भाषाएं

स्तर

श्रेणियाँ

चैट के माध्यम से लाइव सहायता

 

इस साइट के बारे में

न्यू मुस्लिम ई-लर्निंग साइट में आपका स्वागत है। यह नए मुस्लिम धर्मान्तरित लोगों के लिए है जो अपने नए धर्म को आसान और व्यवस्थित तरीके से सीखना चाहते हैं। इसमे पाठों को स्तरों के अंतर्गत संयोजित किए गया है। तो पहले आप स्तर 1 के तहत पाठ 1 पर जाएं। इसका अध्ययन करें और फिर इसकी प्रश्नोत्तरी करें। जब आप इसे पास कर लें तो पाठ 2 वगैरह पर आगे बढ़ें। शुभकामनाएं।

यहां से प्रारंभ करें

आपको पंजीकरण करने की सलाह दी जाती है ताकि आपके प्रश्नोत्तरी ग्रेड और प्रगति को सेव किया जा सकें। इसलिए पहले यहां पंजीकरण करें, फिर स्तर 1 के अंतर्गत पाठ 1 से शुरू करें और वहां से अगले पाठ की ओर बढ़ें। अपनी सुविधा अनुसार पढ़ें। जब भी आप इस साइट पर वापस आएं, तो बस "मैंने जहां तक पढ़ा था मुझे वहां ले चलें" बटन (केवल पंजीकृत उपयोगकर्ताओं के लिए उपलब्ध) पर क्लिक करें।

फ़ॉन्ट का आकार: इस लेख के फ़ॉन्ट का आकार बढ़ाएं फ़ॉन्ट का डिफ़ॉल्ट आकार इस लेख के फॉन्ट का साइज घटाएं
लेख टूल पर जाएं

इस्लामी स्वर्ण युग (2 का भाग 1)

विवरण: यह पाठ इस्लामी विज्ञान के 'स्वर्ण युग' और हमारी सभ्यता में मुसलमानों के योगदान पर चर्चा करेगा।

द्वारा Imam Mufti (© 2015 NewMuslims.com)

प्रकाशित हुआ 08 Nov 2022 - अंतिम बार संशोधित 07 Nov 2022

प्रिंट किया गया: 16 - ईमेल भेजा गया: 0 - देखा गया: 774 (दैनिक औसत: 2)

श्रेणी: पाठ > सामाजिक बातचीत > मुस्लिम समुदाय


उद्देश्य

·       'इस्लामिक विज्ञान' शब्द का अर्थ जानना।

·       सभ्यता में मुसलमानो के योगदान के मूल इतिहास को समझना।

·       चिकित्सा में मुसलमानो के योगदान के बारे में जानना।

 परिचय

अगर पश्चिमी देशो मे इस्लाम की प्रकृति के बारे में बहुत गलतफहमी है, तो हमारी अपनी संस्कृति और सभ्यता पर इस्लामी दुनिया के कर्ज के बारे में भी बहुत अज्ञानता है। यह एक विफलता है जो, मुझे लगता है, इतिहास के स्ट्रेट-जैकेट से उपजी है, जो हमें विरासत में मिली है।' - ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी एक भाषण मे प्रिंस चार्ल्स द्वारा कहा गया, 27 अक्टूबर 1993

इस्लाम शिक्षा का विरोधी नहीं है और जो यह आरोप लगाते हैं वह निराधार है। इतिहास निस्संदेह साबित करता है कि इस्लाम की तरह किसी भी धर्म ने वैज्ञानिक प्रगति नहीं की है। इस्लाम कभी भी विज्ञान और प्रगति में बाधक नहीं रहा है।

"इस्लामिक विज्ञान" शब्द का अर्थ है मुसलमानों द्वारा दूसरी शताब्दी के बाद से विकसित किया गया विज्ञान। मुस्लिम वैज्ञानिकों ने गणित, खगोल विज्ञान, भूगोल, भौतिकी और चिकित्सा के क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान दिया है।

