लोड हो रहा है...
फ़ॉन्ट का आकारv: इस लेख के फ़ॉन्ट का आकार बढ़ाएं फ़ॉन्ट का डिफ़ॉल्ट आकार इस लेख के फॉन्ट का साइज घटाएं
लेख टूल पर जाएं

शरिया का परिचय (2 का भाग 2)

रेटिंग:

विवरण: इस पाठ में शरिया और फ़िक़्ह की मूल बातें शामिल हैं जो इस्लामी नियमों और विनियमों के आंतरिक कार्य को समझने के लिए आवश्यक है।

द्वारा Imam Mufti (© 2013 NewMuslims.com)

प्रकाशित हुआ 08 Nov 2022 - अंतिम बार संशोधित 07 Nov 2022

प्रिंट किया गया: 21 - ईमेल भेजा गया: 0 - देखा गया: 1,723 (दैनिक औसत: 3)


उद्देश्य:

·फ़िक़्ह की परिभाषा और शरिया से इसका संबंध जानना।

·शरिया और फ़िक़्ह की तुलना करना और विषमता जानना।

·फ़िक़्ह के "पांच" नियमों के बारे में जानना।

·फ़िक़्ह के क्रमागत उन्नति के छह चरणों को समझना।

·एक मुस्लिम न्यायविद (फ़कीह) की सामान्य और विशिष्ट योग्यताओं को समझना।

·मुस्लिम दुनिया में सीखने की प्रमुख स्थिति के बारे में जानना।

·पश्चिम में प्रमुख फ़िक़्ह परिषदों के बारे में जानना।

अरबी शब्द:

·फ़क़ीह (बहुवचन फुक़हा) - मुस्लिम न्यायविद (न्यायशास्त्री)।

·फ़िक़्ह - इस्लामी न्यायशास्त्र।

·हदीस - (बहुवचन - हदीसें) यह एक जानकारी या कहानी का एक टुकड़ा है। इस्लाम में यह पैगंबर मुहम्मद और उनके साथियों के कथनों और कार्यों का एक वर्णनात्मक रिकॉर्ड है।

·हराम - निषिद्ध।

·मकरूह - नापसंद।

·मसलाह मुर्सलाह - सार्वजनिक हित।

·मुबाह - जिसकी अनुमति है।

·मुस्तहब - अनुशंसित।

·क़ियास - सादृश्य।

·शरिया - इस्लामी कानून।

·सुन्नत - अध्ययन के क्षेत्र के आधार पर सुन्नत शब्द के कई अर्थ हैं, हालांकि आम तौर पर इसका अर्थ है जो कुछ भी पैगंबर ने कहा, किया या करने को कहा।

·वाजिब - अनिवार्य।

IntroToShariah2.jpgशरिया निश्चित नियम है जिसे अल्लाह ने क़ुरआन, सुन्नत और इनसे निकलने वाले अन्य स्रोतों में कानून बनाया है।

दूसरी ओर, फ़िक़्ह (इस्लामी न्यायशास्त्र) को शरिया के व्यावहारिक नियमों के ज्ञान के रूप में परिभाषित किया गया है जो स्रोतों में विस्तृत साक्ष्य से प्राप्त होते हैं।[1]

इसलिए, शरिया लक्ष्य है, फ़िक़ह रास्ता है। फ़िक़्ह विशेष पुस्तकों और विश्वकोशों में निहित है। यह नियमों और विनियमों का संकलन है।

फ़िक़्ह में इस्लाम के प्रसिद्ध व्यावहारिक धार्मिक मामले शामिल हैं। इनमें स्पष्ट शब्दो में बताए गए नियम शामिल हैं। इसके दो उदाहरण हैं, पांच दैनिक प्रार्थना का कर्तव्य और शराब का निषेध। वे निश्चित और स्पष्ट हैं। फ़िक़्ह में धार्मिक मामलों के कई प्रत्याशित व्यावहारिक विवरण भी शामिल हैं। क्या रक्तस्त्राव वुज़ू को अमान्य कर देता है? क्या वुज़ू में पूरे सिर या उसके केवल एक हिस्से को पोंछना आवश्यक है? इस तरह के विस्तृत सवालों के जवाब फ़िक़्ह की किताबों में मिलते हैं।

शरिया और फ़िक़्ह के बीच क्या संबंध है? [2]

