भाषाएं

स्तर

श्रेणियाँ

चैट के माध्यम से लाइव सहायता

 

इस साइट के बारे में

न्यू मुस्लिम ई-लर्निंग साइट में आपका स्वागत है। यह नए मुस्लिम धर्मान्तरित लोगों के लिए है जो अपने नए धर्म को आसान और व्यवस्थित तरीके से सीखना चाहते हैं। इसमे पाठों को स्तरों के अंतर्गत संयोजित किए गया है। तो पहले आप स्तर 1 के तहत पाठ 1 पर जाएं। इसका अध्ययन करें और फिर इसकी प्रश्नोत्तरी करें। जब आप इसे पास कर लें तो पाठ 2 वगैरह पर आगे बढ़ें। शुभकामनाएं।

यहां से प्रारंभ करें

आपको पंजीकरण करने की सलाह दी जाती है ताकि आपके प्रश्नोत्तरी ग्रेड और प्रगति को सेव किया जा सकें। इसलिए पहले यहां पंजीकरण करें, फिर स्तर 1 के अंतर्गत पाठ 1 से शुरू करें और वहां से अगले पाठ की ओर बढ़ें। अपनी सुविधा अनुसार पढ़ें। जब भी आप इस साइट पर वापस आएं, तो बस "मैंने जहां तक पढ़ा था मुझे वहां ले चलें" बटन (केवल पंजीकृत उपयोगकर्ताओं के लिए उपलब्ध) पर क्लिक करें।

फ़ॉन्ट का आकार: इस लेख के फ़ॉन्ट का आकार बढ़ाएं फ़ॉन्ट का डिफ़ॉल्ट आकार इस लेख के फॉन्ट का साइज घटाएं
लेख टूल पर जाएं

इस्लामी स्वर्ण युग (2 का भाग 2)

विवरण: इस्लामी विज्ञान का 'स्वर्ण युग' और हमारी सभ्यता में मुसलमानों के योगदान पर दूसरा पाठ।

द्वारा Imam Mufti (© 2015NewMuslims.com)

प्रकाशित हुआ 08 Nov 2022 - अंतिम बार संशोधित 07 Nov 2022

प्रिंट किया गया: 0 - ईमेल भेजा गया: 0 - देखा गया: 147 (दैनिक औसत: 2)

श्रेणी: पाठ > सामाजिक बातचीत > मुस्लिम समुदाय


उद्देश्य

·       मुस्लिम सभ्यताओं द्वारा निर्मित संस्थाओं के बारे में जानना।

·       शिक्षा, पुस्तकालयों के निर्माण, पर्यावरणवाद, भूगोल, गणित और रसायन विज्ञान में मुस्लिम योगदान के बारे में जानना।

अरबी शब्द

·       उम्मत - मुस्लिम समुदाय चाहे वो किसी भी रंग, जाति, भाषा या राष्ट्रीयता का हो।

सभ्यता में मुस्लिम योगदान पर उद्धरण

      “…मै जिस सभ्यता की बात कर रहा हूं वह वर्ष 800 से 1600 सीई तक की इस्लामी दुनिया थी, जिसमें तुर्क साम्राज्य और बगदाद, दमिश्क और काहिरा के दरबार और शानदार सुलेमान जैसे प्रबुद्ध शासक शामिल थे। यद्यपि हम अक्सर इस दूसरी सभ्यता के अपने ऊपर ऋण से अनजान होते हैं, लेकिन इसके उपहार हमारी विरासत का एक हिस्सा है। अरब गणितज्ञों के योगदान के बिना प्रौद्योगिकी उद्योग मौजूद नहीं होता। रूमी जैसे सूफी कवि-दार्शनिकों ने स्वयं और सत्य की हमारी धारणाओं को चुनौती दी। सुलेमान जैसे सरदारो ने सहिष्णुता और नागरिक नेतृत्व की हमारी धारणाओं में योगदान दिया। और शायद हम उनके उदाहरण से एक सबक सीख सकते हैं: यह योग्यता पर आधारित नेतृत्व था, विरासत पर नहीं। यह नेतृत्व था जिसने एक बहुत ही विविध आबादी की पूर्ण क्षमताओं का उपयोग किया - जिसमें ईसाई धर्म, इस्लामी और यहूदी परंपराएं शामिल थीं। इस तरह का प्रबुद्ध नेतृत्व - नेतृत्व जिसने संस्कृति, स्थिरता, विविधता और साहस का पोषण किया - ने 800 वर्षों के आविष्कार और समृद्धि का नेतृत्व किया था।" - 26 सितंबर, 2001 को मिनियापोलिस, मिनेसोटा में दिए गए एक भाषण में, एचपी के पूर्व सीईओ कार्ली फियोरिना, "प्रौद्योगिकी, व्यवसाय, और हमारे जीवन का तरीका: आगे क्या।”.

