भाषाएं

स्तर

श्रेणियाँ

चैट के माध्यम से लाइव सहायता

 

इस साइट के बारे में

न्यू मुस्लिम ई-लर्निंग साइट में आपका स्वागत है। यह नए मुस्लिम धर्मान्तरित लोगों के लिए है जो अपने नए धर्म को आसान और व्यवस्थित तरीके से सीखना चाहते हैं। इसमे पाठों को स्तरों के अंतर्गत संयोजित किए गया है। तो पहले आप स्तर 1 के तहत पाठ 1 पर जाएं। इसका अध्ययन करें और फिर इसकी प्रश्नोत्तरी करें। जब आप इसे पास कर लें तो पाठ 2 वगैरह पर आगे बढ़ें। शुभकामनाएं।

यहां से प्रारंभ करें

आपको पंजीकरण करने की सलाह दी जाती है ताकि आपके प्रश्नोत्तरी ग्रेड और प्रगति को सेव किया जा सकें। इसलिए पहले यहां पंजीकरण करें, फिर स्तर 1 के अंतर्गत पाठ 1 से शुरू करें और वहां से अगले पाठ की ओर बढ़ें। अपनी सुविधा अनुसार पढ़ें। जब भी आप इस साइट पर वापस आएं, तो बस "मैंने जहां तक पढ़ा था मुझे वहां ले चलें" बटन (केवल पंजीकृत उपयोगकर्ताओं के लिए उपलब्ध) पर क्लिक करें।

फ़ॉन्ट का आकार: इस लेख के फ़ॉन्ट का आकार बढ़ाएं फ़ॉन्ट का डिफ़ॉल्ट आकार इस लेख के फॉन्ट का साइज घटाएं
लेख टूल पर जाएं

इस्लाम में ब्याज (2 का भाग 1)

विवरण: 'रिबा' (ब्याज) के विषय का परिचय।

द्वारा Imam Mufti (© 2014 NewMuslims.com)

प्रकाशित हुआ 08 Nov 2022 - अंतिम बार संशोधित 07 Nov 2022

प्रिंट किया गया: 0 - ईमेल भेजा गया: 0 - देखा गया: 203 (दैनिक औसत: 2)

श्रेणी: पाठ > इस्लामी जीवन शैली, नैतिकता और व्यवहार > वित्तीय लेनदेन


उद्देश्य

·       व्यक्ति और समाज पर रिबा के प्रभावों को जानना।

·       रिबा की परिभाषा जानना।

·       दो प्रकार के रिबा की पहचान करना।

·       इस बात को समझना कि रिबा को पहले के शास्त्रों में मना किया गया था।

·       क़ुरआन में रिबा पर निषेध को जानना।

अरबी शब्द

·       हिज्राह - एक स्थान से दूसरे स्थान पर प्रवास करना। इस्लाम में, हिज्राह मक्का से मदीना की ओर पलायन करने वाले मुसलमानों को संदर्भित करता है और इस्लामी कैलेंडर की शुरुआत का भी प्रतीक है।

·       रिबा - ब्याज।

·       रिबा अल-नसिया - "देरी करने का रिबा"।

·       रिबा अल-फदल - "अधिशेष का रिबा"।

·       शरिया - इस्लामी कानून।

·       सुन्नत - अध्ययन के क्षेत्र के आधार पर सुन्नत शब्द के कई अर्थ हैं, हालांकि आम तौर पर इसका अर्थ है जो कुछ भी पैगंबर ने कहा, किया या करने को कहा।

·       सूरह - क़ुरआन का अध्याय।

InterestinIslam1.jpgधन को जोखिम में डाले बिना अधिक धन एकत्र करना ब्याज है। इससे आय का असमान वितरण होता है। ब्याज कर्ज में डूबे गरीबों को ऐसी स्थिति में डाल देता है जहां वे सामाजिक या आर्थिक रूप से आगे नहीं बढ़ सकते। कई बार व्यक्ति अपने कर्ज पर चुकाए जाने वाले ब्याज का भुगतान आसानी से नहीं कर पाता है। रिबा समाज में असमानता पैदा करता है और इस तरह अमीर और गरीब के बीच की खाई चौड़ी होती जाती है।

