भाषाएं

स्तर

श्रेणियाँ

चैट के माध्यम से लाइव सहायता

 

इस साइट के बारे में

न्यू मुस्लिम ई-लर्निंग साइट में आपका स्वागत है। यह नए मुस्लिम धर्मान्तरित लोगों के लिए है जो अपने नए धर्म को आसान और व्यवस्थित तरीके से सीखना चाहते हैं। इसमे पाठों को स्तरों के अंतर्गत संयोजित किए गया है। तो पहले आप स्तर 1 के तहत पाठ 1 पर जाएं। इसका अध्ययन करें और फिर इसकी प्रश्नोत्तरी करें। जब आप इसे पास कर लें तो पाठ 2 वगैरह पर आगे बढ़ें। शुभकामनाएं।

यहां से प्रारंभ करें

आपको पंजीकरण करने की सलाह दी जाती है ताकि आपके प्रश्नोत्तरी ग्रेड और प्रगति को सेव किया जा सकें। इसलिए पहले यहां पंजीकरण करें, फिर स्तर 1 के अंतर्गत पाठ 1 से शुरू करें और वहां से अगले पाठ की ओर बढ़ें। अपनी सुविधा अनुसार पढ़ें। जब भी आप इस साइट पर वापस आएं, तो बस "मैंने जहां तक पढ़ा था मुझे वहां ले चलें" बटन (केवल पंजीकृत उपयोगकर्ताओं के लिए उपलब्ध) पर क्लिक करें।

फ़ॉन्ट का आकार: इस लेख के फ़ॉन्ट का आकार बढ़ाएं फ़ॉन्ट का डिफ़ॉल्ट आकार इस लेख के फॉन्ट का साइज घटाएं
लेख टूल पर जाएं

उदासी और चिंता से कैसे निपटें (2 का भाग 1): धैर्य, कृतज्ञता और विश्वास

विवरण: धैर्य, कृतज्ञता और विश्वास तीन ऐसे तरीके हैं जिनसे इस्लाम हमें दुख और चिंता से निपटने का सुझाव देता है।

द्वारा Aisha Stacey (© 2012 NewMuslims.com)

प्रकाशित हुआ 08 Nov 2022 - अंतिम बार संशोधित 07 Nov 2022

प्रिंट किया गया: 0 - ईमेल भेजा गया: 0 - देखा गया: 162 (दैनिक औसत: 2)

श्रेणी: पाठ > सामाजिक बातचीत > परिवर्तन का मुकाबला


उद्देश्य:

·        21वीं सदी के तनावों से निपटने के लिए क़ुरआन और पैगंबर मुहम्मद की सुन्नत के मार्गदर्शन का उपयोग करना।

अरबी शब्द:

·        हज - मक्का की तीर्थयात्रा जहां तीर्थयात्री अनुष्ठानों का एक सेट करता है। हज इस्लाम के पांच स्तंभों में से एक है, जिसे हर वयस्क मुसलमान को अपने जीवन में कम से कम एक बार अवश्य करना चाहिए यदि वे इसे वहन कर सकते हैं और शारीरिक रूप से सक्षम हैं।

·        रमजान - इस्लामी चंद्र कैलेंडर का नौवां महीना। यह वह महीना है जिसमें अनिवार्य उपवास निर्धारित किया गया है।

·        सब्र - धैर्य और यह एक मूल शब्द से आया है जिसका अर्थ है रुकना या बचना।

·        शुक्र - आभार और कृतज्ञता, और अल्लाह के उपकार को मानना।

·        सुन्नत - अध्ययन के क्षेत्र के आधार पर सुन्नत शब्द के कई अर्थ हैं, हालांकि आम तौर पर इसका अर्थ है जो कुछ भी पैगंबर ने कहा, किया या करने को कहा।

·        तवक्कुल - किसी बात पर पूर्ण आस्था या विश्वास होना। इस मामले में अल्लाह पर पूरा भरोसा करना, और ये परिस्थितियों को स्वीकार करने की क्षमता से दिखता होता है, चाहे परिस्थितियां कुछ भी हो।

