भाषाएं

स्तर

श्रेणियाँ

चैट के माध्यम से लाइव सहायता

 

इस साइट के बारे में

न्यू मुस्लिम ई-लर्निंग साइट में आपका स्वागत है। यह नए मुस्लिम धर्मान्तरित लोगों के लिए है जो अपने नए धर्म को आसान और व्यवस्थित तरीके से सीखना चाहते हैं। इसमे पाठों को स्तरों के अंतर्गत संयोजित किए गया है। तो पहले आप स्तर 1 के तहत पाठ 1 पर जाएं। इसका अध्ययन करें और फिर इसकी प्रश्नोत्तरी करें। जब आप इसे पास कर लें तो पाठ 2 वगैरह पर आगे बढ़ें। शुभकामनाएं।

यहां से प्रारंभ करें

आपको पंजीकरण करने की सलाह दी जाती है ताकि आपके प्रश्नोत्तरी ग्रेड और प्रगति को सेव किया जा सकें। इसलिए पहले यहां पंजीकरण करें, फिर स्तर 1 के अंतर्गत पाठ 1 से शुरू करें और वहां से अगले पाठ की ओर बढ़ें। अपनी सुविधा अनुसार पढ़ें। जब भी आप इस साइट पर वापस आएं, तो बस "मैंने जहां तक पढ़ा था मुझे वहां ले चलें" बटन (केवल पंजीकृत उपयोगकर्ताओं के लिए उपलब्ध) पर क्लिक करें।

फ़ॉन्ट का आकार: इस लेख के फ़ॉन्ट का आकार बढ़ाएं फ़ॉन्ट का डिफ़ॉल्ट आकार इस लेख के फॉन्ट का साइज घटाएं
लेख टूल पर जाएं

क़ुरआन के लिए शुरुआती मार्गदर्शक (3 का भाग 1)

विवरण: क़ुरआन सीखने की शुरुआत करने वाले लोगों के लिए इसके बुनियादी मुद्दों पर आधारित तीन-भाग का पाठ। भाग 1: क़ुरआन क्या है, इसे कैसे व्यवस्थित किया जाता है, इसके प्रमुख विषयों और प्रस्तुति की शैली से संबंधित।

द्वारा Imam Mufti

प्रकाशित हुआ 08 Nov 2022 - अंतिम बार संशोधित 07 Nov 2022

प्रिंट किया गया: 0 - ईमेल भेजा गया: 0 - देखा गया: 192 (दैनिक औसत: 2)

श्रेणी: पाठ > पवित्र क़ुरआन > क़ुरआन के समीप आना


उद्देश्य

·       यह समझना कि क़ुरआन वास्तव में क्या है।

·       क़ुरआन के बारे में मूल बातें जानना और इसे कैसे व्यवस्थित किया जाता है।

·       क़ुरआन में शामिल प्रमुख विषयों को जानना।

·       इसके विषयों पर चर्चा करने में क़ुरआन की शैली को समझना।

अरबी शब्द

·       सूरह - क़ुरआन का अध्याय।

·       रमजान - इस्लामी चंद्र कैलेंडर का नौवां महीना। यह वह महीना है जिसमें अनिवार्य उपवास निर्धारित किया गया है।

·       जुज़' - क़ुरआन के तीस भागों में से एक।

·       आयात - (एकवचन - आयत ) आयत शब्द के कई अर्थ हो सकते हैं। इसका लगभग हमेशा अल्लाह से सबूत के बारे में इस्तेमाल किया जाता है। इसके अर्थों मे शामिल है सबूत, छंद, सबक, संकेत और रहस्योद्घाटन।

हम इन तीन पाठों में उन बुनियादी मुद्दों पर ध्यान केन्द्रित करेंगे जो एक क़ुरआन सीखने की शुरुआत करने वाले के सामने आती हैं। क़ुरआन क्या है और इसे कैसे व्यवस्थित किया जाता है? इसके प्रमुख विषय क्या हैं और इसकी प्रस्तुति की शैली क्या है? एक नौसिखिया के लिए कुछ अच्छे अनुवाद कौन से हैं, और उन्हें पढ़ते समय हमें किन बातों का ध्यान रखना चाहिए? क्या कोई अपने अनुसार क़ुरआन की स्वतंत्र रूप से व्याख्या कर सकता है? क्या होगा यदि मैंने कुछ पढ़ा लेकिन समझ नहीं पाया? मैं उत्तर पाने के लिए किसके पास जाऊं? अंत में, क़ुरआन को पढ़ने से पहले मेरे मन की स्थिति कैसी होनी चाहिए?

