लोड हो रहा है...
फ़ॉन्ट का आकारv: इस लेख के फ़ॉन्ट का आकार बढ़ाएं फ़ॉन्ट का डिफ़ॉल्ट आकार इस लेख के फॉन्ट का साइज घटाएं
लेख टूल पर जाएं

क़ुरआन के गुण (2 का भाग 1)

रेटिंग:

विवरण: यह 2 भागो वाला लेख क़ुरआन और पवित्र पाठ के विशेष भागों को पढ़ने के गुणों और आशीर्वादों पर चर्चा करता है।

द्वारा Imam Mufti (© 2015 NewMuslims.com)

प्रकाशित हुआ 08 Nov 2022 - अंतिम बार संशोधित 07 Nov 2022

प्रिंट किया गया: 16 - ईमेल भेजा गया: 0 - देखा गया: 1,165 (दैनिक औसत: 3)


उद्देश्य:

·क़ुरआन पढ़ने के सामान्य इनाम जानना।

·क़ुरआन सीखने और इसे पढ़ने के लिए संघर्ष करने वाले का इनाम जानना।

·क़ुरआन के विशिष्ट सूरह और छंदों का इनाम जानना।

अरबी शब्द

·सूरह - क़ुरआन का अध्याय।

·रकात - नमाज़ की इकाई।

·आयात - (एकवचन - आयत ) आयत शब्द के कई अर्थ हो सकते हैं। इसका लगभग हमेशा अल्लाह से सबूत के बारे में इस्तेमाल किया जाता है। इसके अर्थों मे शामिल है सबूत, छंद, सबक, संकेत और रहस्योद्घाटन।

·ज़कात - अनिवार्य दान।

Virtues_of_the_Quran_Part_1._001.jpgविश्व के किसी अन्य ग्रंथ मे क़ुरआन जैसी अनूठी विशेषता नही है। हर दूसरी पवित्र पुस्तक समय के साथ एकत्रित उनके धार्मिक नेताओं के ज्ञान और शिक्षाओं का संग्रह है। इसे किसने और कैसे संकलित किया, यह ज्ञात नहीं है। दूसरी ओर, क़ुरआन एक ऐसी किताब है जिसका दावा है कि वह आकाशों और पृथ्वी के निर्माता की ओर से है। यह एक ऐसी पुस्तक है जिसे अज्ञात लेखकों द्वारा समय के साथ एकत्र और संपादित नहीं किया गया है। चूंकि पूरी किताब ईश्वर की ओर से है, जो पैगंबर मुहम्मद (उन पर अल्लाह की दया और आशीर्वाद हो) को सिखाई गई थी और हमें पूर्ण रूप से सौंप दिया गया है, कुछ सूरह (अध्याय) और छंदों में पुरस्कार और आशीर्वाद जुड़े हुए हैं जिससे पैगंबर मुहम्मद को लगाव था। पैगंबर ने क़ुरआन पढ़ने, उसे याद करने और उसकी शिक्षाओं का पालन करने के पुरस्कारों का उल्लेख किया है।

इस पाठ में, हम क़ुरआन के कुछ अध्यायों को पढ़ने के पुरस्कारों के बारे में जानेंगे।

पैगंबर ने हमें बताया कि क़ुरआन के एक अक्षर को पढ़ने पर हमें दस अच्छे कर्मों का इनाम मिलता है। इससे हमें क़ुरआन को उसकी मूल अरबी में पढ़ना सीखने के लिए प्रेरित होना चाहिए। यह संभव है और कई लोगों ने ऐसा किया है। यदि आप सुसंगत हैं और पिछले पाठ "क़ुरआन क्यों और कैसे सीखें" में दी गई सलाह का पालन करते हैं, तो आप क़ुरआन सीखने मे सक्षम हो सकते हैं।

