लोड हो रहा है...
फ़ॉन्ट का आकारv: इस लेख के फ़ॉन्ट का आकार बढ़ाएं फ़ॉन्ट का डिफ़ॉल्ट आकार इस लेख के फॉन्ट का साइज घटाएं
लेख टूल पर जाएं

विवाह सलाह (2 का भाग 2): व्यावहारिक कदम

रेटिंग:

विवरण: यह लेख मुस्लिम पुरुष और महिला के लिए निषिद्ध जीवन-साथी के प्रकारों की व्याख्या करता है और व्यक्तिगत संपर्कों और वैवाहिक वेबसाइटों के माध्यम से शादी करने की सलाह देता है।

द्वारा Imam Mufti (© 2012 NewMuslims.com)

प्रकाशित हुआ 08 Nov 2022 - अंतिम बार संशोधित 07 Nov 2022

प्रिंट किया गया: 20 - ईमेल भेजा गया: 0 - देखा गया: 1,590 (दैनिक औसत: 3)


उद्देश्य:

·प्रेमी/प्रेमिका संबंधों, अंतरधार्मिक विवाह और समलैंगिक विवाह पर इस्लामी नियमों को जानना।

·मुस्लिम जीवन साथी खोजने के कुछ व्यावहारिक टिप्स जानना।

·जीवनसाथी को ऑनलाइन खोजने के नुकसान जानना।

अरबी शब्द:

·इमाम - नमाज़ पढ़ाने वाला।

MarriageAdvice2.jpgचूंकि इस्लाम प्रेमी या प्रेमिका संबंधों की अनुमति नहीं देता है, इसलिए एक नए मुसलमान के लिए खुद को पवित्र रखने और विपरीत लिंग से साहचर्य रखने का एकमात्र प्राकृतिक तरीका शादी करना है।

अंतरधार्मिक विवाह

एक मुस्लिम पुरुष और एक ईसाई या यहूदी महिला के बीच अंतरधार्मिक विवाह की अनुमति केवल एक ही प्रकार से है और उसकी शर्त है की महिला पवित्र होनी चाहिए। इसका मतलब यह है कि उसका कोई बॉयफ्रेंड न हो और उसने विवाह से पहले संभोग न किया हो।

क़ुरआन कहता है:

“आज के दिन (सभी) अच्छी चीजें तुम्हारे लिए वैध कर दिये गये हैं। जिन लोगों ने पवित्रशास्त्र को ग्रहण किया है उनका भोजन तुम्हारे लिए उचित है, और तुम्हारा भोजन उनके लिए उचित है। और विश्वासी सतवंती स्त्रियां तथा उनमें से सतवंती स्त्रियां जिनको तुमसे पहले पुस्तक दिया गया है, जबकि उन्हें उनका महर (विवाह उपहार) चुका दो, विवाह में लाने के लिए, व्यभिचार के लिए नहीं और न प्रेमिका बनाने के लिए। जो विश्वास को नकार देगा, उसका सत्कर्म व्यर्थ हो जायेगा तथा परलोक में वह विनाशियों में होगा।” [क़ुरआन 5:5]

फिर भी एक गैर-मुस्लिम देश में, किसी मुस्लिम व्यक्ति को गैर-मुस्लिम महिला से शादी न करने की सलाह दी जाती है। कुछ विद्वानों का तो यहां तक कहना है कि यह वर्जित है। कारण यह है कि यह तलाक के मामले में कई जटिलताएं पैदा करता है, जो आम है, खासकर बच्चों की जिम्मेदारी के मुद्दों मे।

मुस्लिम महिला को किसी गैर-मुस्लिम पुरुष से किसी भी परिस्थिति में शादी करने की अनुमति नहीं है, भले ही वह यहूदी या ईसाई हो।

इसके अलावा, एक मुस्लिम पुरुष किसी भी परिस्थिति में गैर-यहूदी या गैर-ईसाई महिला से शादी नहीं कर सकता है। इसलिए, एक मुस्लिम पुरुष या महिला को नास्तिक, हिंदू, सिख, बौद्ध, अज्ञेयवादी और कादियानी से विवाह की अनुमति नहीं है।

समलैंगिक "विवाह”

इस्लाम में समान लिंग या समलैंगिक 'विवाह' की कोई अवधारणा नहीं है। इसके विपरीत, समलैंगिकता पाप है और निषिद्ध कार्य है।

जीवनसाथी ढूंढना

तो आप शादी कैसे करें? अपना जीवनसाथी कैसे खोजें?

जीवनसाथी खोजने के कुछ आसान तरीके हैं।

1. यदि आप किसी को पसंद करते हैं, उदाहरण के लिए कार्यस्थल या स्कूल से, तो आपको अपनी मस्जिद के इमाम या कुछ करीबी मुस्लिम दोस्तों से बात करनी चाहिए कि कैसे आगे बढ़ना है। इस संबंध में जो उचित या अनुचित माना जाता है, उस पर सांस्कृतिक प्रथाएं बहुत भिन्न होती हैं। आप अपने पाकिस्तानी (या अरब) दोस्तों से पूछ सकते हैं कि 'शादी के लिए पाकिस्तानी (या अरब) परिवार से संपर्क करने का सबसे अच्छा तरीका क्या है?’