वास्तव में क़ुरआन क्या है?

क़ुरआन रहस्योद्घाटन के दूत जिब्रील के माध्यम से अंतिम पैगंबर मुहम्मद (उन पर अल्लाह की दया और आशीर्वाद हो) के लिए प्रकट अल्लाह का बोला गया शब्द है, मौखिक और लिखित रूप से हम तक कई स्रोतों द्वारा पहुंचाया गया है। अद्वितीय और नया, इसे दैवीय रूप से भ्रष्टाचार से सुरक्षित किया गया है। ईश्वर कहता है:

‘यह अनुसरण (क़ुरआन) निश्चय ही हमने अवतरित किया है और हम स्वयं इसके रक्षक हैं।’ (क़ुरआन 15:9)

मूल बातें

एक शुरुआत करने वाले के लिए क़ुरआन के बारे में समझने वाली पहली चीज क़ुरआन का रूप है। अरबी शब्द 'क़ुरआन' का शाब्दिक अर्थ है 'पाठ' और 'पढ़ना'। इसी तरह, क़ुरआन को मौखिक रूप से सुनाया गया और किताब के रूप में लिखा गया। क़ुरआन की वास्तविक शक्ति मौखिक पाठ में बनी हुई है, क्योंकि इसे जोर से और मधुर रूप से पढ़ा जाता है, लेकिन फिर भी इसके छंदों को याद रखने और उनकी रक्षा करने के लिए इसे उपलब्ध सामग्रियों पर लिखा गया था, और इन्हें एकत्र करके निजी तौर पर और बाद में संस्थागत रूप से पुस्तक में व्यवस्थित किया गया था। क़ुरआन एक कालानुक्रमिक कहानी बताने के लिए नहीं था, और इसलिए क़ुरआन को उत्पत्ति की पुस्तक की तरह अनुक्रमिक कथा के रूप में नहीं देखा जाना चाहिए।

क़ुरआन अक्सर कुछ छंदों और विषयों को दोहराता है, उनके बीच विषयों को स्थानांतरित करता है, और अक्सर सारांशित रूप में कथाओं को जोड़ता है। हम इसके दो कारण देख सकते हैं। सबसे पहले, यह एक भाषाई उद्देश्य को पूरा करता है और उत्कृष्ट अरबी की शक्तिशाली अलंकारिक तकनीकों में से एक है। दूसरा, क़ुरआन में सभी विविध विषयों को एक सामान्य बात के इर्द गिर्द रखा गया है: अल्लाह के अलावा कोई सच्चा ईश्वर नहीं है, और मुहम्मद उसके दूत हैं। क़ुरआन, बाइबिल के विपरीत, वंशावली, कालानुक्रमिक घटनाओं या छोटे ऐतिहासिक विवरणों से संबंधित नहीं है, जिनमें से कई मौखिक प्रवचन के अनुरूप नहीं हैं। इसका उद्देश्य इस केंद्रीय संदेश को स्पष्ट करने के लिए अतीत और वर्तमान की घटनाओं का उपयोग करना है। तो जब क़ुरआन शहद के उपचार गुणों या यीशु के जीवन पर चर्चा करता है, तो कोई भी विषय अपने आप में अंत नहीं है, लेकिन प्रत्येक किसी न किसी तरह से केंद्रीय संदेश से संबंधित है - ईश्वर की एकता और भविष्यवाणी संदेशों की एकरूपता।