पवित्र क़ुरआन का एक अक्षर 10 अच्छे कर्म हैं

अल्लाह के दूत ने कहा: "जो कोई अल्लाह की किताब का एक अक्षर पढ़ता है, उसे एक अच्छे कर्म का श्रेय दिया जाएगा, और एक अच्छे कर्म का दस गुना इनाम मिलेगा। मैं यह नहीं कहता कि अलिफ लाम मीम सिर्फ एक अक्षर है, बल्कि अलिफ एक अक्षर है, लाम एक अक्षर है, और मीम एक अक्षर है (अर्थात यह तीन अक्षर है)।[1]

कुछ लोगों को निस्संदेह अरबी में क़ुरआन पढ़ना सीखने में कठिनाई होगी। क्योंकि, उन्हें कुछ अक्षरों को जानना होगा और उनका उच्चारण करना सीखना होगा। पैगंबर मुहम्मद ने अरबी में क़ुरआन सीखने के लिए संघर्ष करने वालों के लिए एक सुंदर प्रोत्साहन दिया है:

जो कोई कठिनाई के साथ पवित्र क़ुरआन पढ़ता है उसे दोहरा प्रतिफल मिलेगा

पैगंबर मुहम्मद ने कहा, "वह व्यक्ति जो क़ुरआन पढ़ता है और इसे तेजी से बिना कठिनाई के साथ पढ़ता है वह आज्ञाकारी और महान स्वर्गदूतों की संगति में होगा, और जो क़ुरआन को अटक-अटक कर और कठिनाई से पढ़ता है, उसे दोहरा प्रतिफल मिलेगा।”[2]

क़ुरआन की उन सूरह (अध्याय) में से एक जिसे आपको सबसे पहले याद करना चाहिए, वह है सूरह अल-फातिहा, क़ुरआन का पहला अध्याय जो नमाज़ की हर एक रकात में पढ़ा जाता है।

सूरह अल-फातिहा, सबसे श्रेष्ठ सूरह

अबू सईद ने कहा कि जब वह नमाज़ पढ़ रहा था तो पैगंबर ने उसे बुलाया लेकिन उसने पैगंबर के बुलावे का जवाब नहीं दिया। बाद में अबू सईद ने कहा: "ऐ अल्लाह के दूत! मैं नमाज़ पढ़ रहा था।" उन्होंने कहा, "क्या अल्लाह ने नहीं कहा: 'ऐ विश्वासियों! अल्लाह और उसके दूत की पुकार सुनो, जब तुम्हें उसकी ओर बुलाये' (क़ुरआन 8:24)। फिर पैगंबर ने कहा, "क्या मैं आपको क़ुरआन की सबसे श्रेष्ठ सूरह न सिखाऊं?" उन्होंने कहा, "(यह है) 'सब प्रशंसायें अल्लाह के लिए हैं, जो सारे संसारों का पालनहार है (यानी, सूरह अल-फातिहा) जिसमें "सात बार-बार पढ़े गए छंद" और शानदार क़ुरआन शामिल हैं जो मुझे दिया गया था।[3]

आयतुल-कुरसी से अल्लाह का संरक्षण प्राप्त होता है

सूरह अल-फातिहा के बाद क़ुरआन का दूसरा अध्याय सूरह अल-बकरा है । यह क़ुरआन का सबसे लंबा अध्याय भी है। इस अध्याय के 255 वें छंद को आयतुल-कुरसी (अल-कुरसी का छंद) कहा जाता है।

अबू हुरैरा बताते हैं कि अल्लाह के दूत ने उन्हें रमज़ान के ज़कात राजस्व की रक्षा करने का आदेश दिया था। फिर कोई उनके पास आया और खाने-पीने का सामान चोरी करने लगा। अबू हुरैरा ने उसे पकड़ लिया और कहा, "मैं तुम्हें अल्लाह के दूत के पास ले जाऊंगा!" तब अबू हुरैरा ने वर्णन किया कि उस व्यक्ति ने उससे कहा, "कृपया मुझे अल्लाह के दूत के पास न ले जाएं और मैं आपको कुछ शब्द बताऊंगा जिससे अल्लाह आपको लाभान्वित करेगा। जब आप सोने जाएं, तो आयतुल-कुरसी पढ़ें, क्योंकि इससे अल्लाह का एक पहरेदार आएगा और रात भर आपकी रक्षा करेगा, और शैतान सुबह तक आपके पास नहीं आ सकेगा।” जब पैगंबर ने बात सुनी तो उन्होंने मुझसे कहा, "उसने (जो रात में तुम्हारे पास आया था) तुमसे सच कहा था, हालांकि वह झूठा है; और वह शैतान था।[4]