रिबा के निषेध का प्रमुख उद्देश्य उन साधनों को रोकना है जिससे कुछ लोग धन संचय करते हैं, चाहे वे बैंक हों या व्यक्ति। अमेरिका का उदाहरण ही लें। अमेरिका के शीर्ष 1% लोग पुरे अमेरिका के 40% धन को नियंत्रित करते हैं।

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर, ब्याज के परिणाम अधिक विनाशकारी होते हैं। गरीब देशों की सरकारों द्वारा कर्ज पर चुकाया गया ब्याज इतना अधिक होता है कि उन्हें आवश्यक स्वास्थ्य और पोषण संबंधी जरूरतों का त्याग करना पड़ता है। कुछ अफ्रीकी सरकारें स्वास्थ्य या शिक्षा पर जितना खर्च करती हैं, उससे अधिक ब्याज भुगतान पर खर्च करने के लिए मजबूर हैं।[1]  सरल शब्दों में, ब्याज जान को मारता है। लंदन के मेयर केन लिविंगस्टन ने दावा किया कि वैश्विक पूंजीवाद हर साल एडॉल्फ हिटलर द्वारा मारे गए लोगों की तुलना में अधिक लोगों को मारता है। उन्होंने कर्ज के बोझ को कम करने से इनकार करने के कारण लाखों लोगों की मौत के लिए आईएमएफ और विश्व बैंक को जिम्मेदार ठहराया। सूजन जॉर्ज ने कहा कि 1981 के बाद से हर साल 15 से 20 मिलियन लोग कर्ज के बोझ के कारण अनावश्यक रूप से मर जाते हैं "क्योंकि तीसरी दुनिया की सरकारों को अपने भुगतान को पूरा करने के लिए स्वच्छ पानी और स्वास्थ्य कार्यक्रमों में कटौती करनी पड़ती है।”[2]

इसके अतिरिक्त इसके निषेध का आधार समग्र रूप से सामाजिक-आर्थिक और वितरणात्मक न्याय, अंतर-पीढ़ीगत समानता, आर्थिक अस्थिरता और पारिस्थितिक विनाश को भी माना जाता है।[3]  रिबा का निषेध जमाखोरी को रोकता है, और व्यापक-आधारित विकास की ओर ले जाता है। अधिक जानकारी के लिए, कृपया निम्न लिंक देखें:

हम सब कर्ज में क्यों हैं?

रिबा की परिभाषा

अल्लाह ने क़ुरआन मे और पैगंबर मुहम्मद (उन पर अल्लाह की दया और आशीर्वाद हो) ने सुन्नत मे 'रिबा' शब्द का इस्तेमाल किया है। 'रिबा' का शाब्दिक अर्थ 'अत्यधिक' है और शरिया की शब्दावली में 'अतिरिक्त', हालांकि ऋण या कर्ज के मूलधन से कुछ अधिक।[4]

रिबा से जुड़े सामान्य उदाहरण हैं ब्याज पर पैसा देना, ब्याज अर्जित करने के लिए बैंक में जमा रखना और क्रेडिट-कार्ड ऋण पर चुकाया गया ब्याज।

रिबा का सबसे आम उपयोग ऋण और क्रेडिट पर है। उदाहरण: एक ऋणदाता एक देनदार को एक समझौते के साथ $1000 देता है कि देनदार एक निर्दिष्ट तिथि पर $1200 वापस करेगा। शरिया मे अतिरिक्त $200 रिबा है।

मूल रूप से रिबा दो प्रकार के होते हैं, एक क़ुरआन मे (रिबा अल-नसीह, "देरी करने का रिबा") और दूसरा सुन्नत मे (रिबा अल-फदल, "अधिशेष का रीबा")।

रिबा के प्रकार

1. रिबा अल-नसिया (देरी करने का रिबा):