1.शरिया अल्लाह द्वारा प्रकट किए गए वास्तविक नियम हैं। उनके बीच कोई अंतर्विरोध या संघर्ष नहीं है। यह सभी मुसलमानों के लिए बाध्यकारी है। फ़िक़्ह इस्लाम के विद्वानों (फुक़हा या न्यायशास्त्रिओं) द्वारा शरिया के ग्रंथों या अन्य तरीकों जैसे कि क़ियास और मसलहाह मुर्सलाह से लिया गया है। ये छोटे नियम शरिया से मेल खाने वाले भी हो सकते हैं और नहीं भी। दूसरे शब्दों में, जब कोई विद्वान अपनी समझ में सही होता है, तो शरिया और फ़िक़्ह आपस मे मेल खाते हैं। जब कोई विद्वान गलती करता है, तो शरिया और फ़िक़्ह मेल नही खाते। शरिया फ़िक़्ह के भीतर पाया जाता है।[3]

2.शरिया मुकम्मल है, फ़िक़्ह नहीं। शरिया मूल रूप से सामान्य सिद्धांत हैं जिनसे हमारे दैनिक जीवन के सभी पहलुओं के लिए मार्गदर्शन प्राप्त होता है। दूसरी ओर, फ़िक़्ह कई मामलों में विद्वानों की राय है। अधिकांशतः शरिया दिशानिर्देश प्रदान करता है जिसे फ़िक़्ह में विस्तार से बताया जाता है।

3.शरिया सामान्य है और फ़िक़्ह के विपरीत सभी मनुष्यों को संबोधित करता है।

4.शरिया बाध्यकारी है जबकि फ़िक़्ह के हिस्से बाध्यकारी नहीं हैं। फ़िक़्ह एक विशिष्ट स्थान के लिए समकालीन समाज को प्रासंगिक उत्तर प्रदान करता है। शरिया समय और स्थान से मुक्त है। शरिया ज्यादातर सामान्य निर्देश प्रदान करता है जबकि विशेष और अभूतपूर्व मुद्दों के विस्तृत समाधान फ़िक़्ह में मिलते हैं।

5.शरिया संपन्न है जबकि फ़िक़्ह नहीं है। शरिया में त्रुटियां नहीं हैं क्योंकि इसे ईश्वरीय रहस्योद्घाटन माना जाता है, लेकिन फ़िक़्ह कभी-कभी गलत हो सकता है क्योंकि यह एक मानवीय प्रयास और तर्क का उत्पाद है।

फ़िक़्ह के नियम

फ़िक़्ह के नियमों को पांच मूल्यों के पैमाने पर वर्गीकृत किया गया है:

1.वाजिब (अनिवार्य): जो मुसलमान के लिए आवश्यक है, जैसे पांच दैनिक नमाज़।

2.मुस्तहब (अनुशंसित): जो मुसलमान को करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है, जैसे सोमवार और गुरुवार को उपवास करना।

3.मुबाह (जिसकी अनुमति है): जो मुसलमान को कुछ करने या न करने के लिए कहा जाता है, जैसे कि एक निश्चित भोजन या पेय चुनना।

4.मकरूह (नापसंद): जो मुसलमान के लिए छोड़ना बेहतर है, जैसे खाना परोसते समय प्रार्थना करना।

5.हराम (निषिद्ध): जिस चीज से मुसलमान को मना किया जाता है, जैसे व्यभिचार और चोरी।

फ़िक़्ह के क्रमागत उन्नति के चरण

फ़िक़्ह को समय के साथ मुस्लिम दुनिया के विभिन्न भौगोलिक क्षेत्रों में विकसित किया गया था। 1400 वर्षों की अवधि में इसके विकास को छह चरणों में वर्गीकृत किया जा सकता है[4]:

1.नींव: पैगंबर मुहम्मद (उन पर अल्लाह की दया और आशीर्वाद हो) का युग, 609 - 632 सीई।

2.स्थापना: धर्मी खलीफाओं का युग, 632 - 661 सीई।

3.निर्माण: उमय्यद वंश का युग, 661 सीई से 8वीं शताब्दी तक।

4.विकास: अब्बासिद वंश के उत्थान और पतन का युग, 8वीं शताब्दी से 10वीं शताब्दी के मध्य तक।

5.एकत्रीकरण: अब्बासिद वंश के पतन से लेकर अंतिम अब्बासिद खलीफा की हत्या तक, 960 सीई से 13वीं शताब्दी के मध्य तक।