इतिहास

यूरोप और पश्चिम में विज्ञान का इतिहास ग्रीक और रोमन विद्वानों द्वारा 300 सीई तक किए गए कार्यों का वर्णन है और फिर इसमे पुनर्जागरण काल की शुरुआत यानि 1500 सीई से वर्णन है, और इसमे बड़ी आसानी से 300-1500 सीई के बीच की सामाजिक, राजनीतिक और वैज्ञानिक उपलब्धियों को छोड़ दिया है, जिसमें 700 सीई से 1500 सीई तक इस्लामी विज्ञान का 'स्वर्ण युग' भी शामिल है।

इस अवधि के दौरान, इस्लामी दुनिया में कलाकारों, इंजीनियरों, विद्वानों, कवियों, दार्शनिकों, भूगोलविदों और व्यापारियों ने कृषि, कला, अर्थशास्त्र, उद्योग, कानून, साहित्य, नेविगेशन, दर्शन, विज्ञान, समाजशास्त्र और प्रौद्योगिकी दोनों को संरक्षित करके योगदान दिया। पहले की परंपराओं और अपने स्वयं के आविष्कारों और नवाचारों को जोड़कर। साथ ही उस समय मुस्लिम दुनिया विज्ञान, दर्शन, चिकित्सा और शिक्षा के लिए एक प्रमुख बौद्धिक केंद्र बन गई थी। बगदाद में उन्होंने "विजडम हाउस" की स्थापना की, जहां मुस्लिम और गैर-मुस्लिम दोनों विद्वानों ने अनुवाद आंदोलन में दुनिया के ज्ञान को अरबी में इकट्ठा करने और अनुवाद करने की मांग की। पुरातनता की कई क्लासिक कृतियों का अरबी में अनुवाद किया गया और बाद में तुर्की, सिंधी, फारसी, हिब्रू और लैटिन में अनुवाद किया गया। प्राचीन मेसोपोटामिया, प्राचीन रोम, चीन, भारत, फारस, प्राचीन मिस्र, उत्तरी अफ्रीका, प्राचीन ग्रीस और बीजान्टिन सभ्यताओं में उत्पन्न कार्यों से ज्ञान का संश्लेषण किया गया था। मिस्र के फातिमिड्स और अल-अंडालस के उमय्याद जैसे प्रतिद्वंद्वी मुस्लिम राजवंश भी बगदाद के प्रतिद्वंद्वी काहिरा और कॉर्डोबा जैसे शहरों के साथ प्रमुख बौद्धिक केंद्र थे। इस्लामी साम्राज्य पहली वास्तविक सार्वभौमिक सभ्यता थी, जिसने पहली बार चीनी, भारतीयों, मध्य पूर्व और उत्तरी अफ्रीका के लोगों, काले अफ्रीकियों और गोरे यूरोपीय लोगों के रूप में विविध लोगों को एक साथ लाया। इस अवधि का एक प्रमुख नवाचार कागज था - मूल रूप से चीनियों द्वारा मज़बूती से संरक्षित एक रहस्य। कागज बनाने की कला तलास की लड़ाई (751 ईस्वी) में लाये गए कैदियों से प्राप्त की गई थी, और समरकंद और बगदाद के इस्लामी शहरों में फैल गई। चीनी ब्रश बनाम कलम के लिए मुस्लिम वरीयता के हिसाब से स्टार्च का उपयोग करके अरबों ने शहतूत की छाल का उपयोग करने की चीनी तकनीकों में सुधार किया। 900 ईस्वी तक बगदाद में पुस्तकों के लिए लेखकों और जिल्द बांधने वालों को नियोजित करने वाली सैकड़ों दुकानें थीं और सार्वजनिक पुस्तकालय स्थापित होने लगे। यहां से कागज बनाना पश्चिम में मोरक्को और फिर स्पेन और वहां से 13वीं शताब्दी में यूरोप तक फैला। मुस्लिमो के योगदानो मे से सबसे बड़ा योगदान चिकित्सा के क्षेत्र मे था।

