भाषाएं

स्तर

श्रेणियाँ

चैट के माध्यम से लाइव सहायता

 

इस साइट के बारे में

न्यू मुस्लिम ई-लर्निंग साइट में आपका स्वागत है। यह नए मुस्लिम धर्मान्तरित लोगों के लिए है जो अपने नए धर्म को आसान और व्यवस्थित तरीके से सीखना चाहते हैं। इसमे पाठों को स्तरों के अंतर्गत संयोजित किए गया है। तो पहले आप स्तर 1 के तहत पाठ 1 पर जाएं। इसका अध्ययन करें और फिर इसकी प्रश्नोत्तरी करें। जब आप इसे पास कर लें तो पाठ 2 वगैरह पर आगे बढ़ें। शुभकामनाएं।

यहां से प्रारंभ करें

आपको पंजीकरण करने की सलाह दी जाती है ताकि आपके प्रश्नोत्तरी ग्रेड और प्रगति को सेव किया जा सकें। इसलिए पहले यहां पंजीकरण करें, फिर स्तर 1 के अंतर्गत पाठ 1 से शुरू करें और वहां से अगले पाठ की ओर बढ़ें। अपनी सुविधा अनुसार पढ़ें। जब भी आप इस साइट पर वापस आएं, तो बस "मैंने जहां तक पढ़ा था मुझे वहां ले चलें" बटन (केवल पंजीकृत उपयोगकर्ताओं के लिए उपलब्ध) पर क्लिक करें।

फ़ॉन्ट का आकार: इस लेख के फ़ॉन्ट का आकार बढ़ाएं फ़ॉन्ट का डिफ़ॉल्ट आकार इस लेख के फॉन्ट का साइज घटाएं
लेख टूल पर जाएं

इस्लामी पहनावा (3 का भाग 1)

विवरण: इस पाठ में हम हिजाब का अर्थ समझेंगे और पुरुषों और महिलाओं दोनों के पहनावे के बारे में जानेंगे। हम इस्लामी पहनावे के उद्देश्य पर भी चर्चा करेंगे और समझेंगे कि कैसे यह समाज की रक्षा करने में मदद करता है और स्वस्थ संबंधों को बनाए रखता है।

द्वारा Aisha Stacey (© 2012 IslamReligion.com)

प्रकाशित हुआ 08 Nov 2022 - अंतिम बार संशोधित 07 Nov 2022

प्रिंट किया गया: 0 - ईमेल भेजा गया: 0 - देखा गया: 191 (दैनिक औसत: 2)

श्रेणी: पाठ > इस्लामी जीवन शैली, नैतिकता और व्यवहार > ड्रेस कोड


 पाठ का उद्देश्य:

पुरुषों और महिलाओं दोनों के पहनावे की शर्तों को जानना और समझना।

अरबी शब्द:

·      अवराह - शरीर के वे अंग जिन्हें ढक कर रखना चाहिए।

·       महरम - वह व्यक्ति जो खून, विवाह या स्तनपान से किसी दूसरे व्यक्ति से संबंधित हो, चाहे पुरुष हो या महिला। किसी महिला/पुरुष को उसके पिता/माता, भतीजे/भतीजी, चाचा/चाची, आदि से शादी करने की अनुमति नहीं है।

·       हया - प्राकृतिक या अंतर्निहित शर्म और विनय की भावना।

·       हिजाब - हिजाब शब्द के कई अलग-अलग अर्थ हैं, जिनमें छुपाना, छुपना और पर्दा शामिल हैं। यह आमतौर पर एक महिला के हेडस्कार्फ़ को संदर्भित करता है और व्यापक रूप से मामूली कपड़ों और व्यवहार को संदर्भित करता है।

IslamicDress01.jpgइस्लाम जीवन जीने का एक संपूर्ण तरीका है, प्रत्येक पहलू को हमारे निर्माता ने खुश और स्वस्थ समुदायों को आगे बढ़ाने और स्वर्ग में शाश्वत आनंद के मार्ग को आसान बनाने के लिए बनाया है। आज के समाज में शालीनता को कमजोरी या असुरक्षा की निशानी माना जाता है। इस्लाम में ऐसा नहीं है, यहां शालीनता को अपने और दूसरों का सम्मान माना जाता है। जिस हया के साथ हर इंसान पैदा होता है उसे क़ीमती चीज़ समझा जाता है। इसलिए इस्लाम में महिलाओं और पुरुषों दोनों के लिए पहनावे का नियम है। इसका उद्देश्य समग्र रूप से समाज की रक्षा करना और मामूली पहनावे और व्यवहार को बढ़ावा देना है। यह लिंगों के बीच एक पर्दा बनाता है और हमें अपने जीवन को मर्यादा, सम्मान और आदर के साथ जीने के योग्य बनाता है।

इस्लाम में महिलाओं को बहुत सम्मान दिया जाता है और पर्दा करने के इस्लामी नियमों का उद्देश्य उनकी गरिमा और सम्मान की रक्षा करना है। पर्दा करने के संबंध में सबसे अधिक इस्तेमाल किया जाने वाला शब्द हिजाब है। इस्लाम के इतिहास में सभी योग्य मुस्लिम विद्वान इस बात से सहमत हैं कि पहनावे की शर्तों को पूरा करना सभी मुस्लिम पुरुषों और महिलाओं का दायित्व है। उन्होंने इन शर्तों को क़ुरआन और सुन्नत में मिले सबूतों पर आधारित किया है। नीचे हिजाब के विषय में क़ुरआन के सबसे प्रसिद्ध छंदो और पैगंबर मुहम्मद का सबसे प्रसिद्ध कथन है।

