लोड हो रहा है...
फ़ॉन्ट का आकारv: इस लेख के फ़ॉन्ट का आकार बढ़ाएं फ़ॉन्ट का डिफ़ॉल्ट आकार इस लेख के फॉन्ट का साइज घटाएं
लेख टूल पर जाएं

अल्लाह की दया (2 का भाग 1)

रेटिंग:

विवरण: अल्लाह की दया के अर्थ की एक संक्षिप्त व्यख्या और यह कैसे हमारे जीवन के हर पहलू में है, जिसमें अल्लाह की दया के कुछ संकेतों का विवरण भी शामिल है।

द्वारा Aisha Stacey (© 2012 IslamReligion.com)

प्रकाशित हुआ 08 Nov 2022 - अंतिम बार संशोधित 07 Nov 2022

प्रिंट किया गया: 21 - ईमेल भेजा गया: 0 - देखा गया: 1,778 (दैनिक औसत: 3)


उद्देश्य:

·अल्लाह की दया की विशालता को समझना।

·रोजमर्रा की जिंदगी में अल्लाह की दया के संकेतों को पहचानना।

अरबी शब्द:

·बिस्मिल्लाह - शाब्दिक रूप से 'मैं अल्लाह के नाम से शुरू करता हूं'।

·रहमान - दया का गुण जो अल्लाह के पास पूरी सृष्टि के लिए है, जो आशीर्वाद के अंतहीन प्रवाह के साथ ब्रह्मांड को बनाए रखता है।

·रहीम - इसका एक अधिक विशिष्ट अर्थ है, यह विशेष रूप से न्याय के दिन एक आस्तिक पर अल्लाह की दया को संदर्भित करता है। '...तथा आस्तिकों पर अत्यंत दयावान् है। (क़ुरआन 33:43)

·हज - मक्का की तीर्थयात्रा जहां तीर्थयात्री अनुष्ठानों का एक सेट करता है। हज इस्लाम के पांच स्तंभों में से एक है, जिसे हर वयस्क मुसलमान को अपने जीवन में कम से कम एक बार अवश्य करना चाहिए यदि वे इसे वहन कर सकते हैं और शारीरिक रूप से सक्षम हैं।

·रमजान - इस्लामी चंद्र कैलेंडर का नौवां महीना। यह वह महीना है जिसमें अनिवार्य उपवास निर्धारित किया गया है।

Mercy_of_Allah1.jpgबिस्मिल्लाह अर-रहमान अर-रहीम। मैं अल्लाह के नाम से शुरू करता हूं, जो अत्यन्त कृपाशील तथा दयावान् है। यह एक ऐसा वाक्यांश है जिसे हम हर दिन, दिन में कई बार कहते हैं। हालांकि कभी-कभी हम भूल जाते हैं कि यह कितना शक्तिशाली वाक्यांश है और हम भूल जाते हैं कि दया अल्लाह की विशेषताओं में से एक है, और यह कि हम, अपूर्ण मनुष्य के रूप में, लगातार अल्लाह के आशीर्वाद पर निर्भर हैं।

अल्लाह अत्यन्त कृपाशील तथा दयावान् है, उसकी दया मे सभी चीज़ें शामिल है, और वह संसार में मौजूद सभी दया और कृपा का स्रोत है। "और मेरी दया प्रत्येक चीज़ को समोये हुए है..." (क़ुरआन 7:156)

अंग्रेजी में दया शब्द के कई अर्थ हैं जिनमें करुणा, क्षमा, दया और कोमलता शामिल हैं। अरबी में, दया के लिए शब्द रहमा है; अर-रहमान और अर-रहीम, अल्लाह के दो सबसे महत्वपूर्ण नाम इस मूल शब्द से निकले हैं। अल्लाह की दया वह ईश्वरीय गुण है जो नम्रता, देखभाल, विचार, प्रेम और क्षमा का भी प्रतीक है। इस दुनिया में देखा जाने वाला ये गुण, अल्लाह का उसकी रचना के प्रति दया का एक प्रतिबिंब मात्र हैं।

पैगंबर मुहम्मद (उन पर अल्लाह की दया और आशीर्वाद हो) ने हमें बताया कि कोई मां अपने बच्चे के प्रति जितनी दयालु होती है, अल्लाह अपने दासों के प्रति उससे अधिक दयालु है,[1] और वास्तव में, दया और गर्भ का अरबी शब्द एक ही मूल शब्द से लिया गया है - रहमा। यह अल्लाह की दया और गर्भ के बीच अनोखे संबंध का संकेत है। अल्लाह हमारा पालन-पोषण करता है और हमें आश्रय देता है, जैसे गर्भ अजन्मे बच्चे का पालन-पोषण और आश्रय करता है। क़ुरआन में, प्रामाणिक सुन्नत में और पूरी दुनिया में अल्लाह की अपनी रचना के लिए दया के कई संकेत हैं।

अल्लाह की दया के कुछ संकेत

·पैगंबर और दूत।

अल्लाह ने पैगंबरो और दूतों को हमारा मार्गदर्शन करने और हमें अल्लाह के सीधे रास्ते पर बने रहने में मदद करने के लिए भेजा, वह रास्ता जो अनन्त स्वर्ग की ओर ले जाता है। सभी पैगंबर और दूत नश्वर इंसान थे, जिन्हे अलग-अलग देशों में अलग-अलग समय पर भेजा गया, लेकिन उनका संदेश एक ही था - एक ईश्वर की पूजा करना और किसी चीज या किसी व्यक्ति को उसका साझी न बनाना। इस जीवन में और अगले जीवन में सफलता और खुशी के लिए उन्होंने लोगों को जीवन जीने का सबसे अच्छा तरीका बताया।

