्ञा का एक तत्काल परिणाम तकवा के आध्यात्मिक कपड़ों को उतारना है, इसलिए उनके निजी अंगों को ढकने वाले वस्त्रों को छीन लिया गया था।

उन्हें उनके निजी अंगों को ढकने वाले भौतिक वस्त्रों को छीनने की सजा दी गई थी।

शैतान ने पहले हव्वा को बहकाया था और फिर उसने आदम को निषिद्ध पेड़ से खाने के लिए मना लिया था (बुखारी और मुस्लिम में वर्णित के आधार पर)।

जब शैतान ने उन दोनों को अल्लाह की अवज्ञा करने के लिए बहकाया, तो उन्हें स्वर्ग से निकाल कर पृथ्वी पर रहने के लिए भेज दिया गया था, ताकि उनकी मृत्यु हो सके और पुनरुत्थान के दिन उठाया जा सके।

जैसे ही आदम और हव्वा को अपने पाप की गंभीरता का एहसास हुआ, उन्होंने इसका पछतावा किया और अल्लाह से पश्चाताप करना चाहते थे। अपने पाप के प्रति उनका रवैया शैतान से बिल्कुल अलग था। शैतान ने अपनी अवज्ञा के लिए अल्लाह को दोषी ठहराया था और पछतावा या पश्चाताप करने से इनकार कर दिया था।

अल्लाह ने उन्हें पश्चाताप करने के विशिष्ट शब्द सिखाकर पश्चाताप का मार्ग दिखाया। आदम और उसकी पत्नी द्वारा कहे गए शब्द थे,

“दोनों ने कहाः हे हमारे पालनहार! हमने अपने ऊपर अत्याचार कर लिया और यदि तू हमें क्षमा तथा हमपर दया नहीं करेगा, तो हम अवश्य ही नाश हो जायेंगे।” (क़ुरआन 7:23)

पश्चाताप करने का सबसे अच्छा तरीका पाप और अधर्म को स्वीकार करना है। इस तरह अल्लाह ने आदम और हव्वा को अपना पश्चाताप व्यक्त करना सिखाया।

अल्लाह ने उनका पश्चाताप स्वीकार किया और उनसे कहा कि इंसानों को धरती पर वास करना चाहिए। नेक काम करने वालों को ही स्वर्ग में जाने दिया जाएगा।



फुटनोट:

[1] तिर्मिज़ी

पाठ उपकरण
बेकार श्रेष्ठ
असफल! बाद में पुन: प्रयास। आपकी रेटिंग के लिए धन्यवाद।
हमें प्रतिक्रिया दे या कोई प्रश्न पूछें

इस पाठ पर टिप्पणी करें: पैगंबर आदम: मानवजाति की शुरुआत (2 का भाग 2)

तारांकित (*) फील्ड आवश्यक हैं।'

उपलब्ध लाइव चैट के माध्यम से भी पूछ सकते हैं। यहाँ.
अन्य पाठ स्तर 10