2. यदि आप बिल्कुल नए सिरे से शुरुआत कर रहे हैं, तो यह एक अच्छा विचार होगा कि पहले निम्नलिखित जानकारी के साथ अपना 'शादी का बायोडाटा' बना लें:

·नाम

·संपर्क जानकारी (पता, ईमेल, फोन, आदि)

·आयु

·शिक्षा

·कार्य विवरण

·कद

·वज़न

·थोड़ी जानकारी अपने परिवार के बारे में

·आप क्या तलाश कर रहे हैं (उम्र, शिक्षा, आदि)

·अपने और अपनी भविष्य की योजनाओं के बारे में थोड़ी जानकारी

·यह लिखें कि पहले विवाहित थे या अविवाहित हैं, या कोई बच्चा है

·"विशेष व्यक्तिगत जानकारी" लिखें (जैसे आपराधिक रिकॉर्ड, स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं, मानसिक बीमारी, आदि), जिसे बाद में बताया जा सकता है

·संदर्भ

जरूरत पड़ने पर ये बायोडाटा बनाने में दोस्तों की मदद लें।

इस 'बायोडाटा' को अपने परिचित लोगों को ईमेल करें या उन्हें इसका प्रिंट दें। नहीं तो वे भूल जाएंगे। इससे उन्हें यह भी पता चलेगा कि आप गंभीर हैं।

3. अन्य स्रोत मुस्लिम वैवाहिक वेबसाइट और सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट हैं। वैवाहिक वेबसाइटें दो प्रकार की होती हैं: सामान्य वेबसाइटें जो किसी विशेष धर्म के लिए नहीं होती हैं और वो वेबसाइटें जो मुसलमानों के लिए होती हैं। कुछ मुस्लिम वैवाहिक वेबसाइटें गैर-मुस्लिमो द्वारा चलाई जाती हैं!

उनके माध्यम से जीवनसाथी खोजना एक अधिक उत्पादक तरीका है, लेकिन व्यक्तिगत नेटवर्किंग जितना विश्वसनीय नहीं है। इसका मतलब यह है कि आपको शादी के लिए ऑनलाइन लोगों का एक बड़ा समूह तो मिल जाएगा, लेकिन आपको अधिक सावधान रहना होगा।

मुस्लिम मैट्रिमोनियल वेबसाइट्स पर बहुत से ऐसे लोग होते हैं जो शादी के लिए साथी की तलाश में गंभीर हैं। साथ ही, कई ऐसे भी होते हैं जो या तो गंभीर नहीं हैं या इससे भी बदतर, कुछ ऐसे होते हैं जो घोटाले चलाते हैं। वे जानते हैं कि आपकी कमजोरियों से कैसे फायदा उठाया जाए, या आपकी सहानुभूति कैसे जीती जाए, और वे आपको उन्हें पैसे भेजने या बेहतर जीवन के लिए अमेरिका आने का लालच देते हैं। कुछ ऐसे भी होंगे जो मुसलमान भी नही होते हैं, लेकिन मुसलमान होने का दिखावा करते हैं। और तो कुछ पुरुष खुद को महिला होने का दिखावा कर सकते हैं। आपको सावधान रहना चाहिए कि विदेश में किसी को पैसा न भेजें। यदि आप ऐसा करते हैं, तो आपको कम से कम यह समझने की आवश्यकता है कि इसका उपयोग आपके उद्देश्य के लिए नहीं हो सकता है। सावधान रहें कि अधिक प्रोफाइल व्यू के लिए लोगों द्वारा झूठ बोलना और स्वयं को गलत तरीके से प्रस्तुत करना आम बात है।

यदि आप अपने देश के बाहर किसी से शादी करने का फैसला करते हैं, तो सांस्कृतिक अंतर बहुत अधिक होंगे, और आप किसी ऐसे व्यक्ति की सलाह माने जिसने वैवाहिक वेबसाइटों का सफलतापूर्वक उपयोग किया हो और उसके माध्यम से आपको आगे बढ़ने में मदद मिले।

पाठ उपकरण
बेकार श्रेष्ठ
असफल! बाद में पुन: प्रयास। आपकी रेटिंग के लिए धन्यवाद।
हमें प्रतिक्रिया दे या कोई प्रश्न पूछें

इस पाठ पर टिप्पणी करें: विवाह सलाह (2 का भाग 2): व्यावहारिक कदम

तारांकित (*) फील्ड आवश्यक हैं।'

उपलब्ध लाइव चैट के माध्यम से भी पूछ सकते हैं। यहाँ.
अन्य पाठ स्तर 5