पैगंबर मुहम्मद उनमें से अंतिम होने के नाते, सभी मानवजाति के लिए भेजे गए थे। उन्हें एक संदेश के साथ भेजा गया था जो सभी लोगों के लिए, हर जगह, हर समय उपयुक्त था। अल्लाह पैगंबर को मानवजाति पर दया के रूप में वर्णित करता है। महान अल्लाह कहता हैं:

“और (ऐ पैगंबर!) हमने आपको नहीं भेजा है, किन्तु समस्त संसार के लिए दया बना कर।” (क़ुरआन 21:107)

पैगंबर मुहम्मद दया के अवतार थे। उन्होंने उन सभी के प्रति नम्रता और करुणा दिखाई जो उनके संपर्क में आये थे; जैसे उनका परिवार, अनाथ, दोस्त, गुलाम और अजनबी।

“और अल्लाह की दया के कारण ही आप उनके लिए कोमल (सुशील) हो गये और यदि आप अक्खड़ तथा कड़े दिल के होते, तो वे आपके पास से बिखर जाते। अतः, उन्हें क्षमा कर दो और उनके लिए क्षमा की प्रार्थना करो...” (क़ुरआन 3:159)

·क़ुरआन

क़ुरआन मानवता के लिए अल्लाह का सबसे बड़ा उपहार है - इसके जैसी कोई और किताब नही है। क़ुरआन मानवजाति को नैतिकता के उच्च मानकों के लिए मार्गदर्शन करता है और उन्हें सर्वोत्तम इंसान बनने का प्रयास करने के लिए प्रोत्साहित करता है। जब भी जीवन बहुत कठिन हो जाता है या हम चोट, बीमारी या दुख से घिरे होते हैं, तो क़ुरआन हमारे रास्ते को रोशन करता है और हमारे बोझ को हल्का करता है। यह सांत्वना और आराम का स्रोत है। यह मानवजाति के लिए एक दया है।

“और हमने (ऐ मुहम्मद) आप पर ये पुस्तक (क़ुरआन) इसी लिए उतारी है, ताकि आप उनके लिए उसे उजागर कर दें, जिसमें वे विभेद कर रहे हैं तथा मार्गदर्शन और दया है, उन लोगों के लिए, जो विश्वास करते हैं।” (क़ुरआन 16:64)

“तथा ये पुस्तक (क़ुरआन) हमने अवतरित की है, ये बड़ा शुभकारी है, अतः इसपर चलो और अल्लाह से डरते रहो, ताकि तुमपर दया की जाये।”(क़ुरआन 6:155)

·पूजा के मामलों में नरमी।

इस्लाम सिखाता है कि जीवन का हर एक पहलू पूजा का कार्य हो सकता है। खाने-पीने से लेकर सोने और शौचालय जाने तक सब कुछ इस तरह से किया जा सकता है जिससे अल्लाह खुश हो। इस्लाम एक ऐसी आस्था है जो लचीला, उदार और दयालु है।

उदाहरण के लिए, यदि कोई आस्तिक बीमार है और रमज़ान के महीने में उपवास नहीं रख सकता है, तो उस पर उपवास रखना अनिवार्य नहीं है। वास्तव में उसे उपवास न करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है। इसी तरह यदि कोई मुसलमान शारीरिक या आर्थिक कठिनाइयों के कारण हज नहीं कर सकता है तो उसे ऐसा करने से छूट दी जाती है। यह अल्लाह की दया ही है जो एक मुस्लिम यात्री को यात्रा करते समय प्रार्थनाओं को इकठ्ठा करने की अनुमति देता है, क्योंकि प्रार्थना करने के लिए हर कुछ घंटों में रुकना यात्रा को लंबा और अधिक कठिन बना सकता है।

दया अल्लाह के सबसे बड़े गुणों में से एक है। यह उन लोगों के लिए है जो अल्लाह पर विश्वास रखते हैं ताकि वे जो कुछ भी करें और कहें तो अल्लाह उन पर दया करे।

“...अल्लाह ही सर्वाधिक दयावान् है!” (क़ुरआन 12: 92)

पैगंबर मुहम्मद ने अपने साथियों से दया की गुणवत्ता की व्याख्या करते हुए कहा कि ईश्वर ने अपनी दया को सौ भागों में विभाजित किया है और एक हिस्से को सृष्टि के बीच रख दिया। यही कारण है कि लोग एक-दूसरे के प्रति दयालु और कृपालु होते हैं और जंगली जानवर अपनी संतानों के साथ नम्रता से पेश आते हैं। हालांकि, ईश्वर ने अन्य 99 भागों को न्याय के दिन विश्वासियों के ऊपर दया करने के लिए रख लिया है।[2]



फुटनोट:

[1] सहीह मुस्लिम, सहीह अल-बुखारी

[2] सहीह मुस्लिम

प्रश्नोत्तरी और त्वरित नेविगेशन
पाठ उपकरण
बेकार श्रेष्ठ
असफल! बाद में पुन: प्रयास। आपकी रेटिंग के लिए धन्यवाद।
हमें प्रतिक्रिया दे या कोई प्रश्न पूछें

इस पाठ पर टिप्पणी करें: अल्लाह की दया (2 का भाग 1)

तारांकित (*) फील्ड आवश्यक हैं।'

उपलब्ध लाइव चैट के माध्यम से भी पूछ सकते हैं। यहाँ.
अन्य पाठ स्तर 4