संस्थान

islamic-goden-age-part-2.jpgप्राचीन दुनिया में पहले से अज्ञात कई महत्वपूर्ण शैक्षणिक और वैज्ञानिक संस्थानों की उत्पत्ति प्रारंभिक इस्लामी दुनिया में हुई थी, जिनमें सबसे उल्लेखनीय उदाहरण हैं: सार्वजनिक अस्पताल (जिसने चिकित्सा मंदिरों और नींद मंदिरों की जगह ली) और मनोरोग अस्पताल, सार्वजनिक पुस्तकालय और उधार पुस्तकालय, शैक्षणिक डिग्री देने वाला विश्वविद्यालय, और खगोलीय वेधशाला एक निजी अवलोकन पोस्ट के विपरीत एक शोध संस्थान के रूप में।

शिक्षा

डिप्लोमा जारी करने वाले पहले विश्वविद्यालय मध्यकालीन इस्लामी दुनिया के बिमारिस्तान चिकित्सा विश्वविद्यालय-अस्पताल थे, जहां 9वीं शताब्दी से इस्लामी चिकित्सा के छात्रों को चिकित्सा डिप्लोमा जारी किए गए थे, ये क्षात्र चिकित्सक का अभ्यास करने के योग्य थे। गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स ने फेज, मोरक्को में अल-करौइन विश्वविद्यालय को दुनिया के सबसे पुराने डिग्री देने वाले विश्वविद्यालय के रूप में मान्यता दी है, इसकी स्थापना 859 सीई में हुई थी। 975 सीई में मिस्र के काहिरा में स्थापित अल-अजहर विश्वविद्यालय, स्नातकोत्तर डिग्री सहित विभिन्न शैक्षणिक डिग्री प्रदान करता है, और इसे अक्सर पहला पूर्ण विश्वविद्यालय माना जाता है। डॉक्टरेट की उत्पत्ति भी मध्यकालीन मदरसों में इजाज़ा अत-तद्रिस वा अल-इफ्ता ("कानूनी राय सिखाने और जारी करने का लाइसेंस") से होती है, जो इस्लामी कानून पढ़ाते थे।

पुस्तकालय

कहा जाता है कि क्रुसेडर्स द्वारा नष्ट किए जाने से पहले त्रिपोली की लाइब्रेरी में 30 लाख किताबें थीं। गणितीय विज्ञान पर महत्वपूर्ण और मूल मध्ययुगीन अरबी कार्यों की संख्या तुलनात्मक महत्व के मध्ययुगीन लैटिन और ग्रीक कार्यों के संयुक्त कुल से कहीं अधिक है, हालांकि आधुनिक समय में बचे हुए अरबी वैज्ञानिक कार्यों का केवल एक छोटा सा अंश अध्ययन किया गया है।

पर्यावरणवाद

प्रारंभिक प्रोटो-पर्यावरणवादी ग्रंथ अरबी में अल-किंदी, अर-राज़ी, इब्न अल-जज्जार, अत-तमीमी, अल-मसीही, एविसेना, अली इब्न रिज़वान, अब्दल-लतीफ और इब्न अल-नफीस द्वारा लिखे गए थे। उनके कार्यों में प्रदूषण से संबंधित कई विषय शामिल थे जैसे वायु प्रदूषण, जल प्रदूषण, मिट्टी संदूषण, और नगरपालिका ठोस कचरे का गलत प्रबंधन। कॉर्डोबा, अल-अंडालस में कूड़े के संग्रह के लिए पहले अपशिष्ट कंटेनर और अपशिष्ट निपटान सुविधाएं भी थीं।