सूरह अल-बकरा के अंतिम दो छंद

पैगंबर ने कहा: "अगर कोई रात में सूरह अल-बकरा के अंतिम दो छंदों को पढ़ता है, तो वह उसके लिए पर्याप्त होगा।[5]

सूरह अल-बकरा और अल 'इमरान दो रोशनी हैं

क़ुरआन के दूसरे और तीसरे अध्याय का वर्णन करते हुए, अल्लाह के दूत ने कहा: "क़ुरआन पढ़ो, क्योंकि यह पुनरुत्थान के दिन क़ुरआन पढ़ने वाले लोगों की ओर से मध्यस्थता करेगा। दो रोशनी, अल-बकराह और अल इमरान पढ़ो, क्योंकि वे पुनरुत्थान के दिन दो बादल, दो छाया या पक्षियों की दो पंक्तियों के आकार में आएंगे और उस दिन पढ़ने वाले लोगों की ओर से मध्यस्थता करेंगे।”[6]

सूरह अल-कहफ शांति है

क़ुरआन की एक विशेष सूरह है जो क़ुरआन के लगभग बीच में आती है जिसका नाम सूरह अल-कहफ है।

एक आदमी सूरह अल-कहफ पढ़ रहा था और उसका घोड़ा उसके बगल में दो रस्सियों से बंधा हुआ था। एक बादल नीचे आया और उस आदमी के ऊपर फैल गया, और वह उसके करीब और करीब आता रहा जब तक कि उसका घोड़ा कूदने नहीं लगा (जैसे कि किसी चीज से डरता हो)। जब सुबह हुई, तो वह आदमी पैगंबर के पास गया और उन्हें उस अनुभव के बारे में बताया। पैगंबर ने कहा, "वह 'शांति' थी जो क़ुरआन (क़ुरआन पढ़ने) के कारण उतरी।[7]

सूरह अल-कहफ मसीह विरोधी (दज्जाल) से सुरक्षा है

पैगंबर ने कहा: "जो कोई भी सूरह अल-कहफ के शुरू के दस छंदों को याद करता है, उसकी मसीह विरोधी से रक्षा की जाएगी।[8]

सूरह अल-कहफ एक चमकदार रोशनी है

पैगंबर ने कहा, "जो कोई शुक्रवार को सूरह अल-कहफ पढ़ेगा, उसके पास एक प्रकाश होगा जो एक शुक्रवार से अगले शुक्रवार तक चमकता रहेगा।[9]



फुटनोट:

[1] तिर्मिज़ी

[2] सहीह अल-बुखारी, सहीह मुस्लिम

[3] हीह अल-बुखारी

[4] सहीह अल-बुखारी

[5] सहीह अल-बुखारी

[6] मुसनद अहमद

[7] सहीह अल-बुखारी

[8] मुस्लिम, अबू दाऊद, नसाई

[9] हकीम, बैहाक़ी

प्रश्नोत्तरी और त्वरित नेविगेशन
पाठ उपकरण
बेकार श्रेष्ठ
असफल! बाद में पुन: प्रयास। आपकी रेटिंग के लिए धन्यवाद।
हमें प्रतिक्रिया दे या कोई प्रश्न पूछें

इस पाठ पर टिप्पणी करें: क़ुरआन के गुण (2 का भाग 1)

तारांकित (*) फील्ड आवश्यक हैं।'

उपलब्ध लाइव चैट के माध्यम से भी पूछ सकते हैं। यहाँ.
अन्य पाठ स्तर 9