लोड हो रहा है...
फ़ॉन्ट का आकारv: इस लेख के फ़ॉन्ट का आकार बढ़ाएं फ़ॉन्ट का डिफ़ॉल्ट आकार इस लेख के फॉन्ट का साइज घटाएं
लेख टूल पर जाएं

रमजान: अंतिम दस रातें

रेटिंग:

विवरण: रमजान की अंतिम दस रातों का महत्व और सुझाव कि कैसे एक व्यक्ति इन विशेष रातों में अपनी पूजा के कार्य को बढ़ा सकता है।

द्वारा Aisha Stacey (© 2013 IslamReligion.com)

प्रकाशित हुआ 08 Nov 2022 - अंतिम बार संशोधित 07 Nov 2022

प्रिंट किया गया: 22 - ईमेल भेजा गया: 0 - देखा गया: 825 (दैनिक औसत: 2)


उद्देश्य:

·रमजान के अंतिम दस रातों का अधिकतम लाभ उठाने के लिए विचारों और तरीकों को जानना।

अरबी शब्द:

·दुआ - याचना, प्रार्थना, अल्लाह से कुछ मांगना।

·एतिकाफ - अल्लाह के करीब होने के इरादे से मस्जिद में खुद को एकांत में रखने की प्रथा।

·लैलत-अल-क़द्र - उपवास के महीने रमज़ान के आखिरी दस दिनों मे एक धन्य रात।

·रमजान - इस्लामी चंद्र कैलेंडर का नौवां महीना। यह वह महीना है जिसमें अनिवार्य उपवास निर्धारित किया गया है।

·तरावीह - ये रमज़ान मे ईशा की नमाज़ के बाद पढ़ी जाने वाली विशेष नमाज़ हैं, जिसमें क़ुरआन के लंबे हिस्से पढ़े जाते हैं।

Last10Nights.jpgरमजान उपवास करने, क़ुरआन पढ़ने और अतिरिक्त नमाज़ पढ़ने का महीना है; यह अच्छे कर्मों और दानशीलता का महीना है। रमजान की आखिरी दस रातें खास होती हैं। पैगंबर मुहम्मद इन रातों मे अधिक पूजा और उदारता करते थे। इनमें से पहली रात रमजान के 21वें दिन की पूर्व संध्या पर होती है । दूसरे शब्दों में, यह वह रात है जो उपवास के 20वें दिन के पूरा होने के बाद शुरू होती है।

पैगंबर मुहम्मद रमजान के आखिरी दस दिनों के दौरान किसी भी अन्य समय की तुलना में अधिक पूजा करने का प्रयास करते थे।[1] चूंकि मुसलमानों का प्रयास रहता है कि जितना संभव हो सके उतना पैगंबर मुहम्मद की तरह बने, यह समय खुद से पूछने का है कि हम आने वाली विशेष रातों का पूरा लाभ उठाने के लिए क्या कर सकते हैं।

तरावीह में शामिल हों

रमजान के सबसे खूबसूरत और खास हिस्सों में से एक तरावीह की नमाज में शामिल होने का अवसर है। यह नमाज़ पुरे महीने पढ़ी जाती है। इससे व्यक्ति ऐसा महसूस कराता है जैसे कि वे मुसलमानों के संपन्न समुदाय का हिस्सा है और यह वास्तव में क़ुरआन के पाठ और अल्लाह के शब्दों पर ध्यान केंद्रित करने का एक मौका है। अगर आप तरावीह में शामिल नहीं होते हैं या आपने इन नमाज़ों में अपना दिल और आत्मा नहीं लगाई है तो रमज़ान की आखिरी दस रातें आपके लिए अपनी पूजा के कार्यो को बढ़ाने का एक अवसर है। जबकि ज्यादातर मस्जिदों में ईशा के बाद तरावीह की नमाज पढ़ी जाती है, आप पाएंगे कि कुछ मस्जिदें आपको देर रात में समूह मे अधिक स्वैच्छिक प्रार्थना करने का अवसर भी देती हैं। यदि आप आमतौर पर आधी रात के बाद लेकिन सुबह की नमाज़ से पहले की जाने वाली इन अतिरिक्त प्रार्थनाओं में शामिल होने में सक्षम होते हैं, तो आपको कई लाभ मिलेंगे, जिसमें अल्लाह की विशेष निकटता भी शामिल है जिसे केवल रात के अंतिम भाग में ही किया जा सकता है। "हमारे ईश्वर हर रात के अंतिम तीसरे भाग मे उतारते हैं और कहते हैं: 'है कोई मुझसे प्रार्थना करने वाला जिसका मै उत्तर दूं? है कोई मुझसे मांगने वाला जिसे मै दे दूं? है कोई मुझसे क्षमा मांगने वाला जिसे मैं क्षमा कर दूं?’” [2]