HowtoDealwithSadness1.jpgविकसित दुनिया में व्यक्ति दैनिक आधार पर उदासी और चिंता से जूझता है। आपने अक्सर ऐसे ही लोगों को टिप्पणी करते सुना होगा कि अविकसित मुस्लिम देशों में रहने वाले लोग कितने खुश और संतुष्ट दिखते हैं। अत्यधिक गरीबी, भूख और हानि का सामना करते हुए भी, वे बिना किसी शिकायत के हर बार अपनी परिस्थितियों को स्वीकार करते हैं। वे तनाव और चिंता से ग्रस्त क्यों नहीं होते? हम ऊपरी तौर पर यह मान सकते हैं कि वे हर दिन मौत का सामना करते हैं, और बाकी सब इसकी तुलना में फीका पड़ जाता है या हम थोड़ा और गहराई से देख सकते हैं और अल्लाह के साथ उनके रिश्ते के बारे में हमें आश्चर्य कर सकते हैं।

21वीं सदी में धार्मिक मान्यताएं उतना सुकून नहीं देती हैं जितना हम सौ, पचास या कम से कम बीस साल पहले उम्मीद करते थे। आज हमारे पास उंगलियों पर या एक बटन के स्पर्श में सब कुछ उपलब्ध है, लेकिन तकनीक रात के सन्नाटे में हमारा हाथ नहीं देती है या हमारे डर को शांत नहीं करती है जब हमारा दिल गलत तरीके से धड़कता है, और हमारी आत्माएं अनुचित भय और चिंता से भर जाती हैं। इस्लाम का धर्म ईश्वर के साथ संबंध बनाने और बनाये रखने के बारे में है। इस्लाम हमें धैर्य, कृतज्ञता और विश्वास के साथ अल्लाह की ओर मुड़कर दुख और चिंता से निपटने का निर्देश देता है।

14वीं शताब्दी सी. ई. के महान इस्लामी विद्वान इब्नुल कय्यम ने कहा कि इस जीवन में हमारी खुशी और परलोक में हमारा उद्धार धैर्य पर निर्भर करता है। उन्होंने समझाया कि धैर्य रखने का अर्थ है शिकायत करने, या निराशा से दूर रहने की क्षमता और दुख और चिंता के समय में खुद को नियंत्रित करने की क्षमता।

धैर्य का अर्थ है जो हमारे नियंत्रण से बाहर है उसे स्वीकार करना। दुख या चिंता के समय में, ईश्वर की इच्छा के प्रति समर्पण करने में सक्षम होना एक बड़ी राहत है। इसका मतलब यह नहीं है कि हम हांथ पर हांथ धर के बैठ जाएं और जीवन को ऐसे ही गुजार दें। इसका मतलब है कि जीवन के सभी पहलुओं में ईश्वर को खुश करने का प्रयास करना और हर समय यह ध्यान रखना कि अगर चीजें हमारी योजना के अनुसार नहीं होती हैं या जिस तरह से हम चाहते हैं वैसे नहीं होती है, तो हमे अल्लाह के आदेश को स्वीकार करने और उन्हें खुश करने का प्रयास जारी रखना चाहिए। धैर्यवान होना कठिन है; यह हमेशा स्वाभाविक रूप से या आसानी से नहीं आता है, हालांकि पैगंबर मुहम्मद ने कहा, "जो कोई भी धैर्य रखने की कोशिश करेगा तो अल्लाह धैर्य रखने में उसकी मदद करेगा।

धैर्य और कृतज्ञता साथ-साथ चलते हैं। सब्र और शुक्र, धैर्य और कृतज्ञता के अरबी शब्द हैं। अगर हम अपने आशीर्वादों को गिनें और उनके लिए आभारी हों तो धैर्य करना आसान हो जाता है। हम अक्सर भूल जाते हैं कि अल्लाह के आशीर्वाद में शामिल है वह हवा जिसमें हम सांस लेते हैं, आसमान से गिरने वाली बारिश, हमारे चेहरे पर धूप या बारिश और ठंड से आश्रय।

कृतज्ञता व्यक्त करने के कई तरीके हैं लेकिन सबसे आसान और सबसे उपयोगी तरीका है कि हम अपने सभी इस्लामी दायित्वों को पूरा करके अल्लाह की आज्ञा का पालन करें। बस इस्लाम के पांच स्तंभों का पालन करके हम अल्लाह के प्रति अपनी कृतज्ञता व्यक्त करते हैं। जब हम इस बात की गवाही देते हैं कि अल्लाह के सिवा कोई पूजा के लायक नहीं है और यह कि मुहम्मद उनके आखिरी दूत हैं, हम इस्लाम के आशीर्वाद के लिए आभारी होते हैं। जब एक आस्तिक शांत, हर्षित प्रार्थना में ईश्वर के सामने साष्टांग प्रणाम करता है, तो हम कृतज्ञता व्यक्त कर रहे होते हैं। रमजान के उपवास के दौरान, हम भोजन और पानी के लिए आभारी होते हैं यह महसूस करके कि ईश्वर हमारी जीविका प्रदान करता है। यदि कोई आस्तिक मक्का में ईश्वर के घर की तीर्थ यात्रा करने में सक्षम है, तो यह वास्तव में कृतज्ञता व्यक्त करना है। हज यात्रा लंबी, कठिन और महंगी हो सकती है।[1]

