भाषाएं

स्तर

श्रेणियाँ

चैट के माध्यम से लाइव सहायता

 

इस साइट के बारे में

न्यू मुस्लिम ई-लर्निंग साइट में आपका स्वागत है। यह नए मुस्लिम धर्मान्तरित लोगों के लिए है जो अपने नए धर्म को आसान और व्यवस्थित तरीके से सीखना चाहते हैं। इसमे पाठों को स्तरों के अंतर्गत संयोजित किए गया है। तो पहले आप स्तर 1 के तहत पाठ 1 पर जाएं। इसका अध्ययन करें और फिर इसकी प्रश्नोत्तरी करें। जब आप इसे पास कर लें तो पाठ 2 वगैरह पर आगे बढ़ें। शुभकामनाएं।

यहां से प्रारंभ करें

आपको पंजीकरण करने की सलाह दी जाती है ताकि आपके प्रश्नोत्तरी ग्रेड और प्रगति को सेव किया जा सकें। इसलिए पहले यहां पंजीकरण करें, फिर स्तर 1 के अंतर्गत पाठ 1 से शुरू करें और वहां से अगले पाठ की ओर बढ़ें। अपनी सुविधा अनुसार पढ़ें। जब भी आप इस साइट पर वापस आएं, तो बस "मैंने जहां तक पढ़ा था मुझे वहां ले चलें" बटन (केवल पंजीकृत उपयोगकर्ताओं के लिए उपलब्ध) पर क्लिक करें।

फ़ॉन्ट का आकार: इस लेख के फ़ॉन्ट का आकार बढ़ाएं फ़ॉन्ट का डिफ़ॉल्ट आकार इस लेख के फॉन्ट का साइज घटाएं
लेख टूल पर जाएं

सही मार्गदर्शित खलीफा: अली इब्न अबी तालिब (2 का भाग 2)

विवरण: पैगंबर मुहम्मद के साथी, चचेरे भाई और दामाद, और इस्लाम के चौथे सही मार्गदर्शित खलीफा की एक संक्षिप्त जीवनी। हम अली की कुछ चुनौतियों पर भी एक संक्षिप्त नज़र डालेंगे।

द्वारा Aisha Stacey (© 2014 NewMuslims.com)

प्रकाशित हुआ 08 Nov 2022 - अंतिम बार संशोधित 07 Nov 2022

प्रिंट किया गया: 0 - ईमेल भेजा गया: 0 - देखा गया: 147 (दैनिक औसत: 2)

श्रेणी: पाठ > पैगंबर मुहम्मद > उनके साथी


उद्देश्य:

·       अली इब्न अबी तालिब के जीवन के बारे में जानना और इस्लाम के इतिहास में उनके महत्व को समझना।

अरबी शब्द:

·       खलीफा (बहुवचन: खुलाफ़ा) - वह प्रमुख मुस्लिम धार्मिक और नागरिक शासक है, जिन्हें पैगंबर मुहम्मद का उत्तराधिकारी माना जाता है। खलीफा का मतलब सम्राट नही है।

·       राशिदुन - सही मार्गदर्शित लोग। अधिक विशेष रूप से, पहले चार खलीफाओं को संदर्भित करने का एक सामूहिक शब्द।

·       सुन्नत - अध्ययन के क्षेत्र के आधार पर सुन्नत शब्द के कई अर्थ हैं, हालांकि आम तौर पर इसका अर्थ है जो कुछ भी पैगंबर ने कहा, किया या करने को कहा।

·       उम्मत - मुस्लिम समुदाय चाहे वो किसी भी रंग, जाति, भाषा या राष्ट्रीयता का हो।

RightlyGuidedCaliphsAli2.jpgअली इब्न अबी तालिब इस्लाम के चौथे सही मार्गदर्शित खलीफा थे। पैगंबर के चचेरे भाई और दामाद। उस्मान इब्न अफ्फान की हत्या के बाद कई मुसलमान अली का नेतृत्व चाहते थे, लेकिन अली चिंतित थे कि विश्वासियों के बीच विद्रोह के बीज बोए जा रहे थे। वह खलीफा बनने के लिए तब तक हिचकिचाया जब तक कि पैगंबर मुहम्मद के सबसे करीबी लोगों में से कुछ ने उन्हें प्रोत्साहित नहीं किया और उन्हें अपना समर्थन नहीं दिया। उस्मान की हत्या के आसपास की घटनाओं ने अनुभवहीन उम्मत को एक ऐसे दौर में पहुंचा दिया जिसे "क्लेश का समय" के रूप में जाना जाने लगा। अफसोस की बात यह रही कि अली ने अपनी खिलाफत की शुरुआत और अंत विश्वासघाती समय में की।