“ऐ पैगंबर! कह दो अपनी पत्नियों, अपनी पुत्रियों और आस्तिको की स्त्रियों से कि डाल लिया करें अपने ऊपर अपनी चादरें। ये अधिक समीप है कि वे पहचान ली जायें (स्वतंत्र आदरणीय महिला के रूप में)। फिर उन्हें दुःख न दिया जाये और अल्लाह अति क्षमि, दयावान् है। (क़ुरआन 33:59)

और विश्वासी स्त्रियों से कहें कि अपनी आंखे नीची रखें और अपने गुप्तांगों की रक्षा करें (पापों से) और अपनी शोभा और गहनों का प्रदर्शन न करें, सिवाय उसके जो दिखाई दे... (क़ुरआन 24:31)

जब लड़की मासिक धर्म की उम्र तक पहुँच जाती है, तो यह उचित नहीं है कि इसके और इसके अलावा कुछ भी खुला रहे।पैगंबर ने चेहरे और हाथों की ओर इशारा कर के बताया।[1]

महिला का हिजाब

हिजाब का उद्देश्य अवराह को ढंकना है और अवराह अलग-अलग स्थितियों में और लोगों के विभिन्न समूहों मे अलग होता है।

हम सार्वजनिक रूप से और गैर- महरम पुरुषों के बीच एक महिला के लिए हिजाब पहनने की शर्तों से शुरू करते हैं। इन शर्तो को पूरा करने के बाद, महिला जो चाहे वह पहन सकती है।

1.     हिजाब (आवरण) चेहरे और हाथों को छोड़कर पूरे शरीर को ढकने वाला होना चाहिए।

2.     यह पारदर्शी या टाइट नहीं होना चाहिए। टाइट कपड़े भले ही त्वचा के रंग को छिपाते हैं, लेकिन फिर भी ये शरीर या उसके भाग के माप और आकार को दिखाते हैं, और सुस्पष्ट चित्र बनाते हैं।

3.     यह विपरीत लिंग का ध्यान आकर्षित करने वाला नहीं होना चाहिए; इसलिए यह असाधारण या अत्यधिक भव्य नहीं होना चाहिए। न ही ज्वैलरी और मेकअप दिखना चाहिए।

4.     यह घमंड या लोकप्रियता या प्रसिद्धि पाने के लिए पहना जाने वाला वस्त्र नहीं होना चाहिए। पैगंबर की महिला साथी काले और अन्य गहरा रंग पहनती थीं लेकिन अन्य रंगों को पहनने की भी अनुमति है; एक महिला को घमंड के कारण रंगीन कपड़े नहीं पहनने चाहिए।

5.     इसमें परफ्यूम नहीं लगाना चाहिए। यह निषेध शरीर और वस्त्र दोनों पर लागू होता है।

6.     यह पुरुषों द्वारा पहने जाने वाले कपड़ों से मिलता-जुलता नहीं होना चाहिए।

7.     यह गैर-मुस्लिमों के विशिष्ट कपड़ों से मिलता-जुलता नहीं होना चाहिए।

पुरुषों का पहनावा

आप विश्वासियों से कहें कि अपनी आंखे नीची रखें और अपने गुप्तांगों की रक्षा करें (पापों से)। ये उनके लिए अधिक पवित्र है, वास्तव में, अल्लाह भली-भांति परिचित है उससे, जो कुछ वे कर रहे हैं। (क़ुरआन 24:30)

पुरुषों के पहनावे की भी शर्ते हैं, हालांकि इन्हे कभी-कभी अनदेखा कर दिया जाता है या अच्छी तरह से नहीं समझा जाता है। कुछ शर्तें महिलाओं के शर्तो के समान हैं, लेकिन अन्य विशेष रूप से पुरुषों से संबंधित हैं।

1.     नाभि से घुटनों तक का शरीर का हिस्सा ढका होना चाहिए।

2.     यह गैर-मुस्लिमों के विशिष्ट कपड़ों से मिलता-जुलता नहीं होना चाहिए। पश्चिमी कपड़े जो एक निश्चित समूह या संप्रदाय को नही दर्शाते हैं, उन्हें आमतौर पर अनुमति दी जाती है।

3.     यह महिलाओं द्वारा पहने जाने वाले कपड़ों से मिलता जुलता नहीं होना चाहिए।

4.     यह टाइट या पारदर्शी नहीं होना चाहिए।

5.     पुरषों को रेशम से बने वस्त्र, या सोने से बने आभूषण पहनने की अनुमति नहीं है।

6.     पुरुषों के लिए दो तरह के अलंकरण वर्जित हैं लेकिन महिलाओं के लिए इनकी अनुमति है। वे हैं, सोना और शुद्ध रेशम से बने वस्त्र।

इस्लाम के विद्वान पूर्ण रूप से सहमत हैं कि किसी के भी सामने पुरुषों की नाभि से घुटनों तक (घुटनों सहित) ढंका होना चाहिए। इसका एकमात्र अपवाद उसकी अपनी पत्नी है।

अंत में, पुरुषों को यह सुझाव दिया जाता है कि वे ऐसे कपड़े न पहनें जो टखनों से नीचे हों।

अगले पाठ में हम अवराह की परिभाषा और अधिक बारीकी से समझेंगे और इस तथ्य पर चर्चा करेंगे कि अवराह के नियम स्थिति के अनुसार बदलते हैं।



फुटनोट:

[1] अबू दाऊद

पाठ उपकरण
बेकारश्रेष्ठ  रेटिंग दें
| More
हमें प्रतिक्रिया दे या कोई प्रश्न पूछें

इसके अलावा आप यहां उपलब्ध लाइव चैट के माध्यम से भी पूछ सकते हैं।

इस स्तर के अन्य पाठ 4