एक आस्तिक नमाज़ो के बीच के समय का उपयोग लंबे समय तक दुआ मांगने के लिए भी कर सकता है। पैगंबर मुहम्मद ने कहा, "जो कोई भी इसमें (रमजान के महीने मे) रात में ईमानदारी से और अल्लाह से इनाम की उम्मीद से नमाज़ पढ़ता है, तो उसके पिछले सभी पापों को माफ कर दिया जाता है।[3]

लैलत-अल-क़द्र को तलाशें

इस रात से जुड़े कई पुरस्कार और आशीर्वाद हैं। पैगंबर मुहम्मद की परंपराओं में लैलत-अल-क़द्र के कई संदर्भ हैं। इनमें से कुछ संकेत करते हैं कि लैलत-अल-क़द्र रमज़ान की अंतिम दस रातों में से एक मे आता है। अन्य इसे अंतिम दस रातों में एक विषम संख्या वाली रात होने की ओर इशारा करते हैं। क़ुरआन में मुसलमानों को बताया गया है कि इस एक रात में पूजा करना हजार महीने की पूजा से बेहतर है। इसलिए व्यक्ति को इन अंतिम रातों में बहुत गंभीरता से पूजा करके इस धन्य, पवित्र रात की तलाश करना चाहिए।

क़ुरआन में ईश्वर कहता है, "निःसंदेह, हमने उस (क़ुरआन) को 'लैलत-अल-क़द्र' में उतारा। और तुम क्या जानो कि वह 'लैलत-अल-क़द्र' क्या है? लैलत-अल-क़द्र हज़ार महीनो से उत्तम है। उसमें (हर काम को पूर्ण करने के लिए) स्वर्गदूत तथा रूह़ (जिब्रील) अपने पालनहार की आज्ञा से उतरते हैं। वह शान्ति की रात्रि है, जो भोर होने तक रहती है।” (क़ुरआन 97:1-5)

एतिकाफ का अभ्यास करें

पैगंबर मुहम्मद की प्यारी पत्नी आयशा ने बताया कि वह (पैगंबर मुहम्मद) रमजान की आखिरी दस रातों में एतिकाफ करते और कहते, "रमजान के महीने की आखिरी दस रातों में लैलत-अल-कद्र की तलाश करें"[4] एतिकाफ एक प्रकार का शरण है जब कोई व्यक्ति मस्जिद और ईश्वर की याद को छोड़कर नहीं जाता है, सिवाय इसके कि जब यह बिल्कुल जरूरी हो जैसे कि बाथरूम में जाना।

प्रसिद्ध इस्लामी विद्वान इब्नुल कय्यम ने एतिकाफ के महान लक्ष्य का वर्णन किया है। "उसके (एतिकाफ में बैठने वाले व्यक्ति के) सभी विचार ईश्वर की याद के हैं, और वह यह सोचता है कि अल्लाह की खुशी कैसे प्राप्त करें और कैसे अल्लाह के निकट जाएं। ऐसा करने से वह लोगों के बजाय ईश्वर से संतुष्ट महसूस करता है, जिससे वह कब्र में अकेलेपन के दिन अकेले अल्लाह के साथ शांति से रहने की तैयारी करता है, जब अल्लाह के सिवा कोई आराम देने वाला न होगा, और न ही उसके अलावा कोई सांत्वना देने वाला होगा।