यह मूलधन से अधिक धन वाले ऋणों या कर्ज के निपटान में या एक या दोनों काउंटर मूल्यों के निपटान में देरी (नसिया) है। यह रिबा है जो कर्ज पर बढ़ रहा है। यह आज रिबा का अधिक प्रचलित रूप है और हम इस पाठ में इस पर चर्चा करेंगे।

2. रिबा अल-फदल (अधिशेष का रीबा)

यह विशिष्ट वस्तुओं (गैर-मौद्रिक प्रतिस्थापन योग्य वस्तुओं) के वस्तु विनिमय लेनदेन में एक प्रतिमूल्य की मात्रा में एक अधिशेष (फदल) है। हम इन पाठों में इस पर चर्चा नहीं करेंगे।

रिबा पहले के रहस्योद्घाटन में निषिद्ध था

इस्लाम एकमात्र ऐसा धर्म नहीं है जिसने ब्याज पर प्रतिबंध लगा दिया है। ब्याज का निषेध बाइबल के पुराने और नए नियम दोनों में एक प्रसिद्ध कानून है। निम्नलिखित अंशों पर विचार करें:

“अपने किसी भाई को ब्याज पर ऋण न देना, चाहे रूपया हो, चाहे भोजन-वस्तु हो, चाहे कोई वस्तु हो जो ब्याज पर दी जाति है, उसे ब्याज न देना। तू परदेशी को ब्याज पर ऋण तो दे, परन्तु अपने किसी भाई से ऐसा न करना, ताकि जिस देश का अधिकारी होने को तू जा रहा है, वहां जिस काम में अपना हाथ लगाए, उन सभों को तेरा परमेश्वर यहोवा तुझे आशीष दे।" (व्यवस्थाविवरण 23:19-20)

इसके अलावा निर्गमन 22:25, लैव्यव्यवस्था 25:37, यिर्मयाह 15:10, और यहेजकेल 18:13 देखें। प्रारंभिक चर्च परिषदों ने ब्याज को मना किया और कैथोलिकों ने इसे लंबे समय तक प्रतिबंधित करा था।

क़ुरआन मे रिबा

क़ुरआन में कई छंद हैं जो ब्याज या रिबा के निषेध की व्याख्या करती हैं। दो छंदों में कहा गया है कि शाश्त्र के लोगों के लिए रिबा निषिद्ध था, विशेष रूप से यहूदियों के लिए (क़ुरआन 4:160-161)।

पैगंबर मुहम्मद के पूरे मिशन के दौरान ब्याज पर छंद प्रकट किए गए थे। ब्याज पर क़ुरआन का पहला छंद सूरह अर-रूम, 30:39 माना जाता है जो मक्का में पैगंबरी के 6वें वर्ष में प्रकट हुई थी। छंद 3:130 पैगंबर मुहम्मद के मदीना प्रवास के बाद तीसरे वर्ष में प्रकट हुआ था। सूरह अन-निसा, 4:160-161 हिज्राह के 5वें वर्ष में प्रकट हुए थे। सूरह अल-बकराह, 2: 275-276 हिज्राह के 9वें वर्ष में प्रकट हुए थे।

इस विषय पर व्याख्या अगले पाठ मे जारी रहेगी।

 



फुटनोट:

[1] द डेब्ट थ्रेट, नोरीना हर्ट्ज़, पृष्ठ 3

[2] ग्लोबलाइजेशन ऑर रेकनोलाइज़ेशन? दी मुस्लिम वर्ल्ड इन दी 21st सेंचुरी, अली मोहम्मदी और मुहम्मद अहसान, पृष्ठ 38

[3] अंडरस्टैंडिंग इस्लामिक फाइनेंस, मुहम्मद अयूब, पृष्ठ 54

[4] अंडरस्टैंडिंग इस्लामिक फाइनेंस, मुहम्मद अयूब, पृष्ठ 52

पाठ उपकरण
बेकारश्रेष्ठ  रेटिंग दें
| More
हमें प्रतिक्रिया दे या कोई प्रश्न पूछें

इसके अलावा आप यहां उपलब्ध लाइव चैट के माध्यम से भी पूछ सकते हैं।

इस स्तर के अन्य पाठ 7