6.ठहराव और गिरावट: बगदाद की बर्खास्तगी से लेकर वर्तमान तक, 1258 सीई से अब तक।

एक फ़क़ीह (मुस्लिम न्यायविद) की योग्यता

फ़िक़्ह में विशेषज्ञता रखने वाले एक इस्लामी विद्वान की तीन बुनियादी योग्यताएं होती हैं:

1.इस्लाम का ज्ञान उसके स्रोतों से: क़ुरआन, सुन्नत, सर्वसम्मति, और न्यायशास्त्रीय सादृश्य (क़ियास)।

2.समसामयिक मुद्दों से ठीक से निपटने में सक्षम होने के लिए समाज की मौजूदा परिस्थितियों को समझना।

3.पवित्रता और अच्छी मंशा।

अधिक विशेष रूप से, एक फ़िक़्ह विशेषज्ञ विद्वान (फ़कीह) को ज्ञान होना चाहिए:

·अरबी भाषा और उसके शास्र का।

·क़ुरआन में कानून के छंद और उनकी व्याख्या का।

·कानून की हदीस और उनकी व्याख्या का।

·प्रामाणिक और कमजोर हदीस के बीच अंतर कर सकने का।

·कौन सी आयतें और हदीस निरस्त कर दी गई हैं और कौन सी चालू हैं।

·सामान्य और विशिष्ट, अप्रतिबंधित और प्रतिबंधित, शब्दों की स्पष्टता के विभिन्न स्तर के बीच अंतर कर सकने का।

·मुद्दों पर विद्वानों की राय जानना कि वे कहां भिन्न हैं और वे कहां सहमत हैं।

·जानना कि कियास कैसे बनाया जाता है।

·समझना कि परस्पर विरोधी साक्ष्यों को कैसे सुलझाया जाए।

·शरिया के लक्ष्यों और उनकी विभिन्न प्राथमिकताओं को समझने का।

मुस्लिम दुनिया में सीखने के प्रमुख स्थान

मुस्लिम दुनिया में सीखने के प्रमुख संस्थान मिस्र में अल-अजहर विश्वविद्यालय, ट्यूनीशिया में जैतुना विश्वविद्यालय, सऊदी अरब में इमाम मुहम्मद इब्न सऊद विश्वविद्यालय, सूडान में उम्म दारमन विश्वविद्यालय, सऊदी अरब में मदीना के इस्लामी विश्वविद्यालय और भारत में दार उल उलूम देवबंद हैं। कई मुस्लिम विद्वान या तो वहां प्रशिक्षित होते हैं, या इन केंद्रों से संबंधित या प्रभावित संस्थानो से प्रशिक्षित होते हैं।

पश्चिम में प्रमुख फ़िक़्ह परिषद

कई प्रमुख इस्लामी फ़िक़्ह परिषदें हैं जिनमें दुनिया भर के प्रसिद्ध मुस्लिम विद्वान शामिल हैं। सबसे प्रसिद्ध मक्का, जेद्दा, काहिरा और भारत में हैं। पश्चिम में रहने वाले मुसलमानों के लिए तीन प्रमुख फ़िक़्ह परिषदें अमेरिका के मुस्लिम न्यायविदों की सभा, फतवा और अनुसंधान के लिए यूरोपीय परिषद और उत्तरी अमेरिका की फ़िक़्ह परिषद हैं।



फुटनोट:

[1] डॉ. उमर अल-अश्कर द्वारा लिखित अल-मदखल इला अल-शरिया व फ़िक़ह अल-इस्लामी, पृष्ठ 36

[2] डॉ. उमर अल-अश्कर द्वारा लिखित अल-मदखल इला अल-शरिया व फ़िक़ह अल-इस्लामी, पृष्ठ 42-43

[3] यूसुफ अल-क़रादावी द्वारा लिखित मदखल ली-दिरासा अल-शरिया अल-इस्लामिया, पृष्ठ 22

[4] डॉ. बिलाल फिलिप्स द्वारा लिखित द इवोल्यूशन ऑफ़ फ़िक़्ह, पृष्ठ 17-18

पाठ उपकरण
बेकार श्रेष्ठ
असफल! बाद में पुन: प्रयास। आपकी रेटिंग के लिए धन्यवाद।
हमें प्रतिक्रिया दे या कोई प्रश्न पूछें

इस पाठ पर टिप्पणी करें: शरिया का परिचय (2 का भाग 2)

तारांकित (*) फील्ड आवश्यक हैं।'

उपलब्ध लाइव चैट के माध्यम से भी पूछ सकते हैं। यहाँ.
अन्य पाठ स्तर 6