दवा

प्रारंभिक अरब के लोग यूनानी, ईरानी और भारतीय चिकित्सा प्रणालियों के संपर्क में आए। मुसलमानों ने उनका अध्ययन और संरक्षण किया। खलीफा अल-ममून ने यूनानी चिकित्सा पुस्तकों का अरबी में अनुवाद किया था। जल्द ही, इस्लामी देशों में नई चिकित्सा पाठ्यपुस्तकों का इस्तेमाल किया जाने लगा। उन्होंने चिकित्सा और शल्य चिकित्सा पर नियमावली लिखी और यूरोपीय पुनर्जागरण की नींव रखी। कुछ उपलब्धियां:

·       1168 सीई मे, अकेले बगदाद मे 60 चिकित्सा संस्थान थे।

·       बगदाद के मुस्तनसिरिया मेडिकल कॉलेज की इमारत शानदार थी, इसके पुस्तकालय में दुर्लभ वैज्ञानिक पुस्तकें थीं, और छात्रों की सेवा के लिए एक बड़ा भोजन कक्ष था। नर्सों ने बीमारों और मरीजों की सेवा की। बड़े शहरों के बड़े अस्पताल भी शिक्षण केंद्र थे। प्रत्येक अस्पताल में पुरुषों और महिलाओं के लिए अलग-अलग वार्ड थे।

·       अब्दुल-लतीफ शरीर रचना पर एक प्रसिद्ध मुस्लिम लेखक थे। उन्होंने मानव शरीर रचना विज्ञान के बारे में अधिक जानकारी प्राप्त करने के लिए 11वीं शताब्दी में मानव शरीर का विच्छेदन किया।

·       शरीर विज्ञान में, बुरहान उद-दीन ने लिखा था कि रक्त मे शुगर होता है, सर विलियम हार्वे से 300 साल पहले।

·       इब्न अन-नफ़ीस पहले थे जिन्होंने दो संचार प्रणालियों, महाधमनी और फुफ्फुसीय का वर्णन किया था, फ्रांस के विलियम हार्वे की खोज से तीन शताब्दी पहले!

·       दमिश्क के इब्न अबी हज़म ने रक्त परिसंचरण के सिद्धांत को विस्तार से समझाया और साबित किया कि भोजन शरीर की गर्मी को बनाए रखने के लिए ईंधन है।

·       अर-राज़ी, जिसे यूरोपीय दुनिया में रेज़ेज़ के नाम से जाना जाता है, सबसे महान मुस्लिम चिकित्सकों में से एक थे जिन्होंने पेट में एसिड की खोज की थी। कहा जाता है कि उन्होंने पहली बार एक एंटीसेप्टिक के रूप में शराब का इस्तेमाल किया था।

·       मध्य युग में, फ्रांस में एक प्रसिद्ध मलहम बिकता था। ऐसा कहा जाता था कि यह लगभग किसी भी चीज को ठीक कर देता है, जो निश्चित रूप से ऐसा नहीं था। यह मलहम मुस्लिम चिकित्सक अर-राज़ी के नाम पर ब्लैंक डी रेज़ेस के नाम से जाना जाता था। दिलचस्प बात सिर्फ मरहम नहीं था, बल्कि नाम था। फ्रांसीसी दुकानदारों को पता था कि राज़ी के नाम से लोग इसे खरीद लेंगे। यह दिखाता है कि यूरोपीय लोगों ने मुस्लिम दुनिया की दवाओं पर किस हद तक भरोसा किया था।

·       अर-राज़ी ने संक्रामक रोग पर सबसे पहली किताब लिखी जिसमें उन्होंने खसरा और चेचक के बीच के अंतर को समझाया। उनकी दो अन्य पुस्तकों का लैटिन में अनुवाद किया गया था और मध्य युग में पश्चिमी यूरोप में मानक पाठ्यपुस्तकों के रूप में उपयोग किया गया था। अर-राज़ी ने लगभग 175 पुस्तकें लिखीं। उनका 23 खंड का चिकित्सा विश्वकोश कई शताब्दियों तक यूरोप में एक मानक चिकित्सा संदर्भ बना रहा।