अतिरिक्त दुआ करें

रमजान शांति का समय है और अतिरिक्त दुआ करने का एक सही अवसर है। यह आखिरी दस रातों के लिए विशेष रूप से सच है और हमें अल्लाह से लंबी और हार्दिक दुआ करना चाहिए। आयशा ने हमेशा अपनी पूजा के कार्यो को बढ़ाने का प्रयास किया। उन्होंने पैगंबर मुहम्मद से पूछा की लैलत-अल-क़द्र पाने पर दुआ करते समय क्या कहना चाहिए। आयशा ने कहा, "मैंने पूछा, 'अल्लाह के दूत, अगर मुझे पता हो कि लैलत-अल-क़द्र कौन सी रात है, तो मैं उस रात मे क्या पढूं?' उन्होंने कहा, 'पढ़ो: अल्लाहुम्मा इन्नका' अफु-वुन तुहिब-अल-'अफवा फा'फ्फू 'अन्नी' (ऐ अल्लाह, आप क्षमा करने वाले हैं और आप क्षमा को पसंद करते हैं, इसलिए मुझे क्षमा करें)।[5]

मासिक धर्म वाली महिलाओं के लिए

रमजान के जैसा कोई दूसरा महीना नही है। यह आध्यात्मिक चिंतन और प्रार्थना का महीना है जहां दिलों को सांसारिक गतिविधियों से दूर कर के ईश्वर की ओर लगाया जाता है। जैसा कि ऊपर बताया गया है, अंतिम दस रातों को प्रार्थना का अतिरिक्त प्रयास करने के लिए चुना गया है। मस्जिद के अंदर की गतिविधियों जैसे एतिकाफ और तरावीह की नमाज पर अक्सर जोर दिया जाता है और कई महिलाएं मासिक धर्म के कारण या बच्चे के जन्म के बाद मस्जिद में शामिल होने में असमर्थ होती हैं और सोचती हैं कि वे इस समय का उपयोग अधिक प्रार्थना करने और अतिरिक्त लाभ प्राप्त करने में असमर्थ हैं। यह सही नहीं है।

ऐसे कई काम हैं जो मासिक धर्म वाली महिलाएं इस समय कर सकती हैं, और वास्तव में वे वो चीजें हैं जिन्हें कोई भी रमजान के पूरे महीने में कर सकता है। उदाहरण के लिए, मासिक धर्म वाली महिलाएं इस समय का उपयोग रमजान के उपवास रखने वाले लोगों के लिए खाना बनाने और खिलाने के लिए कर सकती हैं, वह इस्लामी व्याख्यान सुन सकती हैं, अधिक और लंबी दुआ कर सकती हैं, क़ुरआन के अर्थों को समझाने वाली किताबें पढ़ सकती हैं, क़ुरआन की रिकॉर्डिंग सुन सकती हैं और याद के शब्दों के साथ ईश्वर का चिंतन कर सकती हैं। ये सभी चीजें रमजान के आखिरी दिनों को बिताने के बेहतरीन तरीके हैं। मासिक धर्म वाली महिलाओं को जिन कार्यों से दूर रखा गया है, वे इस धन्य महीने में पूजा के कृत्यों का एक बहुत छोटा हिस्सा है।



फुटनोट:

[1] सहीह मुस्लिम

[2] सहीह अल-बुखारी, सहीह मुस्लिम, अत-तिर्मिज़ी, अबू दाऊद

[3] सहीह अल-बुखारी

[4] सहीह अल-बुखारी

[5] अत-तिर्मिज़ी

पाठ उपकरण
बेकार श्रेष्ठ
असफल! बाद में पुन: प्रयास। आपकी रेटिंग के लिए धन्यवाद।
हमें प्रतिक्रिया दे या कोई प्रश्न पूछें

इस पाठ पर टिप्पणी करें: रमजान: अंतिम दस रातें

तारांकित (*) फील्ड आवश्यक हैं।'

उपलब्ध लाइव चैट के माध्यम से भी पूछ सकते हैं। यहाँ.
अन्य पाठ स्तर 6