मुस्लिम विद्वानों ने सिर्फ एक विषय पर ध्यान केंद्रित नहीं किया जैसा कि आज कई करते हैं। अबू रेहान अल-बैरुनी (जन्म 973 सीई) एक खगोलशास्त्री, गणितज्ञ और 11वीं सदी के उज़्बेकिस्तान के जीवन विज्ञान के छात्र थे, जो अपनी विश्व यात्राओं के लिए भी प्रसिद्ध थे।

उन्होंने संस्कृत भाषा में महारत हासिल की थी और भारत पर एक किताब लिखी थी! उन्होंने अर-राज़ी की जीवनी भी लिखी थी। अल-बैरूनी जब अस्सी वर्ष के थे, तब वे स्वयं औषध विज्ञान पर एक पुस्तक लिख रहे थे!

भूगोल

10वीं सदी के मुस्लिम भूगोलवेत्ता और इतिहासकार अल-मसूदी ने बगदाद, भारत, चीन और दुनिया के अन्य देशों की यात्रा की, जिसमें उन्होंने लोग, जलवायु, भूगोल और उन स्थानों के इतिहास का वर्णन किया जहां उन्होंने दौरा किया था।

मुसलमानो ने कम्पास का आविष्कार किया और अल-फ़रगानी, जिसे पश्चिम में अल्फ़्रैगनस के नाम से जाना जाता है, ने अनुमान लगाया कि पृथ्वी की परिधि 24,000 मील है। मुसलमानों ने सबसे पहले पेंडुलम का इस्तेमाल किया और वेधशालाओं का निर्माण किया!

गणित

मुसलमानों ने भारत से "शून्य" अंक लेकर दुनिया में स्थानांतरित कर दिया।

अल-खवारिज्मी ने रैखिक और द्विघात समीकरणों पर पहली पुस्तक लिखी, जिसे बीजगणित कहा जाता है।

रसायन विज्ञान

मुसलमानों ने रसायन विज्ञान को विज्ञान की एक अलग शाखा के रूप में विकसित किया। रसायन शब्द स्वयं अरबी शब्द अल-कीम्या से लिया गया है। जाबिर इब्न हयान को 'रसायन विज्ञान का जनक' कहा जाता है। उन्होंने कई खनिजों की खोज की और पहली बार सल्फ्यूरिक एसिड जैसे एसिड तैयार किए।

इस्लाम की शिक्षाओं में कोई कमी नहीं है, यह सिर्फ मुसलमानों की लापरवाही है जिसने हमारी वर्तमान स्थिति को खराब कर दिया है।

हमे सीखने और प्रगति करने और वैज्ञानिक और आर्थिक रूप से समृद्ध बनने की इच्छा होनी चाहिए। लेकिन अहम बात यह है कि हम मुसलमान बने रहें। हमें इस्लाम की आध्यात्मिक सभ्यता को पश्चिम के भौतिकवाद से नहीं बदलना चाहिए।

हमें मुसलमान होने पर और इस उम्मत और समृद्ध इस्लामी विरासत का हिस्सा होने पर गर्व करना चाहिए। दूसरा, हमें महान मुस्लिम वैज्ञानिकों और विद्वानों के नक्शेकदम पर चलना चाहिए और एक बार फिर दुनिया का नेतृत्व करना चाहिए।

प्रश्नोत्तरी और त्वरित नेविगेशन
पाठ उपकरण
बेकारश्रेष्ठ  रेटिंग दें
| More
हमें प्रतिक्रिया दे या कोई प्रश्न पूछें

इसके अलावा आप यहां उपलब्ध लाइव चैट के माध्यम से भी पूछ सकते हैं।

इस स्तर के अन्य पाठ 9