·       इब्न सिना (यूरोपीय लोगों के लिए एविसेना) ने पाचन की प्रक्रिया को समझाया और पाया कि मुंह का स्राव मिश्रित और पच जाता है। यह सब पश्चिमी देशो मे ज्ञात होने से बहुत पहले था। रोग पैदा करने वाले कीटाणुओं का सिद्धांत अरब वैज्ञानिकों द्वारा विकसित किया गया था। इब्न सिना ने जीवाणु विज्ञान में उत्कृष्ट प्रदर्शन किया, जो आधुनिक समय के कीटाणुओं के विज्ञान का आधार है।

·       इब्न सिना ने पहली बार सुझाव दिया कि कैंसर के इलाज के लिए ऑपरेशन में प्रभावित वाहिकाओं को हटा दिया जाना चाहिए। उन्होंने मेनिन्जाइटिस की खोज की और बताया कि महामारी कैसे फैलती है।

·       इब्न सिना का कार्य प्रारंभिक इस्लामी चिकित्सा की प्रमुख उपलब्धि है। पश्चिम ने उन्हें 'चिकित्सकों का राजकुमार' कहा। उनकी पुस्तक, कानून फित-तिब्ब , या द कैनन, निस्संदेह चिकित्सा के पूरे इतिहास में सभी चिकित्सा पुस्तकों में सबसे प्रसिद्ध है! इसे पश्चिम में कई सौ वर्षों तक पढ़ाया जाता था। उनकी मृत्यु के लगभग 100 साल बाद इसका लैटिन अनुवाद सामने आया। यह 15वीं और 16वीं शताब्दी में 36 बार छपा था, जो कई आधुनिक चिकित्सा पाठ्यपुस्तकों से कहीं अधिक है!

·       अबुल-फराज ने नसों में उन चैनलों की खोज की जो संवेदना ले जाते थे।

·       1679 में, तुर्की में मुसलमान टीकाकरण से चेचक का इलाज करते थे। तुर्की में ब्रिटिश राजदूत की पत्नी लेडी मोंटेग इसे यूरोप ले आयी।

·       बहा उद-दौला ने 1507 में यूरोपीय लोगों द्वारा खोजे जाने से सदियों पहले ही हे-फीवर की खोज की थी।

·       अबुल हसन अत-तबरी पहले चिकित्सक थे जिन्होंने दुनिया को खुजली के बारे में बताया था। पहला व्यक्ति जिसने पता लगाया कि तपेदिक एक संक्रमण था।

·       अबुल-कासिम अज़-ज़हरावी, जिसे पश्चिम में अबुलकासिस के नाम से जाना जाता है, ने कई शल्य चिकित्सा उपकरणों का आविष्कार किया, मोतियाबिंद को निकाला, और कई शल्य चिकित्सा प्रक्रियाओं मे निपुणता हासिल की।

·       इब्न ज़ुहर, जिसे पश्चिम में एवेनज़ोअर के नाम से जाना जाता है, सेविल में पैदा हुआ था, उसने रेशम के धागों से घावों को सिलने की शुरुआत की थी!

·       बड़ा ऑपरेशन करने के दौरान मरीज को अधिक से अधिकत सात दिनों तक बेहोश रखने के लिए मुस्लिम डॉक्टरों ने एनेस्थीसिया का उपयोग किया था।

·       नेत्र शल्य चिकित्सा भी अत्यधिक विकसित थी। मोतियाबिंद के ऑपरेशन का लेखा-जोखा देने वाले अर-राज़ी पहले व्यक्ति थे।

·       मुस्लिम डॉक्टरों ने खराब दृष्टि के लिए विभिन्न पावर का चश्मा भी निर्धारित किया था।  

प्रश्नोत्तरी और त्वरित नेविगेशन
पाठ उपकरण
बेकारश्रेष्ठ  रेटिंग दें
| More
हमें प्रतिक्रिया दे या कोई प्रश्न पूछें

इसके अलावा आप यहां उपलब्ध लाइव चैट के माध्यम से भी पूछ सकते हैं।

इस स्तर के अन्य पाठ 9