अल्लाह के निर्देशानुसार इस्लाम का पालन करना धैर्य और कृतज्ञता की अभिव्यक्ति है। यदि हम इस जीवन के परीक्षणों, विजयों और समस्याओं को आशीर्वाद माने और इसे स्वीकार करें तो हम अपनी सभी चिंताओं और दुखों को खत्म करने का मार्ग खोलते हैं। हमारे सभी अनुभव, अच्छे से लेकर खराब तक, अल्लाह का आशीर्वाद है। जब हम दुख या चिंता से दूर हो जाते हैं तो हमें अल्लाह की ओर मुड़ना चाहिए, धैर्य और आभारी होने का प्रयास करना चाहिए और अल्लाह पर भरोसा रखना चाहिए क्योंकि अल्लाह सबसे भरोसेमंद है।

“वास्तव में, विश्वासी वही हैं कि जब अल्लाह का वर्णन किया जाये, तो उनके दिल कांप उठते हैं और जब उनके समक्ष उनके छंद (क़ुरआन) पढ़ी जायें, तो उनका विश्वास अधिक हो जाता है और वे अपने पालनहार पर ही भरोसा रखते हैं।”  (क़ुरआन 8:2)

अल्लाह पर इस पूर्ण भरोसे को तवाक्कुल कहते हैं। इसका मतलब है कि हम जीवन की परीक्षाओं का सामना करते हैं, और यह जानते हुए जीत हासिल करते हैं कि हमारे हालात जो भी हों, अल्लाह जानता है कि हमारे लिए सबसे अच्छा क्या है। अल्लाह पर हमारा भरोसा अच्छी, बुरी, आसान या मुश्किल सभी परिस्थितियों में स्थिर होना चाहिए। इस दुनिया में जो कुछ भी होता है वह अल्लाह की अनुमति से होता है। अल्लाह जीविका प्रदान करता है और वह इसे वापस लेने में भी सक्षम है। अल्लाह जीवन और मृत्यु का स्वामी है; और अल्लाह यह भी निर्धारित करता है कि हम अमीर हो या गरीब, स्वस्थ हो या बीमार। अगर हम इस बात को ध्यान में रखते हैं कि अल्लाह का सभी चीजों पर नियंत्रण है और वह अंततः चाहता है कि हम हमेशा के लिए स्वर्ग में रहें, तो हम अपने दुख और चिंता को भुला देते हैं। यदि हम अपने डर और चिंताओं का सामना अल्लाह पर पूर्ण विश्वास करके करें, और यदि हम अपनी सभी परिस्थितियों में धैर्य और कृतज्ञता दिखाएं, तो दुख और चिंता समाप्त हो जाएगी।

पैगंबर मुहम्मद ने कहा, "आस्तिक के मामले कितने अद्भुत हैं, क्योंकि उसके सभी मामले अच्छे के लिए हैं, और यह सिर्फ आस्तिक के लिए है। यदि उसके साथ कुछ अच्छा होता है, तो वह धन्यवाद देता है और यह उसके लिए अच्छा है, और यदि उसके साथ कुछ बुरा होता है, तो वह धैर्य के साथ सहन करता है, और यह उसके लिए अच्छा है।”[2]

अगले पाठ मे हम उन तरीकों की रूपरेखा तैयार करेंगे जिनसे हम अल्लाह के करीब हो सकते हैं और इस तरह अपने जीवन से चिंता और उदासी को दूर करना शुरू कर सकते हैं।



फुटनोट:

[1] http://www.islamreligion.com/articles/3535/ से

[2] सहीह मुस्लिम

पाठ उपकरण
बेकारश्रेष्ठ  रेटिंग दें
| More
हमें प्रतिक्रिया दे या कोई प्रश्न पूछें

इसके अलावा आप यहां उपलब्ध लाइव चैट के माध्यम से भी पूछ सकते हैं।

इस स्तर के अन्य पाठ 5