अली ने हिचकिचाते हुए खिलाफत को स्वीकार किया और अनुभवहीन मुस्लिम उम्मत की राजधानी को मदीना से वर्तमान इराक के कुफा स्थानांतरित कर दिया। उन्होंने महसूस किया कि उस्मान की हत्या के आसपास के नागरिक संघर्ष राज्यपालों की अयोग्यता के कारण थे, इसलिए उन्होंने उस्मान द्वारा नियुक्त सभी राज्यपालों को हटाकर उन नए राज्यपालों को नियुक्त किया जो उन्हें लगते थे कि ये उनके प्रांतों का बेहतर प्रशासन करेंगे। उस्मान के भतीजे और ग्रेटर सीरिया क्षेत्र के गवर्नर मुआविया ने उस्मान के हत्यारों को न्याय के कटघरे में लाने तक पद छोड़ने से इनकार कर दिया।

पैगंबर मुहम्मद की विधवाओं में से एक आयशा का भी मानना ​​था कि उस्मान के हत्यारों को न्याय के कटघरे में लाया जाना चाहिए। हालांकि उस्मान के शासन के अंतिम दिनों के दौरान अराजकता के कारण इस कार्य को पूरा करना मुश्किल था क्योंकि इससे और अधिक संघर्ष हो सकता था।

उम्मत मे व्याप्त संघर्ष को समाप्त करने के उनके सर्वोत्तम प्रयासों के बावजूद, अली सभी कलह और युद्धरत गुटों को एकजुट करने में असमर्थ रहे और मुआविया के सीरिया के गवर्नर पद से हटने से इनकार करने पर 657 सीई में एक सैन्य कार्रवाई हुई। मुआविया और अली की सेनाओं सिफिन की लड़ाई लड़ी। यह वास्तव में मई और जुलाई 657 सीई के बीच हुई झड़पों और वार्ताओं की एक श्रृंखला थी और अंत में अज़ुर की मध्यस्थता में समाप्त हुई।

शुरुआत मे अली और उसकी सेना जीतती हुई लग रही थी, लेकिन फिर दोनों पक्षों ने रक्तपात को रोकने और यह तय करने के लिए कि कौन सा पक्ष सत्य पर है, एक न्यायाधीश नियुक्त करने का संकल्प लिया। खरवारिज[1] नामक लोगों के एक छोटे समूह ने इस मध्यस्थता से इनकार कर दिया, और फिर अली (उन से अल्लाह प्रसन्न हो) के खिलाफ युद्ध छेड़ दिया। अली ने अगले दो साल खरवारिज के खिलाफ एक अभियान में बिताया और फिर उनमें से एक ने अली की हत्या कर दी। उनकी हत्या के बाद उनका बेटा अल-हसन (अल्लाह उससे प्रसन्न हो) उम्मत का न्यायपूर्ण खलीफा बन गया। इस संबंध में, पैगंबर (उन पर अल्लाह की दया और आशीर्वाद हो) ने कहा था: "वास्तव में मेरा यह पुत्र (यानी अल-हसन) एक योग्य व्यक्ति है; इसके माध्यम से ही अल्लाह उम्मत के दो बड़े दलों को एकजुट करेगा।" यह कथन सत्य साबित हुआ जब अल-हसन ने संघर्ष और मनमुटाव देखकर मुआविया को मध्यस्थता के लिए बुलाया और उसके लिए स्वेच्छा से अपना पद छोड़ दिया, इस प्रकार मुस्लिम उम्मत एकजुट हो गई। यह घटना वर्ष 41 हिजरी में हुई थी, जिसे 'जनसमूह का वर्ष' के रूप में जाना जाता है।

अपने सभी परीक्षणों और समस्याओं के दौरान अली नेक, साहसी और उदार बने रहे। उन संकटपूर्ण समय में भी, उन्होंने अपने शत्रुओं को क्षमा कर दिया और एक संयुक्त उम्मत के लिए निरंतर प्रयास किया।  

पैगंबर (उन पर अल्लाह की दया और आशीर्वाद हो) ने कहा था: "मेरे बाद खिलाफत 30 साल तक चलेगी।" वास्तव मे अबू बक्र, उमर, उस्मान, अली और अल-हसन की खिलाफत की अवधि ठीक 30 साल की थी।



फुटनोट:

[1] अरबी मे शाब्दिक अर्थ है वे जो बाहर हो गए। वे इस्लाम के पहले सैद्धांतिक नवप्रवर्तक थे। मूल रूप से 20,000 लोगों का एक समूह, जिन्होंने अली को छोड़ दिया और उनकी खिलाफत को खारिज कर दिया जब अली मुआविया के साथ मध्यस्थता के लिए सहमत हुए।

पाठ उपकरण
बेकारश्रेष्ठ  रेटिंग दें
| More
हमें प्रतिक्रिया दे या कोई प्रश्न पूछें

इसके अलावा आप यहां उपलब्ध लाइव चैट के माध्यम से भी पूछ सकते हैं।

इस स्तर के अन्य पाठ 7