ध्यान रखने वाली एक और महत्वपूर्ण बात यह है कि क़ुरआन एक बार में प्रकट नहीं हुआ था, बल्कि यह 23 वर्षों की अवधि में कई भागों में प्रकट हुआ था। कई अंश विशिष्ट घटनाओं के लिए थे। अक्सर क़ुरआन का रहस्योद्घाटन अविश्वासियों द्वारा उठाए गए सवालों के जवाब के रूप में स्वर्गदूत जिब्रील द्वारा पैगंबर मुहम्मद के पास आता था। क़ुरआन इन अविश्वासियों यानि पवित्रशास्त्र के लोग (यहूदियों और ईसाइयों के लिए क़ुरआन द्वारा इस्तेमाल किया जाने वाला एक शब्द), पूरी मानवता, विश्वासियों, और पैगंबर को संबोधित करता है - उन्हें एक निश्चित स्थिति में क्या करना है या उपहास और अस्वीकृति के सामने उन्हें दिलासा देता है। रहस्योद्घाटन के ऐतिहासिक और सामाजिक संदर्भ को जानने से पाठ में निहित अर्थ स्पष्ट हो जाता है।

क़ुरआन की व्यवस्था कैसे की जाती है?

क़ुरआन की रचना 114 भागों या अध्यायों से बना है। अरबी में प्रत्येक अध्याय को सूरह कहा जाता है और क़ुरआन के प्रत्येक वाक्य या वाक्यांश को आयत कहा जाता है , जिसका शाब्दिक अर्थ है 'एक संकेत'। बाइबिल की तरह, क़ुरआन को अलग-अलग इकाइयों में विभाजित किया गया है, जिसे हिंदी में 'छंद' कहा जाता है। ये छंद लंबाई में एक जैसे नहीं हैं और प्रत्येक की शुरूआत और समाप्ति मनुष्यों द्वारा तय नहीं की गई थी, बल्कि ईश्वर द्वारा निर्धारित किया गया था। प्रत्येक एक अर्थ के स्थान का एक अलग कार्य या 'चिह्न' है जो अरबी के शब्द आयत द्वारा चिह्नित है। एक को छोड़कर सभी सूरह बिमिल्लाह हिर-रहमान नीर-रहीम (अल्लाह के नाम से, जो अत्यन्त कृपाशील तथा दयावान् है) से शुरू होते हैं। प्रत्येक सूरह एक नाम है जो आमतौर पर इसके भीतर एक केंद्रीय विषय से संबंधित होता है। उदाहरण के लिए, सबसे लंबी सूरह, सूरह अल-बकराह या "गाय", का नाम मूसा की कहानी के नाम पर रखा गया है, जिसमें यहूदियों को गाय की बलि चढ़ाने का आदेश दिया गया था, जो ईश्वर के कथन द्वारा शुरू होता है:

“तथा (याद करो) जब मूसा ने अपनी जाति से कहाः अल्लाह तुम्हें एक गाय वध करने का आदेश देता है।” (क़ुरआन 2:67)

चूंकि विभिन्न अध्याय विभिन्न लंबाई के हैं, क़ुरआन को पहली शताब्दी के विद्वानों ने पैगंबर की मृत्यु के बाद लगभग तीस बराबर भागों में विभाजित किया था, प्रत्येक भाग को अरबी में 'जुज' कहा जाता है। क़ुरआन का यह विभाजन लोगों को इसे और अधिक संगठित तरीके से याद रखने या पढ़ने के लिए किया गया था, और इसका मूल संरचना पर कोई प्रभाव नहीं है, क्योंकि वे भाग को दर्शाने वाले पृष्ठों के किनारों पर केवल निशान हैं। उपवास के महीने रमजान में आमतौर पर हर रात एक जुज पढ़ा जाता है, और पूरा क़ुरआन महीने के अंत तक पूरा हो जाता है।

क़ुरआन की शैली

क़ुरआन किन विषयों पर चर्चा करता है? इसमें विभिन्न विषयों को शामिल किया गया है। सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि यह अल्लाह की एकता और उसे प्रसन्न करने वाले जीवन के बारे में बताता है। अन्य विषयों में धार्मिक सिद्धांत, निर्माण, दण्ड-संबंधी और नागरिक कानून, यहूदी धर्म, ईसाई धर्म और बहुदेववाद, सामाजिक मूल्य, नैतिकता, इतिहास, पिछले पैगंबरो की कहानियां और विज्ञान शामिल हैं। इन विषयों पर चर्चा करने में क़ुरआन की शैली की सबसे महत्वपूर्ण विशेषताएं हैं:

(1)  दृष्टान्तों का उपयोग पाठक की जिज्ञासा को जगाने और गहरे सत्य को समझाने के लिए।

(2)  दो सौ से अधिक अंश अरबी शब्द 'कुल' (कहो या कह दो) से शुरू होते हैं - पैगंबर मुहम्मद को एक प्रश्न के उत्तर के लिए, आस्था के मामले की व्याख्या करने के लिए, या कानूनी निर्णय की घोषणा करने के लिए संबोधित करता है। उदाहरण के लिए:

“कहो, "ऐ किताबवालों! क्या इसके सिवा हमारी कोई और बात तुम्हें बुरी लगती है कि हम अल्लाह और उस चीज़ पर ईमान लाए, जो हमारी ओर उतारी गई, और जो पहले उतारी जा चुकी है? और यह कि तुममें से अधिकांश लोग अवज्ञाकारी है।”  (क़ुरआन 5:59)

(3)  क़ुरआन के कुछ अंशों में, अल्लाह अपनी अद्भुत रचना की शपथ लेता है, एक तर्क को मजबूत करने या श्रोता के मन में संदेह को दूर करने के लिए:

“सूर्य तथा उसकी धूप की शपथ है,

और चांद की शपथ, जब उसके पीछे निकले,

और दिन की शपथ, जब उसे (अर्थात सूर्य को) प्रकट कर दे,

और रात्रि की शपथ, जब उसे (सूर्य को) छुपा ले,

और आकाश की शपथ तथा उसकी जिसने उसे बनाया,

तथा धरती की शपथ और जिसने उसे फैलाया,

और जीव की शपथ, तथा उसकी जिसने उसे ठीक ठीक सुधारा…” (क़ुरआन 91:1-7)

कभी-कभी अल्लाह खुद की शपथ लेता है:

“तो आपके पालनहार की शपथ! वे कभी विश्वास नहीं कर सकते, जब तक अपने आपस के विवाद में आपको निर्णायक न बनाएं, फिर आप जो निर्णय कर दें, उससे अपने दिलों में तनिक भी संकीर्णता (तंगी) का अनुभव न करें और पूर्णता स्वीकार कर लें।” (क़ुरआन 4:65)

(4)  अंत में, क़ुरआन में वह है जिसे 'असंबद्ध पत्र' कहा जाता है, जो अरबी वर्णमाला के अक्षरों से बना है, जिसे अगर एक साथ लिया जाए, तो अरबी शब्दकोष में एक ज्ञात अर्थ नहीं है। यह उन तरीकों में से एक था जिससे अल्लाह ने अरब के लोगों को चुनौती दी, जो इस भाषा में सबसे अधिक वाक्पटु लोग थे, क़ुरआन के जैसा कुछ बनाने के लिए, जिसमें ये असंबद्ध पत्रों शामिल थे। ये उनतीस सूरह की शुरुआत में दिखाई देते हैं। उदाहरण के लिए, सूरह अल- बकराह की पहली आयत अलग-अलग अनुवादों में प्रकट होती है:

यूसुफ अली: ऐ. एल. एम.

पिकथल: अलीफ। लाम। मीम।

मुहसिन खान: अलिफ-लाम-मीम।

प्रश्नोत्तरी और त्वरित नेविगेशन
पाठ उपकरण
बेकारश्रेष्ठ  रेटिंग दें
| More
हमें प्रतिक्रिया दे या कोई प्रश्न पूछें

इसके अलावा आप यहां उपलब्ध लाइव चैट के माध्यम से भी पूछ सकते हैं।

इस स्तर के अन्य पाठ 3